Home   »   Google Doodle ने आज हाथी, अहमद...

Google Doodle ने आज हाथी, अहमद को एक Doodle समर्पित किया

Google Doodle ने आज हाथी, अहमद को एक Doodle समर्पित किया |_30.1

महत्वपूर्ण घटनाओं और व्यक्तियों को याद करने के लिए Google द्वारा उपयोग किया जाने वाला रचनात्मक और कलात्मक मंच, Google Doodle ने आज हाथी, अहमद को एक Doodle समर्पित किया है।

Google Doodle, महत्वपूर्ण घटनाओं और व्यक्तियों को मनाने के लिए Google द्वारा उपयोग किया जाने वाला रचनात्मक और कलात्मक मंच, ने आज हाथी, अहमद को एक Doodle समर्पित किया है। अहमद की कहानी 1919 में केन्या के माउंट मार्साबिट के जंगलों में पैदा हुए एक शानदार हाथी की एक उल्लेखनीय कहानी है। हाथियों और पर्यटकों के चित्रों वाला Doodle, अहमद की विरासत और उसे शिकारियों से बचाने के प्रयासों के लिए एक श्रद्धांजलि के रूप में कार्य करता है।

अहमद का प्रारंभिक जीवन

अहमद 1960 के दशक में तब प्रमुखता से उभरे जब उत्तरी केन्या के पहाड़ों में पैदल यात्रियों ने उन्हें देखा। जमीन को खुरचने वाले उसके विशाल दांतों ने उसे अन्य हाथियों से अलग कर दिया और उसे वैश्विक पहचान मिली। अहमद जल्द ही “मार्सबिट के राजा” के रूप में जाने जाने लगे।

मीडिया का ध्यान और सम्मान

अहमद के असाधारण दांतों ने विभिन्न मीडिया, आउटलेट्स का ध्यान आकर्षित किया, जिसके परिणामस्वरूप 1970 में एबीसी श्रृंखला और एक वृत्तचित्र सहित टेलीविजन परियोजनाएं सामने आईं। “द किंग ऑफ मार्सैबिट” की किंवदंती पूरे केन्या में प्रसारित होने लगी, जिससे अहमद की स्थिति और बढ़ गई।

संरक्षण के लिए अभियान

जैसे-जैसे पॉप संस्कृति बढ़ी, स्कूली बच्चों ने अहमद को शिकारियों से बचाने के लिए एक अभियान शुरू किया। हाथी की सुरक्षा को लेकर चिंतित बच्चों ने केन्या के पहले राष्ट्रपति मज़ी जोमो केन्याटा को पत्र लिखा। सार्वजनिक आक्रोश का जवाब देते हुए, राष्ट्रपति केन्याटा ने अहमद को सुरक्षा में रखते हुए एक राष्ट्रपति आदेश जारी किया।

राष्ट्रपति संरक्षण

अहमद को शिकारियों से बचाने के लिए दिन भर उस पर नजर रखने के लिए दो सुरक्षा गार्ड नियुक्त किए गए थे। इस अभूतपूर्व कदम ने न केवल केन्या के लिए बल्कि दुनिया के लिए इस प्रतिष्ठित हाथी के संरक्षण के महत्व पर प्रकाश डाला।

अहमद की विरासत और संरक्षण

अहमद 55 वर्ष की आयु तक जीवित रहे और प्राकृतिक कारणों से उनकी मृत्यु हो गई। उनके निधन के बाद, राष्ट्रपति केन्याटा ने अहमद के शरीर को भावी पीढ़ियों के लिए संरक्षित करने का आह्वान किया। टैक्सीडर्मिस्टों को अहमद के शरीर को संरक्षित करने का कार्य सौंपा गया था, जो आज भी नैरोबी राष्ट्रीय संग्रहालय में पाया जा सकता है। केन्या ने अहमद की विरासत का जश्न मनाया, जो देश के संरक्षण इतिहास में एक महत्वपूर्ण क्षण है।

वैश्विक सम्मान

अहमद हाथी को समर्पित Google Doodle केवल केन्या तक ही सीमित नहीं है, बल्कि आइसलैंड, उरुग्वे, चिली, पाकिस्तान, फ्रांस, आयरलैंड, यूनाइटेड किंगडम, स्विट्जरलैंड, ऑस्ट्रिया और जर्मनी सहित विभिन्न क्षेत्रों तक फैला हुआ है। यह वैश्विक मान्यता वन्यजीव संरक्षण और लुप्तप्राय प्रजातियों की रक्षा के सामूहिक प्रयासों पर अहमद के प्रभाव को रेखांकित करती है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. Google ने अहमद हाथी के लिए Doodle क्यों बनाया?

A. अहमद के उल्लेखनीय जीवन और उसे शिकारियों से बचाने के प्रयासों को याद करने के लिए।

Q2. अहमद को अन्य हाथियों से क्या अलग करता है?

A. अहमद के पास बड़े पैमाने पर दांत थे जो कथित तौर पर जमीन को खुरचते थे, जिससे उन्हें वैश्विक पहचान मिली।

Q3. अहमद ने मीडिया का ध्यान कैसे आकर्षित किया?

A. उनके असाधारण दांतों ने ध्यान आकर्षित किया, जिसके परिणामस्वरूप एबीसी श्रृंखला और 1970 की डॉक्यूमेंट्री जैसी टेलीविजन परियोजनाएं सामने आईं।

Find More Miscellaneous News Here

Google Doodle ने आज हाथी, अहमद को एक Doodle समर्पित किया |_40.1

 

FAQs

भारत में प्रारंभिक क्रेटेशियस शार्क जीवाश्मों की खोज कब की गई थी?

प्रारंभिक क्रेटेशियस शार्क जीवाश्म लगभग 115 मिलियन वर्ष पहले भारत में खोजे गए थे।