Home   »   चक्रवात मिचौंग का आंध्र प्रदेश पर...

चक्रवात मिचौंग का आंध्र प्रदेश पर हमला

चक्रवात मिचौंग का आंध्र प्रदेश पर हमला |_30.1

चक्रवात मिचौंग, जो शुरू में एक भयंकर चक्रवाती तूफान था, दक्षिण आंध्र प्रदेश तट पर पहुंचा, जिससे वहाँ काफी विनाश हुआ। अब, तूफान कमजोर एवं शक्तिहीन हो गया है।

चक्रवात मिचौंग, शुरू में एक भयंकर चक्रवाती तूफान था, जिसने आंध्र प्रदेश के दक्षिणी तट पर तबाही मचाई और विनाश के निशान छोड़े। मध्य तटीय आंध्र प्रदेश में केन्द्रित तट को पार करते समय तूफान कमजोर होकर दबाव में परिवर्तित हो गया। वर्तमान में, यह बापटला से लगभग 100 किमी उत्तर-उत्तरपश्चिम और खम्मम से 50 किमी दक्षिणपूर्व में स्थित है।

प्रभाव एवं क्षति

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री कार्यालय (सीएमओ) ने महत्वपूर्ण परिणामों की सूचना दी, जिससे 194 गांवों और दो कस्बों में लगभग 40 लाख लोग प्रभावित हुए। मिचौंग के प्रभाव में 25 गांवों में बाढ़, 770 किलोमीटर लंबी सड़कों को नुकसान, 35 पेड़ों को उखाड़ना और तीन पशुओं की दुर्भाग्यपूर्ण हानि शामिल है।

हताहत और घटनाएँ

हालाँकि चक्रवात के दिन कोई मानव हताहत नहीं हुआ था, बाद की घटनाएं दर्ज की गई हैं। 4 दिसंबर को तिरूपति जिले में एक झोपड़ी की दीवार गिरने से एक चार वर्षीय लड़के की जान चली गई। पुलिस अधीक्षक वकुल जिंदल के अनुसार, बापटला जिले में एक और मौत की सूचना मिली है, मौत का कारण सीधे तौर पर चक्रवात को नहीं बताया गया है।

मौसम का पूर्वानुमान और और कमज़ोरी

भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने एक बुलेटिन जारी कर संकेत दिया है कि चक्रवाती तूफान मिचौंग और कमजोर होकर एक गहरे दबाव में बदल गया है, जो बापटला से लगभग 100 किमी उत्तर-उत्तरपश्चिम और खम्मम से 50 किमी दक्षिणपूर्व में स्थित है। आईएमडी ने अगले 12 घंटों में तूफान के एक अच्छी तरह से चिह्नित कम दबाव वाले क्षेत्र में परिवर्तन की उम्मीद के साथ, कमजोर प्रवृत्ति जारी रहने की भविष्यवाणी की है।

सहायता के लिए अपील

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने 5,060 करोड़ रुपये की अंतरिम वित्तीय सहायता की मांग करते हुए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी से संपर्क किया है। यह अपील चेन्नई और उसके पड़ोसी जिलों में चक्रवात मिचौंग के कारण हुए व्यापक नुकसान के जवाब में है।

मौसम की वर्तमान स्थिति

मौसम कार्यालय का अनुमान है कि अगले 24 घंटों में राज्य में आठ इंच तक बारिश होगी। चक्रवात के करीब आते ही तटीय कस्बों में ऊंची लहरें उठीं, जिसके परिणामस्वरूप पूरे गांव जलमग्न हो गए और परिवहन बंद हो गया। क्षेत्र में 390,000 से अधिक लोगों ने चक्रवात का प्रभाव महसूस किया है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1: चक्रवात मिचौंग की प्रारंभिक स्थिति क्या थी और यह कहाँ टकराया था?

A1: मिचौंग की शुरुआत एक भीषण चक्रवाती तूफान के रूप में हुई और इसने दक्षिण आंध्र प्रदेश तट पर दस्तक दी।

Q2: मिचौंग की वर्तमान स्थिति क्या है और यह कहाँ केंद्रित है?

A2: मिचौंग कमजोर होकर एक अवसाद में बदल गया है, जो बापट्ला से लगभग 100 किमी उत्तर-उत्तरपश्चिम में मध्य तटीय आंध्र प्रदेश में केंद्रित है।

Q3: चक्रवात से क्या क्षति हुई है?

A3: तूफान ने 770 किमी सड़कें क्षतिग्रस्त कर दीं, 35 पेड़ उखड़ गए और 194 गांवों और दो कस्बों के लगभग 40 लाख लोग प्रभावित हुए।

Q4: क्या किसी के हताहत होने की सूचना है?

A4: हां, कई मौतें हुई हैं, जिनमें एक दुखद घटना भी शामिल है, जहां तिरूपति जिले में एक झोपड़ी की दीवार गिरने से चार वर्ष के एक लड़के की मौत हो गई।

Q5: आने वाले घंटों में मिचौंग के लिए क्या पूर्वानुमान है?

A5: भारत मौसम विज्ञान विभाग का अनुमान है कि यह दबाव के क्षेत्र में और कमजोर होगा और इसके बाद यह एक अच्छी तरह से चिह्नित कम दबाव वाले क्षेत्र में बदल जाएगा।

Q6: क्षति के जवाब में क्या वित्तीय सहायता मांगी गई है?

A6: तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर अंतरिम वित्तीय सहायता में 5,060 करोड़ रुपये की मांग की है।

Find More National News Here

चक्रवात मिचौंग का आंध्र प्रदेश पर हमला |_40.1

FAQs

दिल्ली मेट्रो स्टेशनों पर भारत सरकार की नई पहल क्या है?

सरकार खाद्य पदार्थों की बढ़ती कीमतों से निपटने के लिए मेट्रो स्टेशनों पर सब्सिडी वाले मुख्य खाद्य भंडार शुरू कर रही है, जिसकी शुरुआत राजीव चौक से होगी।

TOPICS: