Home   »   DRDO ने IAF जेट की सुरक्षा...

DRDO ने IAF जेट की सुरक्षा के लिए विकसित की उन्नत चाफ प्रौद्योगिकी

 

DRDO ने IAF जेट की सुरक्षा के लिए विकसित की उन्नत चाफ प्रौद्योगिकी |_50.1

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (Defence Research and Development Organisation- DRDO) ने संयुक्त रूप से भारतीय वायु सेना (IAF) के लड़ाकू विमानों को दुश्मन के रडार खतरों से बचाने के लिए एक उन्नत चाफ प्रौद्योगिकी (advanced chaff technology) विकसित की है। रक्षा प्रयोगशाला, जोधपुर और उच्च ऊर्जा सामग्री अनुसंधान प्रयोगशाला (High Energy Materials Research Laboratory – HEMRL), पुणे ने भारतीय वायुसेना की गुणात्मक आवश्यकताओं को पूरा करते हुए भूसा कारतूस विकसित किया है। भारतीय वायु सेना ने सफल उपयोगकर्ता परीक्षणों के पूरा होने के बाद इस तकनीक को शामिल करने की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

चाफ प्रौद्योगिकी क्या है?

चाफ मुख्य रूप से एक इलेक्ट्रॉनिक काउंटर-माप तकनीक है जिसका उपयोग दुनिया भर में सेना द्वारा उच्च मूल्य के लक्ष्यों जैसे कि लड़ाकू जेट या नौसेना के जहाजों को रडार और रेडियो फ्रीक्वेंसी (आरएफ) दुश्मन मिसाइलों के मार्गदर्शक तंत्र से बचाने के लिए किया जाता है। हवा में तैनात चाफ मिसाइल मार्गदर्शन प्रणाली के लिए कई लक्ष्यों के रूप में दर्शाता है, इस प्रकार दुश्मन के राडार को गुमराह करता है या विरोधी मिसाइलों को विक्षेपित करता है। चाफ एक महत्वपूर्ण रक्षा तकनीक है जिसका उपयोग लड़ाकू विमानों को शत्रुतापूर्ण रडार खतरों से बचाने के लिए किया जाता है।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

  • अध्यक्ष डीआरडीओ: डॉ जी सतीश रेड्डी (Dr G Satheesh Reddy)।
  • डीआरडीओ मुख्यालय: नई दिल्ली।
  • डीआरडीओ की स्थापना: 1958।

Find More News Related to Defence

DRDO ने IAF जेट की सुरक्षा के लिए विकसित की उन्नत चाफ प्रौद्योगिकी |_60.1

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

TOPICS:

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *