Home   »   गांधी जयंती 2023: तारीख, थीम, इतिहास...

गांधी जयंती 2023: तारीख, थीम, इतिहास और महत्व

गांधी जयंती 2023: तारीख, थीम, इतिहास और महत्व_3.1

गांधी जयंती, हर साल 2 अक्टूबर को मनाई जाती है, भारत और दुनिया भर में गहरा महत्व का दिन है। यह मोहनदास करमचंद गांधी की 154 वीं जयंती का प्रतीक है, जिन्हें महात्मा गांधी, बापू या राष्ट्रपिता के रूप में जाना जाता है। यह दिन एक ऐसे व्यक्ति के जीवन और सिद्धांतों को श्रद्धांजलि है जिन्होंने स्वतंत्रता के लिए भारत के संघर्ष के लिए अपना अस्तित्व समर्पित कर दिया और सत्य और अहिंसा के प्रति अपनी अटूट प्रतिबद्धता के साथ दुनिया पर एक अमिट छाप छोड़ी।

गांधी जयंती 2023 की थीम

“एक तारीख एक घंटा एक साथ” 2 अक्टूबर गांधी जयंती के लिए थीम है, 1 अक्टूबर, 2023 को सुबह 10 बजे स्वच्छता के लिए नागरिकों के नेतृत्व वाले श्रमदान के 1 घंटे के लिए कार्रवाई का राष्ट्रीय आह्वान।

महात्मा गांधी का ऐतिहासिक अवलोकन

महात्मा गांधी का जन्म 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबंदर में हुआ था। उनका प्रारंभिक जीवन एक मामूली परवरिश और उनके माता-पिता द्वारा स्थापित नैतिकता की एक मजबूत भावना द्वारा चिह्नित किया गया था।

महात्मा गांधी के दर्शन के स्तंभ: सत्याग्रह और अहिंसा

गांधी ने दो महत्वपूर्ण आंदोलनों की शुरुआत की- सत्याग्रह (सत्य बल) और अहिंसा, जो उनके दर्शन और प्रतिरोध के उपकरण की आधारशिला बन गए।

भारत के स्वतंत्रता संग्राम में महात्मा गांधी की भूमिका

ब्रिटिश औपनिवेशिक शासन के तहत, गांधी के अहिंसक दृष्टिकोण और प्यार और सहिष्णुता के साथ लोगों को जीतने की उनकी क्षमता ने भारत के नागरिक अधिकार आंदोलनों पर गहरा प्रभाव डाला।

हत्या और विरासत

दुखद है कि 30 जनवरी, 1948 को नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या कर दी थी, लेकिन उनकी विरासत अहिंसा की शक्ति में विश्वास करने वालों के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में चमकती रही।

महात्मा गांधी जयंती 2023 का महत्व

महात्मा गांधी के जीवन और कार्यों ने भारत के इतिहास पर एक अमिट छाप छोड़ी। सत्य, अहिंसा और सामाजिक न्याय के सिद्धांतों के प्रति उनके समर्पण ने न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर के लाखों लोगों को प्रेरित किया। गांधी जयंती लोगों को इस महान नेता को अपना सम्मान देने का अवसर प्रदान करती है, जिन्होंने अपने देश की भलाई के लिए अपार बलिदान दिए।

गांधी जयंती 2023 पर स्मारक गतिविधियां

गांधी जयंती पर महात्मा गांधी की स्मृति का सम्मान करने के लिए देश भर में कई तरह की गतिविधियां होती हैं। इनमें शामिल हैं:

  1. प्रार्थना सभाएं: लोग प्रार्थना सभाओं में भाग लेने के लिए गांधी आश्रमों सहित विभिन्न स्थानों पर इकट्ठा होते हैं। ये बैठकें गांधी के जीवन के आध्यात्मिक और दार्शनिक पहलुओं को दर्शाती हैं।
  2. भक्ति गीत: महात्मा गांधी के पसंदीदा भजनों में से एक, “रघुपति राघव राजा राम”, इन सभाओं के दौरान बहुत भक्ति के साथ गाया जाता है। यह गीत एकता और सद्भाव का संदेश देता है।
  3. पुरस्कार प्रस्तुतियां: गांधी के सिद्धांतों के अनुरूप समाज में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले व्यक्तियों और संगठनों को सम्मानित करने के लिए, इस दिन पुरस्कार प्रस्तुत किए जाते हैं।
  4. रैलियां: गांधी अहिंसा और सामाजिक न्याय के आदर्शों को बढ़ावा देने के लिए शांतिपूर्ण रैलियों और जुलूसों का आयोजन करते हैं।

गांधी जयंती 2023 समारोह पूरे भारत में

गांधी जयंती सभी भारतीय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में मनाया जाने वाला एक राष्ट्रीय अवकाश है। इस दिन स्कूलों और कॉलेजों में सुंदर समारोह होते हैं, जहां छात्र गांधी की विरासत को मनाने के लिए विभिन्न प्रतियोगिताओं में भाग लेते हैं। सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वालों को पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है, जो युवाओं में जिम्मेदारी और नेतृत्व की भावना को बढ़ावा देता है।

गांधी जयंती के स्मरणोत्सव में कई स्थान महत्व रखते हैं:

  1. शहीद स्तंभ: यह वह स्थान है जहां 30 जनवरी, 1948 को महात्मा गांधी की हत्या कर दी गई थी।
  2. राजघाट: यह वह स्थान है जहां 31 जनवरी, 1948 को महात्मा गांधी के शरीर का अंतिम संस्कार किया गया था।
  3. त्रिवेणी संगम: यह वह जगह है जहां गंगा, यमुना और सरस्वती नदियाँ मिलती हैं। यह उस एकता और विविधता का प्रतीक है जिसे गांधी ने अपने पूरे जीवन में बढ़ावा देने की कोशिश की।

Find More Important Days Here

 

Largest Church in India, List of Top 10_120.1

FAQs

कब और किसने महात्मा गांधी की हत्या की थी ?

30 जनवरी, 1948 को नाथूराम गोडसे ने महात्मा गांधी की हत्या की थी।