Home   »   फ़्यूज़न माइलस्टोन: जापान ने दुनिया के...

फ़्यूज़न माइलस्टोन: जापान ने दुनिया के सबसे बड़े प्रायोगिक परमाणु फ़्यूज़न रिएक्टर JT-60SA का अनावरण किया

फ़्यूज़न माइलस्टोन: जापान ने दुनिया के सबसे बड़े प्रायोगिक परमाणु फ़्यूज़न रिएक्टर JT-60SA का अनावरण किया |_30.1

दुनिया के सबसे बड़े और सबसे उन्नत प्रायोगिक परमाणु संलयन रिएक्टर JT-60SA ने आधिकारिक तौर पर जापान के इबाराकी प्रान्त में परिचालन शुरू कर दिया है।

परमाणु संलयन अनुसंधान के क्षेत्र के लिए एक ऐतिहासिक क्षण में, दुनिया के सबसे बड़े और सबसे उन्नत प्रायोगिक परमाणु संलयन रिएक्टर JT-60SA ने आधिकारिक तौर पर जापान के इबाराकी प्रान्त में परिचालन शुरू कर दिया है। यूरोपीय संघ और जापान के बीच एक सहयोगात्मक प्रयास के रूप में विकसित, JT-60SA एक स्वच्छ और टिकाऊ ऊर्जा स्रोत के रूप में परमाणु संलयन की क्षमता का दोहन करने में एक महत्वपूर्ण कदम का प्रतिनिधित्व करता है।

चूँकि दुनिया टिकाऊ ऊर्जा समाधानों की अत्यधिक आवश्यकता से जूझ रही है, JT-60SA का उद्घाटन व्यावहारिक ऊर्जा उत्पादन के लिए परमाणु संलयन के दोहन की खोज में आशा की किरण के रूप में कार्य करता है। जबकि चुनौतियाँ बनी हुई हैं, राष्ट्रों के बीच सहयोगात्मक प्रयास परमाणु संलयन की परिवर्तनकारी क्षमता को अनलॉक करने और एक स्वच्छ, उज्जवल भविष्य का मार्ग प्रशस्त करने के सामूहिक दृढ़ संकल्प को रेखांकित करते हैं।

परमाणु संलयन को समझना:

परमाणु संलयन, विखंडन पर आधारित वर्तमान परमाणु ऊर्जा संयंत्र प्रौद्योगिकी का एक परिवर्तनकारी विकल्प है, जिसमें एक एकल, भारी तत्व बनाने के लिए दो परमाणु नाभिकों को संलयन करने की प्रक्रिया शामिल है। विखंडन के विपरीत, जिसमें परमाणु नाभिक को विभाजित करना शामिल है, संलयन में न्यूनतम पर्यावरणीय प्रभाव के साथ प्रचुर ऊर्जा प्रदान करने की क्षमता होती है।

JT-60SA रिएक्टर:

टोक्यो के उत्तर में नाका में एक हैंगर के भीतर छह मंजिला ऊंचाई पर स्थित JT-60SA रिएक्टर में डोनट के आकार का “टोकामक” पोत है, जिसे आश्चर्यजनक रूप से 200 मिलियन डिग्री सेल्सियस तक गर्म किए गए घूमते प्लाज्मा को रखने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह अत्याधुनिक सुविधा फ़्रांस में अंतर्राष्ट्रीय थर्मोन्यूक्लियर प्रायोगिक रिएक्टर (ITER) के अग्रदूत के रूप में कार्य करती है, जो संलयन ऊर्जा की वैश्विक खोज में सहयोगात्मक भावना को प्रदर्शित करती है।

ITER कनेक्शन:

JT-60SA और ITER का एक साझा लक्ष्य है – हाइड्रोजन नाभिक को हीलियम में संलयन करने के लिए प्रेरित करना, प्रकाश और गर्मी के रूप में ऊर्जा जारी करना। जबकि JT-60SA ने सफलतापूर्वक परिचालन शुरू कर दिया है, फ्रांस में स्थित ITER परियोजना को बजटीय चिंताओं के साथ-साथ देरी और तकनीकी चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। यह तुलना परमाणु संलयन प्रौद्योगिकी के अंतिम लक्ष्य, शुद्ध ऊर्जा लाभ को प्राप्त करने से जुड़ी जटिलताओं और बाधाओं पर प्रकाश डालती है।

भविष्य के लिए महत्व:

परमाणु संलयन के समर्थक इसे मानवता की भविष्य की ऊर्जा आवश्यकताओं को संबोधित करने में एक संभावित गेम-चेंजर के रूप में देखते हैं। परमाणु संलयन के माध्यम से उत्पादित स्वच्छ और प्रचुर ऊर्जा पर्यावरणीय प्रभाव को कम करते हुए वैश्विक ऊर्जा मांगों का एक स्थायी समाधान प्रदान कर सकती है। JT-60SA का उद्घाटन इस तकनीक को साकार करने के करीब लाने में एक महत्वपूर्ण प्रगति का संकेत देता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. JT-60SA क्या है और यह महत्वपूर्ण क्यों है?

उत्तर. JT-60SA दुनिया का सबसे बड़ा और सबसे उन्नत प्रायोगिक परमाणु संलयन रिएक्टर है, जिसका हाल ही में जापान के इबाराकी प्रान्त में उद्घाटन किया गया। यह यूरोपीय संघ और जापान के बीच एक प्रमुख सहयोगात्मक प्रयास का प्रतिनिधित्व करता है, जो स्वच्छ और टिकाऊ ऊर्जा स्रोत के रूप में परमाणु संलयन की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

2. परमाणु संलयन परमाणु विखंडन से किस प्रकार भिन्न है और इसे क्रांतिकारी क्यों माना जाता है?

उत्तर. परमाणु संलयन में परमाणु विखंडन के विपरीत, एक एकल, भारी तत्व बनाने के लिए दो परमाणु नाभिकों को संलयन करने की प्रक्रिया शामिल होती है, जिसमें परमाणु नाभिक को विभाजित करना शामिल होता है। फ़्यूज़न में न्यूनतम पर्यावरणीय प्रभाव के साथ प्रचुर ऊर्जा प्रदान करने की क्षमता है, जो इसे वर्तमान परमाणु ऊर्जा संयंत्र प्रौद्योगिकी का एक क्रांतिकारी विकल्प बनाती है।

3. JT-60SA रिएक्टर का उद्देश्य क्या है?

उत्तर. JT-60SA रिएक्टर, जो टोक्यो के उत्तर में नाका में छह मंजिल ऊंचा है, में एक डोनट के आकार का “टोकामक” पोत है, जिसे असाधारण 200 मिलियन डिग्री सेल्सियस तक गर्म घूमते प्लाज्मा को रखने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह फ़्रांस में अंतर्राष्ट्रीय थर्मोन्यूक्लियर प्रायोगिक रिएक्टर (ITER) के अग्रदूत के रूप में कार्य करता है, जो संलयन ऊर्जा की खोज में वैश्विक सहयोग को प्रदर्शित करता है।

फ़्यूज़न माइलस्टोन: जापान ने दुनिया के सबसे बड़े प्रायोगिक परमाणु फ़्यूज़न रिएक्टर JT-60SA का अनावरण किया |_40.1

FAQs

जापान की राजधानी क्या है?

टोक्यो जापान की राजधानी और सबसे बड़ा नगर है। यह जापान के होन्शू द्वीप पर बसा हुआ है।