Home   »   अनुसंधान सहयोग को बढ़ाने के लिए...

अनुसंधान सहयोग को बढ़ाने के लिए आई-एसटीईएम करेगा ‘समावेश’ का अनावरण

अनुसंधान सहयोग को बढ़ाने के लिए आई-एसटीईएम करेगा 'समावेश' का अनावरण |_30.1

आई-एसटीईएम, भारतीय विज्ञान, प्रौद्योगिकी और इंजीनियरिंग सुविधाओं का मानचित्र, देश भर में अनुसंधान सहयोग में क्रांति लाने के लिए एक अभूतपूर्व परियोजना ‘समावेश’ की शुरुआत कर रहा है।

भारतीय विज्ञान, प्रौद्योगिकी और इंजीनियरिंग सुविधाओं का मानचित्र, जिसे आई-एसटीईएम के नाम से जाना जाता है, ‘समावेश’ नामक एक अभूतपूर्व पहल शुरू करने के लिए तैयार है। भारत सरकार के प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार कार्यालय के नेतृत्व में इस महत्वाकांक्षी परियोजना का उद्देश्य वैज्ञानिक सुविधाओं और प्रयोगशालाओं तक आसान पहुंच की सुविधा प्रदान करके देश में अनुसंधान सहयोग को बदलना है।

आईआईएससी, बेंगलुरु में ‘समावेश’ का उद्घाटन समारोह

‘समावेश’ का उद्घाटन समारोह बेंगलुरु के प्रतिष्ठित भारतीय विज्ञान संस्थान (आईआईएससी) में होने वाला है। परियोजना का मुख्य उद्देश्य राष्ट्रव्यापी स्तर पर अनुसंधान संसाधनों के उपयोग को अनुकूलित करना है। 2024 में, आई-एसटीईएम ने पूरे भारत में लगभग 50 ‘समावेश’ कार्यक्रम आयोजित करने की योजना बनाई है।

ऑनलाइन पोर्टल के माध्यम से शोधकर्ताओं को जोड़ना

परियोजना का एक महत्वपूर्ण पहलू एक ऑनलाइन पोर्टल की स्थापना है जो शोधकर्ताओं और उद्योगों को वैज्ञानिक संस्थानों से जोड़ेगा। आई-एसटीईएम पोर्टल के माध्यम से, उन्नत वैज्ञानिक उपकरण चाहने वाले व्यक्ति वांछित उपकरण रखने वाले संस्थानों से सहजता से जुड़ सकते हैं, जिससे वे इसे अपने प्रयोगों के लिए किराए पर ले सकेंगे।

आई-एसटीईएम का विजन

आई-एसटीईएम का व्यापक दृष्टिकोण एक ऐसे भविष्य को बढ़ावा देना है जहां नवोन्वेषी विचारों वाले दस लाख नए जमाने के शोधकर्ता पूरे भारत में 10,000 अत्याधुनिक प्रयोगशालाओं के नेटवर्क से जुड़े हों। 2024 तक, आई-एसटीईएम का लक्ष्य न केवल व्यक्तियों को उपकरणों से जोड़ना है बल्कि एक सहयोगी पारिस्थितिकी तंत्र विकसित करना है जहां स्टार्टअप, उद्योग और शिक्षाविद सामूहिक रूप से नवाचार की अगली लहर में योगदान करते हैं।

आर्थिक लाभ और संसाधन अनुकूलन

यह सहयोगात्मक दृष्टिकोण उन्नत उपकरणों की खरीद से जुड़े निषेधात्मक पूंजीगत व्यय को समाप्त करता है। राष्ट्रीय स्तर पर, यह अनुसंधान संस्थानों के भीतर संसाधनों के दोहराव को रोकता है, जिससे संसाधनों का अधिक कुशल उपयोग होता है।

‘समावेश’ का महत्व

आई-एसटीईएम के मुख्य परिचालन अधिकारी और राष्ट्रीय समन्वयक डॉ. हरिलाल भास्कर ने ‘समावेश’ के महत्व पर जोर देते हुए कहा, ”समावेश गायब घटक – निर्बाध कनेक्शन, साझा संसाधन और एक राष्ट्रव्यापी अनुसंधान उछाल को उजागर करता है। छिपी हुई प्रयोगशालाओं से लेकर अभूतपूर्व स्थलों तक, समावेषा दिमागों को सशक्त बनाती है, ताकतों को एकजुट करती है और सहयोगात्मक सफलताओं का भविष्य बनाती है।

उद्देश्य और भविष्य का प्रभाव

प्राथमिक उद्देश्य पूरे भारत में नए युग के शोधकर्ताओं, स्टार्टअप और उद्योगों को उन्नत और महंगे अनुसंधान बुनियादी ढांचे तक पहुंच प्रदान करना और नवाचार को बढ़ावा देना है। आई-एसटीईएम एक ऐसे भविष्य की कल्पना करता है जहां शोधकर्ताओं के पास अत्याधुनिक सुविधाओं तक अद्वितीय पहुंच हो, जिससे अनुसंधान और स्वदेशी उत्पाद नवाचार में वृद्धि होगी।

‘समावेश’ का अपेक्षित प्रभाव

1) स्वदेशी उत्पाद नवाचार में वृद्धि: सहयोगात्मक तालमेल से नवाचार को उल्लेखनीय रूप से बढ़ावा मिलने की उम्मीद है।
2) ज्ञान विनिमय पारिस्थितिकी तंत्र: ‘समावेश’ एक समृद्ध ज्ञान विनिमय वातावरण बनाने, अनुसंधान और विकास को बढ़ावा देने का प्रयास करता है।
3) राष्ट्रीय प्रगति: पहुंच बाधाओं को तोड़ते हुए, यह आयोजन भारत को अभूतपूर्व खोजों और घरेलू प्रगति का केंद्र बनाने की आकांक्षा रखता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. ‘समावेश’ का लॉन्च इवेंट कहाँ होने वाला है?
2. ‘समावेश’ परियोजना का मुख्य उद्देश्य क्या है?
3. आई-एसटीईएम पोर्टल का उद्देश्य शोधकर्ताओं और उद्योगों को किससे जोड़ना है?

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

अनुसंधान सहयोग को बढ़ाने के लिए आई-एसटीईएम करेगा 'समावेश' का अनावरण |_40.1

FAQs

भारत में (Lok Sabha) लोकसभा का (Elections) चुनाव इनमें से कौन कराता है?

निर्वाचन आयोग (Election Commission)

TOPICS: