gdfgerwgt34t24tfdv
Home   »   भारत का पहला रीजनल रैपिड ट्रांजिट...

भारत का पहला रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) यूपी में लॉन्च किया जाएगा

भारत का पहला रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) यूपी में लॉन्च किया जाएगा |_3.1

पीएम नरेंद्र मोदी साहिबाबाद को दुहाई डिपो से जोड़ने वाली रैपिडएक्स ट्रेन का उद्घाटन करेंगे। यह रैपिडएक्स ट्रेन, उत्तर प्रदेश में भारत के पहले क्षेत्रीय रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) के आरंभ का प्रतीक है।

India's First Regional Rapid Transit System (RRTS) To Be Launched In UP_50.1

प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी भारत के परिवहन परिदृश्य में एक ऐतिहासिक पल को चिह्नित करने के लिए पूर्णतः तैयार हैं क्योंकि वह दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ क्षेत्रीय रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) कॉरिडोर के प्राथमिकता खंड का उद्घाटन करेंगे और साथ ही साहिबाबाद को दुहाई डिपो से जोड़ने वाली रैपिडएक्स ट्रेन का शुभारंभ करेंगे। यह कॉरिडोर भारत में आरआरटीएस परिचालन की शुरुआत का प्रतीक है। यह आयोजन 20 अक्टूबर, 2023 को उत्तर प्रदेश के साहिबाबाद रैपिडएक्स स्टेशन पर होगा।

इसके अतिरिक्त, प्रधान मंत्री बेंगलुरु मेट्रो के पूर्व-पश्चिम कॉरिडोर के दो हिस्सों को राष्ट्र को समर्पित करेंगे।

दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर

17 किलोमीटर तक फैला दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर का प्रायोरिटी सेक्शन, भारत के परिवहन बुनियादी ढांचे में एक महत्वपूर्ण विकास है।

यह सेक्शन साहिबाबाद को रास्ते में गाजियाबाद, गुलधर और दुहाई स्टेशनों के साथ जोड़ते हुए ‘दुहाई डिपो’ से जोड़ेगा। 

दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ कॉरिडोर की आधारशिला प्रधानमंत्री ने 8 मार्च, 2019 को रखी थी। 

आरआरटीएस परियोजना के पीछे का दृष्टिकोण और नवाचार

यह परियोजना विश्व स्तरीय परिवहन बुनियादी ढांचे के निर्माण के माध्यम से क्षेत्रीय कनेक्टिविटी में क्रांति लाने के प्रधान मंत्री मोदी के दृष्टिकोण के साथ पूर्णतः मेल खाती है। आरआरटीएस को एक नई रेल-आधारित, अर्ध-उच्च गति, उच्च आवृत्ति कम्यूटर ट्रांज़िट प्रणाली के रूप में डिज़ाइन किया गया है। 180 किलोमीटर प्रति घंटे की उल्लेखनीय डिजाइन गति के साथ, आरआरटीएस का लक्ष्य हर 15 मिनट में इंटरसिटी आवागमन के लिए हाई-स्पीड ट्रेनें प्रदान करना है, जिसमें मांग के आधार पर प्रत्येक 5 मिनट में आवृत्ति बढ़ाने की क्षमता है।

भारत के राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में आरआरटीएस कॉरिडोर को प्राथमिकता देना

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र (एनसीआर) में, विकास के लिए कुल आठ आरआरटीएस कॉरिडोर की पहचान की गई है, जिनमें से तीन को चरण- I कार्यान्वयन के लिए प्राथमिकता दी गई है। इन तीन कॉरिडोर में दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ कॉरिडोर, दिल्ली-गुरुग्राम-एसएनबी-अलवर कॉरिडोर और दिल्ली-पानीपत कॉरिडोर सम्मिलित हैं। दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस को 30,000 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से विकसित किया जा रहा है, और यह गाजियाबाद, मुरादनगर और मोदीनगर जैसे शहरी केंद्रों से गुजरते हुए दिल्ली और मेरठ के बीच यात्रा के समय को एक घंटे से भी कम कर देगा।

भारत की अत्याधुनिक आरआरटीएस प्रणाली और इसके बहुआयामी लाभ

भारत में विकसित की जा रही आरआरटीएस प्रणाली अत्याधुनिक है, जो दुनिया में सर्वश्रेष्ठ के बराबर है। यह देश के लिए सुरक्षित, विश्वसनीय और आधुनिक इंटरसिटी आवागमन समाधान का वादा करता है। पीएम गतिशक्ति राष्ट्रीय मास्टर प्लान के अनुरूप, आरआरटीएस नेटवर्क में रेलवे स्टेशनों, मेट्रो स्टेशनों, बस सेवाओं और अन्य के साथ व्यापक मल्टी-मॉडल एकीकरण होगा।

आर्थिक विकास, पहुंच और स्थिरता पर क्षेत्रीय गतिशीलता का प्रभाव

ये परिवर्तनकारी क्षेत्रीय गतिशीलता समाधान क्षेत्र में आर्थिक गतिविधि को प्रोत्साहित करेंगे, रोजगार, शिक्षा और स्वास्थ्य देखभाल के अवसरों तक पहुंच में सुधार करेंगे और वाहनों की भीड़ और वायु प्रदूषण को कम करने में महत्वपूर्ण योगदान देंगे।

बेंगलुरु मेट्रो

दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर के उद्घाटन के अलावा, प्रधान मंत्री मोदी औपचारिक रूप से बेंगलुरु मेट्रो के दो हिस्सों को राष्ट्र को समर्पित करेंगे। ये खंड बैयप्पनहल्ली को कृष्णराजपुरा और केंगेरी को चैल्लाघट्टा से जोड़ते हैं।

इन मेट्रो खंडों ने औपचारिक उद्घाटन की प्रतीक्षा किए बिना, 9 अक्टूबर, 2023 से सार्वजनिक सेवा प्रदान करना शुरू कर दिया। इसका उद्देश्य क्षेत्र में सार्वजनिक परिवहन की सुविधा को बढ़ाना है।

FAQs

सरस्वती सम्मान 2022’ प्राप्त करने वाले शिवशंकरी किस भाषा के प्रसिद्ध लेखक हैं?

तमिल

TOPICS: