Home   »   सरकार ओएफएस के माध्यम से हुडको...

सरकार ओएफएस के माध्यम से हुडको में 7% इक्विटी हिस्सेदारी बेचेगी

सरकार ओएफएस के माध्यम से हुडको में 7% इक्विटी हिस्सेदारी बेचेगी_3.1

भारत सरकार ने 18-19 अक्टूबर के लिए निर्धारित बिक्री प्रस्ताव (ओएफएस) के माध्यम से हाउसिंग एंड अर्बन डेवलपमेंट कॉरपोरेशन लिमिटेड (हुडको) में 7% इक्विटी बेचने की अपनी योजना की घोषणा की है। इस रणनीतिक कदम से लगभग ₹1,100 करोड़ का राजस्व उत्पन्न होने की उम्मीद है।

 

ओएफएस विवरण

निवेशक भागीदारी: गैर-खुदरा निवेशकों के लिए बिक्री की पेशकश 18 अक्टूबर से शुरू होगी, इसके शुरू होने के अगले दिन से खुदरा निवेशक बोली लगा सकेंगे।

ग्रीन शू विकल्प: सरकार का इरादा 7% इक्विटी बेचने का है, जिसमें 3.5% का ग्रीन शू विकल्प भी सम्मिलित है।

न्यूनतम मूल्य: ऑफर के लिए न्यूनतम मूल्य ₹79 प्रति शेयर निर्धारित किया गया है, जो पिछले मंगलवार को बीएसई पर ₹89 के समापन मूल्य से 12% कम है।

शेयरों की संख्या: लगभग 140 मिलियन शेयर बिक्री के लिए रखे जाएंगे, जिनका कुल मूल्य लगभग ₹1,106 करोड़ है।

खुदरा छूट: बीएसई के साथ फाइलिंग में हुडको की पुष्टि के अनुसार, विशेष रूप से, ओएफएस के लिए कोई खुदरा छूट की पेशकश नहीं की जाएगी

 

सेबी मानदंडों का अनुपालन

ओएफएस के प्राथमिक कारणों में से एक भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) के न्यूनतम सार्वजनिक शेयरधारिता मानदंडों का अनुपालन सुनिश्चित करना है। वर्तमान में, हुडको में सरकार की 81.8% हिस्सेदारी है। सरकार के 7% शेयरों के विनिवेश से, सरकार का स्वामित्व घटकर 74.8% हो जाएगा, जो कि 75% की अधिकतम स्वीकार्य सीमा से कम है।

 

सरकार की विनिवेश रणनीति

यह हिस्सेदारी बिक्री सरकार की व्यापक विनिवेश रणनीति के अनुरूप है, जिसका उद्देश्य सेबी मानदंडों को पूरा करने के लिए सूचीबद्ध कंपनियों में अपनी हिस्सेदारी कम करना है। सरकार का उद्देश्य इस तरह के विनिवेश के माध्यम से राजस्व जुटाना है।

 

बिक्री के लिए दलाल

एलारा सिक्योरिटीज (इंडिया), आईडीबीआई कैपिटल मार्केट्स एंड सिक्योरिटीज और एसबीआईकैप सिक्योरिटीज को बिक्री के लिए ब्रोकर/ दलाल के रूप में चुना गया है, जिसके द्वारा सरकार और संभावित निवेशकों के बीच लेनदेन सुगम होगा।

 

आय का उपयोग

इस हिस्सेदारी बिक्री से उत्पन्न राजस्व को सरकार के खजाने में भेजा जाएगा, जो वित्तीय वर्ष 2024 में विनिवेश से ₹51,000 करोड़ जुटाने के लक्ष्य में योगदान देगा।

17 अक्टूबर तक, सरकार पहले ही विनिवेश गतिविधियों से ₹6,950 करोड़ जुटा चुकी थी। यह राशि मुख्य रूप से कोल इंडिया लिमिटेड में 3% हिस्सेदारी, रेल विकास निगम लिमिटेड में 5.36% हिस्सेदारी और एसजेवीएन लिमिटेड में 4.92% शेयर बिक्री से प्राप्त हुई।

 

प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए मुख्य जानकारी

  • निवेश और सार्वजनिक संपत्ति प्रबंधन विभाग के सचिव: तुहिन कांत पांडे

Find More Business News Here

सरकार ओएफएस के माध्यम से हुडको में 7% इक्विटी हिस्सेदारी बेचेगी_4.1

FAQs

हुडको का स्थापना कब हुआ था?

25 April 1970