Home   »   गुजरात सरकार ने मिट्टी के संरक्षण...

गुजरात सरकार ने मिट्टी के संरक्षण के लिए ईशा आउटरीच के साथ समझौता किया

गुजरात सरकार ने मिट्टी के संरक्षण के लिए ईशा आउटरीच के साथ समझौता किया_3.1

गुजरात के जलवायु परिवर्तन विभाग ने दुनिया भर में ‘सेव सॉयल (Save Soil)’ पहल में शामिल होने के लिए एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं। ईशा आउटरीच के संस्थापक और आध्यात्मिक नेता सद्गुरु और गुजरात के मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल ने अहमदाबाद में एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। जग्गी सद्गुरु दुनिया भर में मृदा पुनर्जनन अभियान के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए 100 दिवसीय मोटरसाइकिल यात्रा पर निकले हैं। यूरोप, मध्य एशिया और मध्य पूर्व के माध्यम से 30,000 किलोमीटर की यात्रा मिट्टी के महत्व पर नीति निर्माताओं के बीच जागरूकता बढ़ाने का एक प्रयास है। श्री सद्गुरु जग्गी वासुदेव इस दौरे के हिस्से के रूप में ‘मिट्टी बचाओ’ पर एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करने के लिए गुजरात में थे।

RBI बुलेटिन – जनवरी से अप्रैल 2022, पढ़ें रिज़र्व बैंक द्वारा जनवरी से अप्रैल 2022 में ज़ारी की गई महत्वपूर्ण सूचनाएँ



 हिन्दू रिव्यू अप्रैल 2022, डाउनलोड करें मंथली हिंदू रिव्यू PDF  (Download Hindu Review PDF in Hindi)


प्रमुख बिंदु:


  • इस विश्वव्यापी मृदा संरक्षण अभियान में शामिल होने वाला गुजरात देश का पहला राज्य बन गया है।
  • ईशा फाउंडेशन ने मिट्टी की उर्वरता के वैश्विक नुकसान के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए ‘मिट्टी बचाओ’ अभियान शुरू किया है। चूंकि मिट्टी की गुणवत्ता का मानव और अन्य जीवों के स्वास्थ्य पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है, इसलिए यह आंदोलन दुनिया भर के लोगों को एक साथ लाकर मिट्टी की समस्या का समाधान करने में मदद कर सकता है।
  • इसके अलावा, पृथ्वी पर जीवन के अस्तित्व के लिए अच्छी मिट्टी की आवश्यकता होती है। कृषि फसलों की स्थापना और विकास के लिए मिट्टी में कई सूक्ष्म पोषक तत्व महत्वपूर्ण हैं।

इस संबंध में, 2006-07 में गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में श्री नरेंद्र मोदी के समय के दौरान, गुजरात ने राज्य की मिट्टी के स्वास्थ्य और स्थिति की रक्षा के लिए “सॉयल हेल्थ कार्ड” नामक एक दूरदर्शिता प्रयास शुरू किया। राज्य में 115 मृदा स्वास्थ्य प्रयोगशालाएं हैं जो मिट्टी में पोषक तत्वों के स्तर को मापती हैं। प्रधानमंत्री के निर्देश की बदौलत अब ‘मृदा स्वास्थ्य कार्ड’ योजना को पूरे देश में लागू कर दिया गया है।


‘मिट्टी बचाओ’ अभियान के बारे में:


  • रसायनों के उपयोग के साथ-साथ प्रदूषण और जलवायु परिवर्तन का मिट्टी की उर्वरता पर प्रभाव पड़ा है। इससे कृषि फसलों से पोषक तत्वों की हानि हुई है।
  • कुछ अनुमानों के अनुसार, मरुस्थलीकरण के कारण दुनिया की 24% समृद्ध मिट्टी का नुकसान हुआ है। संयुक्त राष्ट्र ने भी चेतावनी जारी की है कि अगर मौजूदा अभ्यास जारी रहता है।
  • संयुक्त राष्ट्र ने यह भी चेतावनी दी है कि यदि वर्तमान प्रथाएं 2050 तक जारी रहीं, तो पृथ्वी की सतह का लगभग 90% हिस्सा क्षतिग्रस्त हो जाएगा।
  • देश को इससे बचाने और मिट्टी की उर्वरता बनाए रखने के लिए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने किसानों को प्राकृतिक खेती अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए ‘बैक टू बेसिक्स’ का नया नारा दिया है।
  • मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल के नेतृत्व में राज्य सरकार ने ईशा आउटरीच, ईशा फाउंडेशन के साथ “मिट्टी बचाओ” शीर्षक से एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर करके इस प्रतिबद्धता को बढ़ाया है।
  • राज्य सरकार के जलवायु परिवर्तन विभाग और ईशा आउटरीच ने गुजरात में विभिन्न मृदा संरक्षण कार्यक्रमों में सार्वजनिक ज्ञान और जुड़ाव बढ़ाने के लक्ष्य के साथ एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं।
  • इस समझौता ज्ञापन का लक्ष्य मरुस्थलीकरण से बचना, मिट्टी की लवणता इनपुट को विनियमित करना और हरित आवरण को बढ़ावा देना है।


उपस्थित लोग:


  • समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर के अवसर पर राज्य मंत्रिमंडल के सदस्य, पदाधिकारी, वरिष्ठ सचिव और ईशा फाउंडेशन के सदस्य, साथ ही श्री सद्गुरु के अनुयायी उपस्थित थे।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

  • गुजरात के मुख्यमंत्री: भूपेंद्र भाई पटेल

 

 Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

Find More State in News

World Health Organization to award Jharkhand for tobacco control_80.1

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *