Home   »   बीबीसी की 100 प्रभावशाली महिलाओं की...

बीबीसी की 100 प्रभावशाली महिलाओं की सूची में चार भारतीय

बीबीसी की 100 प्रभावशाली महिलाओं की सूची में चार भारतीय |_3.1

ब्रिटिश ब्रॉडकास्टस्टिंग कॉरपोरेशन (BBC) ने दुनिया भर की 100 प्रभावशाली महिलाओं की सूची जारी की है। इसमें भारत की चार महिलाएं शामिल हुई हैं। इनमें अभिनेत्री और फिल्म निर्माता प्रियंका चोपड़ा जोनस (Priyanka Chopra Jonas), एविएशन इंजीनियर सिरिशा बांदला (Sirisha Bandla), बुकर अवार्ड विनर लेखिका गीतांजलि श्री (Geetanjali Shree) और सामाजिक कार्यकर्ता स्नेहा जावाले (Sneha Jawale) शामिल हैं।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

बीबीसी की इस सालाना सूची में जमीनी स्तर से आने वाली कार्यकर्ता से लेकर वैश्विक नेताओं को शामिल किया जाता है। इसमें अंतरराष्ट्रीय स्तर पर महिलाओं की उपलब्धियों पर जोर दिया जाता है। प्रसारणकर्ता इसका इस्तेमाल साक्षात्कार की श्रृंखलाओं, डॉक्यूमेंट्री और फीचर फिल्म के जरिए दुनियाभर में महिलाओं के अनुभव पर ध्यान केंद्रित करने के लिए करता है। पहली बार बीबीसी ने पूर्व में इस सूची में शामिल रहीं ‘100 महिलाओं’ की मदद ली।

 

प्रियंका चोपड़ा: सूची में पहले आ चुकी महिलाओं से उन महिलाओं को नोमिनेट करने के लिए कहा, जिन्हें वे 2022 की इस सूची में शामिल करने के योग्य मानती हैं। इस सूची में प्रियंका चोपड़ा को बॉलीवुड के सबसे बड़े फिल्मी सितारों में से एक बताया गया है। उनके नाम पर 60 से अधिक फिल्में हैं।

 

सिरिशा बांदला: सिरिशा बांदला ऐतिहासिक 2021 यूनिटी 22 मिशन का हिस्सा रही हैं। वह इस मिशन के हिस्से के रूप में वर्जिन गैलेक्टिक की पहली पूरी तरह से चालक दल वाली सब-ऑर्बिटल स्पेसफ्लाइट में अंतरिक्ष के छोर तक हो आईं हैं। वह अंतरिक्ष में जाने वाली भारत में जन्मी दूसरी महिला बन गईं हैं।

 

गीतांजलि श्री: उपन्यासकार और लेखिका गीतांजलि श्री ने अपने उपन्यास ‘रेत समाधि’ के अंग्रेजी अनुवाद ‘टॉम्ब ऑफ द सैंड’ के लिए अंतरराष्ट्रीय बुकर पुरस्कार जीतने वाली पहली हिंदी लेखिका बनकर इस साल इतिहास रच दिया था। इस किताब के फ्रेंच अनुवाद को एमिली गुमेट प्राइज के लिए भी चयनित किया गया था।

 

स्नेहा जावाले: इस सूची में चौथी भारतीय, घरेलू हिंसा की पीड़िता से सामाजिक कार्यकर्ता बनी स्नेहा जावाले हैं। बीबीसी में उनके हवाले से कहा गया कि पिछले 10 वर्ष में आग और तेजाब से झुलसने वाली महिलाओं के प्रति समाज की सोच बदली है।

Find More Ranks and Reports Here

 

List of countries at risk of mass killings: India ranked 8th_90.1

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *