gdfgerwgt34t24tfdv
Home   »   खाद्य सब्सिडी में 17 अरब डॉलर...

खाद्य सब्सिडी में 17 अरब डॉलर की कटौती का लक्ष्य

खाद्य सब्सिडी में 17 अरब डॉलर की कटौती का लक्ष्य |_3.1

अप्रैल से वित्त वर्ष में खाद्य और उर्वरक सब्सिडी पर खर्च को घटाकर 3.7 लाख करोड़ रुपये (44.6 अरब डॉलर) करना भारत का लक्ष्य है। यह इस वर्ष से 26% कम है। रिपोर्ट के अनुसार कोविड-19 महामारी के कारण बढ़ते राजकोषीय घाटे पर लगाम लगाने के लिए ऐसा किया जाएगा। खाद्य और उर्वरक सब्सिडी इस वित्तीय वर्ष में भारत के 39.45 लाख करोड़ रुपये के कुल बजट खर्च का लगभग आठवां हिस्सा है, लेकिन विशेष रूप से खाद्य सब्सिडी में कटौती चुनावों के साथ राजनीतिक रूप से संवेदनशील साबित हो सकती है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

रिपोर्ट के अनुसार सरकार को खाद्य सब्सिडी के लिए इस वर्ष के 31 मार्च तक 2.7 लाख करोड़ रुपये की तुलना में आगामी वित्त वर्ष में करीब 2.3 लाख करोड़ रुपये के बजट की उम्मीद है। सरकारी अधिकारी के अनुसार, उर्वरक सब्सिडी पर खर्च लगभग 1.4 लाख करोड़ रुपये तक कम होने की संभावना है। अधिकारी ने कहा कि इस साल इसकी तुलना करीब 2.3 लाख करोड़ रुपये से की जा सकती है।

 

सरकार अगले वित्‍तवर्ष के लिए खाद्य सब्सिडी को घटाकर 2.30 लाख करोड़ रुपये कर सकती है, जो चालू वित्‍तवर्ष में करीब 2.70 लाख करोड़ रुपये रहा है। इसी तरह, फर्टिलाइजर्स की सब्सिडी पर होने वाला खर्च भी इस साल घटाकर 1.4 लाख करोड़ रुपये किया जा सकता है, जो चालू वित्‍तवर्ष के लिए करीब 2.3 लाख करोड़ रुपये रहा था।

 

सरकार भी बढ़ते राजकोषीय घाटे को लेकर चिंतित है, जबकि चालू वित्‍तवर्ष के लिए इसका लक्ष्‍य जीडीपी का 6.4 फीसदी रखा गया है। यह लक्ष्‍य पिछले एक दशक के 4 और 4.5 फीसदी के मुकाबले काफी ज्‍यादा है। कोरोनाकाल में तो खर्च बढ़ने की वजह से 9.3 फीसदी पहुंच गया था। फिलहाल सरकार की प्‍लानिंग अगले वित्‍तवर्ष के दौरान राजकोषीय घाटे में 0.50 फीसदी कटौती करने की है।

NSE Gets Sebi Nod to Set up Social Stock Exchange_70.1

FAQs

राजस्व घाटा और राजकोषीय घाटा में क्या अंतर है?

किसी वित्तीय वर्ष में कुल सरकारी आय और कुल सरकारी व्यय का अंतर राजस्व घाटा कहलाता है, जबकि किसी वित्तीय वर्ष के राजस्व घाटे और सरकार द्वारा लिये गए ऋण पर ब्याज तथा अन्य देयताओं के भुगतान का योग राजकोषीय घाटा कहलाता है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *