Home   »   हिंदी पत्रकारिता दिवस 2024 : महत्व...

हिंदी पत्रकारिता दिवस 2024 : महत्व और प्रभाव

हिंदी पत्रकारिता दिवस 2024 : महत्व और प्रभाव_3.1
हिंदी पत्रकारिता दिवस
को हर साल 30 मई को मनाया जाता है। इस साल, यह अवसर गुरुवार, 30 मई 2024 को पड़ रहा है। हिंदी पत्रकारिता की जड़ें भारत में प्रकाशित पहले हिंदी अखबार उदंत मार्तंड के प्रकाशन से जुड़ी हैं। ब्रिटिश शासन के दौरान, उदंत मार्तंड को 30 मई, 1826 को कोलकाता में प्रकाशित किया गया था, जिससे देश में हिंदी पत्रकारिता का आरंभ हुआ।

महत्व और प्रभाव

हिंदी पत्रकारिता दिवस का महत्व हिंदी पत्रकारिता और समर्पित पत्रकारों के योगदान का सम्मान करने में निहित है जो देश के नागरिकों को सटीक और समय पर जानकारी प्रदान करने के लिए अथक प्रयास करते हैं।

हिंदी पत्रकारिता ने उन लोगों के दरवाजे तक समाचार पहुंचाया जो अंग्रेजी नहीं समझते थे, उन्हें सूचना तक पहुंच के साथ सशक्त बनाया और उन्हें विभिन्न मामलों पर सूचित राय बनाने में सक्षम बनाया। यह दिन भाषा की बाधा को पाटने और ज्ञान के व्यापक प्रसार को सुनिश्चित करने में क्षेत्रीय मीडिया द्वारा निभाई गई महत्वपूर्ण भूमिका की याद दिलाता है।

भारत जैसे विविधतापूर्ण देश में, जहां भाषाएं और बोलियां अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग हैं, स्थानीय पत्रकारिता के महत्व को नकारा नहीं जा सकता। यह न केवल समावेशिता को बढ़ावा देता है बल्कि साक्षरता, जागरूकता और एक अच्छी तरह से सूचित समाज को भी बढ़ावा देता है, जो एक स्वस्थ लोकतंत्र के कामकाज के लिए महत्वपूर्ण है।

लोकतंत्र का प्रमुख आधार

मीडिया को अक्सर लोकतंत्र के चौथे स्तंभ के रूप में जाना जाता है, और पत्रकारिता यह सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है कि हम राज्य की वर्तमान घटनाओं के बारे में अच्छी तरह से जानें। पत्रकार जितनी जल्दी हो सके हमारे दरवाजे पर समाचार और सूचना पहुंचाने के लिए दिन-रात अथक परिश्रम करते हैं। चाहे वह एक समाचार पत्र हो, एक टीवी चैनल हो, या सोशल मीडिया का लगातार बढ़ता दायरा हो, पत्रकारिता जनता की राय को आकार देने और प्रभावित करने की शक्ति रखती है।

वर्नाक्यूलर जर्नलिज्म: लैंग्वेज बैरियर को पाटना

हिंदी पत्रकारिता, या स्थानीय पत्रकारिता ने देश भर के लोगों को उस भाषा में जानकारी और वर्तमान मामलों तक पहुंचने में सक्षम बनाया है, जिसके साथ वे सबसे अधिक सहज हैं। इसने हर दरवाजे पर सूचना का प्रसार किया है, नागरिकों को ज्ञान के साथ सशक्त बनाया है और एक सूचित समाज को बढ़ावा दिया है।

हिंदी पत्रकारिता दिवस 2024 : महत्व और प्रभाव_4.1

FAQs

देश में हिंदी पत्रकारिता का आरंभ कब और कैसे हुआ?

टिश शासन के दौरान, उदंत मार्तंड को 30 मई, 1826 को कोलकाता में प्रकाशित किया गया था, जिससे देश में हिंदी पत्रकारिता का आरंभ हुआ।

TOPICS: