gdfgerwgt34t24tfdv
Home   »   चीनी इकोनॉमी पर डिफ्लेशन का खतरा,...

चीनी इकोनॉमी पर डिफ्लेशन का खतरा, जानें सबकुछ

चीनी इकोनॉमी पर डिफ्लेशन का खतरा, जानें सबकुछ |_3.1

चीन की अर्थव्यवस्था अपस्फीति (Deflation) की तरफ जा रही है और उपभोक्ता मूल्यों में दो साल से अधिक समय में पहली बार कमजोर मांग के संकेत के रूप में गिर रही हैं। चीन के राष्ट्रीय सांख्यिकी ब्यूरो के अनुसार, उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) जुलाई में एक साल पहले की तुलना में 0.3 प्रतिशत गिर गया। विशेष रूप से, फरवरी 2021 के बाद यह पहली बार है कि सूचकांक में गिरावट आई है. भोजन, परिवहन और घरेलू सामान सभी की लागत में जुलाई में गिरावट देखी गई है।

दुनिया की इस दूसरी सबसे बड़ी इकोनॉमी में डिमांड इतनी ज्यादा घटी है कि अब इस पर डिफ्लेशन का खतरा मंडराने लगा है। दरअसल, चीन ने जुलाई महीने के कंज्यूमर और प्रोड्यूसर प्राइस इंडेक्स के आंकड़े जारी किए हैं, दोनों में गिरावट है। डिफ्लेशन की बात करें तो यह इंफ्लेशन (मुद्रास्फीति) की विपरीत स्थिति होती है। जब महंगाई दर 0 प्रतिशत से भी नीचे चली जाती है तब डिफ्लेशन की परिस्थितियां बनती हैं।

 

अपस्फीति क्या है?

अपस्फीति से मतलब है वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों में एक सामान्य गिरावट, जो आमतौर पर अर्थव्यवस्था में धन और ऋण की आपूर्ति में संकुचन से जुड़ी होती है। अपस्फीति के दौरान, मुद्रा की क्रय शक्ति समय के साथ बढ़ती है. सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, विशेष रूप से, पोर्क की कीमतों में 26 प्रतिशत की गिरावट आई है और सब्जियों की कीमतों में 1.5 प्रतिशत की गिरावट आई है। उत्पादक मूल्य सूचकांक (पीपीआई), एक अन्य पैरामीटर जो फैक्ट्री गेट पर माल की कीमतों को मापता है, जुलाई में एक साल पहले की तुलना में 4.4 प्रतिशत कम हो गया।

 

सकल घरेलू उत्पाद मुश्किल से बढ़ा

पिछली तिमाही की तुलना में अप्रैल से जून की अवधि में चीन का सकल घरेलू उत्पाद मुश्किल से बढ़ा। यह पिछले साल के अंत में महामारी संबंधी प्रतिबंध हटने से शुरू हुई आर्थिक गतिविधियों में शुरुआती तेजी के कम होने के बाद आया है। बीजिंग अपने रियल एस्टेट क्षेत्र में लंबे समय से मंदी और कमजोर व्यापार से भी जूझ रहा है। चीन ने विकसित अर्थव्यवस्थाओं में देखे गए विशाल कोविड समय के समर्थन से परहेज किया।

 

कीमतों में लगातार गिरावट

डिफ्लेशन की स्थिति में महंगाई या कीमतों में लगातार गिरावट की स्थिति जारी रहती है। डिफ्लेशन के दौरान उत्पादों और सेवाओं के मूल्य लगातार कम होते जाते हैं। इस दौरान बेरोजगारी भी बढ़ती है क्योंकि अर्थव्यवस्था में डिमांड काफी घट जाती है। रोजगार की कमी से मांग और कम हो जाती है, जिससे डिफ्लेशन और तेज होता है। डिमांड में कमी आने पर निवेश में भी गिरावट देखी जाती है।

 

डिफ्लेशन के दौरान बढ़ने लगती है बेरोजगारी

डिफ्लेशन के दौरान चीजों की कीमतें घटती जाती हैं, लेकिन लोग कीमतों के और कम होने की उम्मीद में खरीदारी नहीं हैं। ऐसे में वस्तुओं की बिक्री न होने से उसे बनाने वाले उत्पादकों की आय घट जाती है। ऐसी स्थिति में प्रोडक्शन कंपनियां लोगों को नौकरी से निकालती हैं और नतीजन बेरोजगारी बढ़ती है। इन स्थितियों में ब्याज दरें भी काफी ज्यादा बढ़ जाती हैं। कम कीमत और लोगों के कम खर्च से स्थिति और बिगड़ती जाती है।

 

Find More News on Economy Here

जुलाई में सर्विसेज पीएमआई 13 साल के उच्चतम स्तर पर |_110.1

FAQs

चीन की राजधानी क्या है?

चीन की राजधानी बीजिंग है।