Home   »   ईरानी फिल्म ‘नारगेसी’ ने इफ्फी 53...

ईरानी फिल्म ‘नारगेसी’ ने इफ्फी 53 में आईसीएफटी-यूनेस्को गांधी पदक जीता

ईरानी फिल्म ‘नारगेसी’ ने इफ्फी 53 में आईसीएफटी-यूनेस्को गांधी पदक जीता_3.1

ईरानी फिल्म नारगेसी ने भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के 53वें संस्करण में आईसीएफटी-यूनेस्को गांधी पदक जीता है, जो एक ऐसी फिल्म के लिए दिया गया है जो महात्मा गांधी के शांति, सहिष्णुता और अहिंसा के आदर्शों को दर्शाती है। फिल्म का निर्देशन पायम असकंदरी ने किया है। यह फिल्म डाउन सिंड्रोम से पीड़ित एक व्यक्ति और उसके जीवन में इसके कारण पैदा होने वाली समस्याएं और परिणामों के बारे में है। इस पुरस्कार विजेता फिल्म में करुणा और कोमलता दो गुण दर्शाए गए हैं।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

इस वर्ष, आईसीएफटी-यूनेस्को गांधी पदक की प्रतिस्पर्धा में दुनिया भर से नौ फिल्मों का चयन किया गया था। इस श्रेणी की प्रतिस्पर्धा में शामिल फिल्में निम्नलिखित हैं:

ए टेल ऑफ़ टू सिस्टर्स (बांग्लादेश | 2022)
फॉर्च्यून (ताजिकिस्तान | 2022)
मदर (बुल्गारिया | 2022)
नानू कुसुमा (भारत | 2022)
नरगेसी (ईरान | 2021)
पालोमा (ब्राजील, पुर्तगाल | 2022)
सऊदी वेल्लक्का (भारत | 2022)
द कश्मीर फाइल्स (भारत | 2021)
व्हाइट डॉग (कनाडा | 2022)

 

इफ्फी में हर साल, आईसीएफटी पेरिस और यूनेस्को संयुक्त रूप से एक फिल्म को गांधी पदक प्रदान करते हैं। आईसीएफटी यूनेस्को गांधी पुरस्कार के लिए प्रतिस्पर्धा करने वाली फिल्मों को पहले इफ्फी में दिखाया जाता है और फिर आईसीएफटी जूरी यूनेस्को के आदर्शों के आधार पर फिल्मों का मूल्यांकन करती है।

 

यूनेस्को ने 1994 में महात्मा गांधी की 125वीं जयंती के अवसर पर स्मारक पदक जारी किया था। तब से आईसीएफटी यूनेस्को गांधी पुरस्कार उस फिल्म को दिया जाने लगा जो महात्मा गांधी के शांति, सहिष्णुता और अहिंसा के आदर्शों को सबसे अच्छी तरह से दर्शाती है।

 

फिल्म के बारे में: नारगेसी

 

ईरान । 2021 । फारसी । 84 मिनट । रंगीन

 

कलाकार और टीम

 

निर्देशक और पटकथा लेखक: पयाम असकंदरी

 

निर्माता: शहाब हुसैनी

 

डीओपी: मोहम्मद नमदार

 

कलाकार: हुसैन असकंदरी, शहाब हुसैनी, गजल नजर

 

साऱांश

 

फिल्म में डाउन सिंड्रोम के साथ एक इंसान के संघर्ष को दिखाया गया है, जिसकी सबसे बड़ी तमन्ना सच्चा प्यार पाने और शादी करने की होती है। इसके लिए वह कुछ भी करने का प्रयास करता है। हालांकि ऐसा लगता है कि आज की दुनिया में उसके और उसके प्यार के लिए कोई जगह नहीं है। इसी दौरान एक उपहार उसकी जिंदगी को बदलकर रख देता है।

Find More Awards News Here

 

Chhatrapati Shivaji Maharaj Vastu Sangrahalaya wins UNESCO Award_90.1

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *