Home   »   पिछले सत्र के मुकाबले 2021-22 में...

पिछले सत्र के मुकाबले 2021-22 में उच्च शिक्षा नामांकन में 19 लाख की वृद्धि हुई: सर्वेक्षण

पिछले सत्र के मुकाबले 2021-22 में उच्च शिक्षा नामांकन में 19 लाख की वृद्धि हुई: सर्वेक्षण |_30.1

शिक्षा मंत्रालय द्वारा किए गए सर्वेक्षण के अनुसार, 2021-22 में उच्च शिक्षा में छात्रों का नामांकन लगभग 4.33 करोड़ तक पहुंच गया, जो 2014-2015 के बाद से 26.5 प्रतिशत की वृद्धि है। हाल ही में जारी उच्च शिक्षा पर अखिल भारतीय सर्वेक्षण (एआईएसएचई) के अनुसार, 2014-15 से 341 विश्वविद्यालय और विश्वविद्यालय स्तर के संस्थान स्थापित किए गए हैं।

सर्वेक्षण से यह भी पता चला कि सकल नामांकन अनुपात (जीईआर) 2014-15 में 23.7 से बढ़कर 2021-22 में 28.4 हो गया है। सर्वेक्षण से पता चला कि महिला जीईआर 2014-15 में 22.9 से बढ़कर 2021-22 में 28.5 हो गई है।

 

विभिन्न मापदंडों पर विस्तृत जानकारी

शिक्षा मंत्रालय ने हाल ही में उच्च शिक्षा पर अखिल भारतीय सर्वेक्षण ( एआईएसएचई) 2021-2022 जारी किया था। मंत्रालय 2011 से एआईएसएचई का संचालन कर रहा है। इसमें एआईएसएचई के साथ पंजीकृत देश के सभी उच्च शैक्षणिक संस्थानों (एचईआई) से छात्र नामांकन, शिक्षकों और बुनियादी जानकारी जैसे विभिन्न मापदंडों पर विस्तृत जानकारी इकट्ठा की जाती है।

 

2014-15 में नामांकन 3.42 करोड़

मंत्रालय ने सर्वेक्षण के हवाले से एक बयान में कहा कि उच्च शिक्षा में कुल नामांकन 2020-21 में 4.14 करोड़ से बढ़कर 2021-22 में लगभग 4.33 करोड़ हो गया है। 2014-15 में नामांकन 3.42 करोड़ (26.5%) से लगभग 91 लाख की वृद्धि हुई है। सर्वेक्षण के अनुसार, उच्च शिक्षा में महिला नामांकन 2014-15 में 1.57 करोड़ से बढ़कर 2021-22 में 2.07 करोड़ हो गया है।

इस बीच, 2014-15 में 46.07 लाख की तुलना में 2021-22 में 66.23 लाख (44 प्रतिशत की वृद्धि) एससी छात्र वर्ग ने नामांकन किया। वहीं, एससी महिला छात्रों का नामांकन 2020-21 में 29.01 लाख और 2014-15 में 21.02 लाख से बढ़कर 2021-22 में 31.71 लाख हो गया है। 2021-22 में एसटी और ओबीसी छात्रों का नामांकन बढ़कर क्रमशः 27.1 लाख और 1.63 करोड़ हो गया है।

रिपोर्ट के अनुसार 2014-15 से 2021-22 की अवधि के लिए महिला पीएचडी नामांकन में वार्षिक वृद्धि 10.4 प्रतिशत है। इसमें कहा गया है कि 2021-22 में स्नातक, स्नातकोत्तर, पीएच.डी. और एम.फिल स्तर पर 57.2 लाख छात्र विज्ञान संकाय में नामांकित हैं जिसमें छात्राओं की संख्या 29.8 लाख के मुकाबले छात्रों की संख्या (27.4 लाख) से अधिक है।

रिपोर्ट के अनुसार एसटी छात्रों का नामांकन 2014-15 में 16.41 लाख से बढ़कर 2021-22 में 27.1 लाख हो गया जिसमें 65.2 प्रतिशत की वृद्धि हुई। शिक्षा मंत्रालय 2011 से उच्च शिक्षा पर अखिल भारतीय सर्वेक्षण आयोजित कर रहा है, जिसमें देश में उच्च शिक्षा प्रदान करने वाले सभी उच्च शिक्षण संस्थानों को शामिल किया गया है।

FAQs

उच्च शिक्षा का उद्देश्य क्या है?

विद्यार्थी के व्यक्तित्व का बहुआयामी विकास सुनिश्चित करते हुए उसे लक्ष्य तक पहुंचने हेतु काबिल बनाना तथा उसके अन्तर्मन में मानवीय गुणों को विकसित करना उच्च शिक्षा का उद्देश्य है। हमारे महाविद्यालय एवं विश्वविद्यालय शिक्षा के प्रकाश स्तम्भ हैं, जिसका प्रकाश विद्यार्थियों के माध्यम से सम्पूर्ण समाज और संसार में फैलता है।