Home   »   भारत में लू, गर्म मौसम में...

भारत में लू, गर्म मौसम में स्वस्थ रहने के लिए आईएमडी ने दिए दिशानिर्देश

भारत में लू, गर्म मौसम में स्वस्थ रहने के लिए आईएमडी ने दिए दिशानिर्देश |_30.1

भारत में लू

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) द्वारा कुछ क्षेत्रों को लू के लिए चेतावनी दी गई है क्योंकि कई राज्य जलजलाते तापमान का सामना कर रहे हैं। डॉक्टरों ने जोरदार गर्मियों से खासकर बूढ़ों, बच्चों और गर्भवती महिलाओं को नुकसान पहुंचने की बात की है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

तापमान के अनुमानों के जवाब में, विभिन्न राज्य सरकारों ने मार्गदर्शिकाएं जारी की हैं। साथ ही, आईएमडी ने सार्वजनिक को सुझाव दिया है कि वे गर्मी के मौसम में हाइड्रेटेड रहें और सावधानी बरतें।

गर्म मौसम के लिए आईएमडी के दिशानिर्देश

गर्मियों के लिए आईएमडी के दिशा-निर्देशों निम्नलिखित हैं:

  1. खासकर गर्मियों के दौरान अच्छी तरह से हाइड्रेटेड रहना महत्वपूर्ण है। दिन में कम से कम 2-2.5 लीटर पानी पीना सलाह दिया जाता है, और नमकीन पानी, नारियल पानी में नमक और नींबू पानी में नमक जैसी पेय परहेज में मददगार हो सकते हैं।
  2. लू से जुड़ी बीमारियों से बचने के लिए, अधिक समय तक अत्यधिक गर्म वातावरण से बचना अत्यंत महत्वपूर्ण है।गर्मी में व्यायाम भी करना जरूरी नहीं है और हीटस्ट्रोक की गंभीरता को चिकित्सा आपातकाल के रूप में महसूस करना भी महत्वपूर्ण है।
  3. हाइड्रेटेड रहने के अलावा, अपने शरीर के तापमान को बढ़ा सकने वाले शारीरिक गतिविधियों को सीमित करना महत्वपूर्ण है। लू के दौरान, प्रोटीन खपत को कम करना और ऊंची मात्रा में पानी वाले फल और सब्जियों का सेवन बढ़ाना उपयुक्त है।
  4. गर्भवती महिलाओं को कैफीन से बचना चाहिए, जबकि ताजा फल जूस और छाछ पीने के लिए फायदेमंद पेय हो सकते हैं।
  5. यद्यपि वस्त्र चयन व्यक्तिगत होता है, लेकिन गर्मियों की स्थितियों को ध्यान में रखते हुए शरीर पर गर्मी के प्रभाव को कम करने और अधिक सुखदायक महसूस करने के लिए ढीले कपड़े पहनना महत्वपूर्ण है।
  6. लू से लड़ने के लिए, घर में एक शीतल वातावरण बनाए रखने के लिए परदे बंद करने का विकल्प होता है ताकि सूर्य की किरणों को ब्लॉक किया जा सके।
  7. लू के प्रभाव व्यक्ति पर भिन्न हो सकते हैं, इसलिए अत्यधिक गर्मी के प्रभाव को कम करने के लिए अतिसावधानी बरतना महत्वपूर्ण है। लू के लक्षण में कमजोरी, थकान और शरीर का दर्द शामिल हो सकते हैं, और गंभीर मामलों में, लू लगने से लोगों को मिर्गी या चेतना की हानि हो सकती है।

Central Government notified the Animal Birth Control Rules, 2023

गर्म मौसम में हाइड्रेटेड रहने के लिए टिप्स

लू से बचाव के लिए हाइड्रेटेड रहना, डिहाइड्रेशन, हीट एक्सहॉस्टियन और हीटस्ट्रोक से बचने के लिए महत्वपूर्ण है। निम्नलिखित कुछ सुझाव आपकी मदद कर सकते हैं हाइड्रेटेड रहने में:

  1. पानी की पर्याप्त मात्रा पीना: दिन भर में नियमित रूप से पानी पीते रहें, यदि आप प्यासा नहीं हैं तो भी। आप जहां भी जाएं वहां पानी की एक रीयूसेबल बोतल ले जाकर रख सकते हैं, जिससे आप जब चाहें तब पानी पी सकते हैं।
  2. अल्कोहल और कैफीन से बचें: अल्कोहल और कैफीन आपको डिहाइड्रेट कर सकते हैं, इसलिए लू से बचाव के दौरान इन्हें बेहतर होता है अपना सेवन नहीं करना।
  3. पानी से भरपूर खाद्य पदार्थ खाएं: तरबूज, खीरे, स्ट्रॉबेरी और लेट्यूस जैसे खाद्य पदार्थों में ज्यादा पानी होता है और आपको हाइड्रेटेड रखने में मदद कर सकते हैं।
  4. ठंडे स्थानों में रहें: लू से बचाव के दौरान जितना हो सके ठंडे स्थानों में रहने की कोशिश करें। यदि आपके पास एयर कंडीशनिंग नहीं है तो छाया में या अपने घर के शीतल हिस्सों में रहने की कोशिश करें।
  5. ठंडे शावर लें: ठंडी शावर या स्नान लेना आपके शरीर का तापमान कम करने और आपको हाइड्रेटेड रखने में मदद कर सकता है।
  6. हल्के, फुलवाले कपड़े पहनें: ढीले फिटिंग, हल्के वजन के कपड़े पहनें जो आपकी त्वचा को सांस लेने देते हैं और पसीने को अपशिष्ट होने में मदद करते हैं।
  7. अपने मूत्र का रंग निगरानी करें: यदि आपका मूत्र गहरा पीला है, तो आप पर्याप्त पानी नहीं पी रहे होंगे। स्वस्थ मूत्र का पीला हल्का या साफ़ होना चाहिए।

इन टिप्स का पालन करके, आप जलसंक्रमण से बच सकते हैं और गर्मी के मौसम में अच्छे से हाइड्रेटेड रह सकते हैं। यदि आप प्यास लगना, सूखा मुंह, सिरदर्द, चक्कर या थकान जैसे जलसंक्रमण के लक्षणों का अनुभव करते हैं, तो तुरंत पानी पिएं और अगर लक्षण बढ़ते हैं तो चिकित्सा की सलाह लें।

Find More National News Hereभारत में लू, गर्म मौसम में स्वस्थ रहने के लिए आईएमडी ने दिए दिशानिर्देश |_40.1

 

FAQs

आईएमडी का पूरा नाम क्या है ?

आईएमडी का पूरा नाम भारतीय मौसम विज्ञान विभाग है।