Home   »   एलआईसी आईपीओ के आख़िरी दिन, 2.95...

एलआईसी आईपीओ के आख़िरी दिन, 2.95 गुना हुई कुल सदस्यों की संख्या

एलआईसी आईपीओ के आख़िरी दिन, 2.95 गुना हुई कुल सदस्यों की संख्या |_30.1

बोली (bidding) के अंतिम दिन बीमा दिग्गज, भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) के आईपीओ ने बिक्री पर शेयरों की तुलना में 2.95 गुना अधिक मांग देखी, जिससे कुल 43,933 करोड़ रुपये की बोलियां प्राप्त हुईं। यह देश का अब तक का सबसे बड़ा आईपीओ है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

घरेलू निवेशक, ज्यादातर खुदरा, सब्सक्रिप्शन के प्राइमरी ड्राइवर थें। सन् 2008 में रिलायंस पावर द्वारा निर्धारित 4.8 मिलियन के पिछले रिकॉर्ड को तोड़ते हुए, आईपीओ को 7.33 मिलियन खुदरा निवेशक आवेदन प्राप्त हुए। विदेशी पोर्टफोलियो निवेशक (FPI) बढ़ते बॉन्ड यील्ड के कारण वैश्विक जोखिम से बचने के कारण इस मुद्दे पर उदासीन रहे थे।

12,000 करोड़ रुपये से अधिक की कुल बोलियों के साथ पॉलिसीधारकों के घटक में उच्चतम स्तर की भागीदारी देखी गई। कर्मचारियों के शेयरों को 4.4 गुना सब्सक्राइब किया गया, जबकि खुदरा व्यक्तिगत निवेशकों के शेयरों को दो गुना सब्सक्राइब किया गया, जिसमें कुल बोलियां 12,450 करोड़ रुपये से अधिक थीं।

भारतीय जीवन बीमा निगम (एलआईसी) (Life Insurance Corporation of India’s (LIC))

भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) एक भारतीय वैधानिक बीमा और निवेश कंपनी है जिसका मुख्यालय मुंबई में है। यह भारत सरकार के नियंत्रण में है। भारतीय जीवन बीमा निगम की स्थापना 1 सितंबर, 1956 को हुई, जब भारतीय संसद ने भारतीय जीवन बीमा अधिनियम पारित किया, जिसने भारतीय बीमा व्यवसाय का राष्ट्रीयकरण किया। 245 से अधिक बीमा कंपनियों और प्रोविडेंट सोसाइटी के विलय के माध्यम से राज्य के स्वामित्व वाली भारतीय जीवन बीमा निगम का गठन किया गया था।

Find More Business News Here

एलआईसी आईपीओ के आख़िरी दिन, 2.95 गुना हुई कुल सदस्यों की संख्या |_40.1

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *