Home   »   मशहूर शास्त्रीय गायिका प्रभा अत्रे का...

मशहूर शास्त्रीय गायिका प्रभा अत्रे का 91 वर्ष की उम्र में निधन

मशहूर शास्त्रीय गायिका प्रभा अत्रे का 91 वर्ष की उम्र में निधन |_30.1

भारतीय शास्त्रीय संगीत जगत प्रतिष्ठित शास्त्रीय गायिका और किराना घराने की प्रख्यात हस्ती डॉ. प्रभा अत्रे के निधन पर शोक मना रहा है, जिनका 91 वर्ष की आयु में पुणे में निधन हो गया। संगीत की दुनिया में अपने बहुमुखी योगदान के लिए जानी जाने वाली डॉ. अत्रे के निधन से भारतीय शास्त्रीय संगीत के इतिहास के एक गौरवशाली अध्याय का अंत हो गया।

 

डॉ. प्रभा अत्रे का जीवन और करियर

13 सितंबर, 1932 को जन्मी प्रभा अत्रे न केवल एक शास्त्रीय गायिका थीं, बल्कि एक शिक्षाविद, शोधकर्ता, संगीतकार और लेखिका भी थीं। उनकी शैक्षिक पृष्ठभूमि उनके संगीत कैरियर की तरह ही विविध थी; उन्होंने विज्ञान स्नातक की डिग्री, एलएलबी और संगीत में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की। उनकी डॉक्टरेट थीसिस का शीर्षक ‘सरगम’ था, जो संगीत सिद्धांत और अभ्यास के साथ उनके गहरे जुड़ाव को दर्शाता है।

 

डॉ. प्रभा अत्रे की संगीतमय यात्रा और शैली

किराना घराने का प्रतिनिधित्व करते हुए, डॉ. अत्रे की शैली में ख्याल, ठुमरी, ग़ज़ल, भजन और तराना जैसे विभिन्न रूपों को शामिल करते हुए एक परिष्कृत दृष्टिकोण की विशेषता थी। उन्होंने विश्व स्तर पर यात्रा की, अपना ज्ञान साझा किया और संगीत पर व्याख्यान दिया, इस प्रकार वह विश्व मंच पर भारतीय शास्त्रीय संगीत की राजदूत बन गईं।

 

डॉ. प्रभा अत्रे की उपलब्धियाँ एवं सम्मान

डॉ. अत्रे के योगदान को कई प्रतिष्ठित पुरस्कारों के माध्यम से मान्यता दी गई। वह संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार (1991), पद्म श्री (1990), पद्म भूषण (2002), और भारत के दूसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म विभूषण (2022) की प्राप्तकर्ता थीं।

 

डॉ. प्रभा अत्रे का निधन और विरासत

डॉ. अत्रे का दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। उनकी विरासत उनके संगीत से परे है; वह भारतीय शास्त्रीय संगीत के बदलते चेहरे, रूढ़ियों को चुनौती देने और नए दृष्टिकोण पेश करने का प्रतीक थीं। उनका निधन न केवल भारतीय संगीत उद्योग के लिए बल्कि उनकी कला का सम्मान करने वाले वैश्विक समुदाय के लिए भी क्षति है।

 

 

FAQs

विश्व हिंदी दिवस कब मनाया जाता है?

विश्व भर में हिंदी के प्रचार प्रसार के लिए और इसे बढ़ावा देने के मकसद से हर वर्ष 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस के तौर पर मनाया जाता है।