Home   »   चंद्रमा के सुदूर हिस्से पर चीन...

चंद्रमा के सुदूर हिस्से पर चीन का चांग’ई-6 मिशन

चंद्रमा के सुदूर हिस्से पर चीन का चांग’ई-6 मिशन_3.1

अंतरिक्ष की दुनिया में बहुत बड़ी कामयाबी हासिल करते हुए चीन ने दूसरी बार चंद्रमा के सुदूर भाग पर अपना लैंडर उतार दिया है, जिसका काम सबसे सबसे पुराने चंद्र बेसिन से चट्टान के नमूने जुटाकर वापस पृथ्वी पर आना है।

चीन के राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्रशासन (CNSA) ने घोषणा की है, कि Chang’e-6 लैंडर 02 जून को बीजिंग के समय के मुताबिक, सुबह 6.23 बजे दक्षिणी ध्रुव-ऐटकेन बेसिन के उत्तरपूर्वी हिस्से में सफलतापूर्वक उतर गया है।

चंद्रमा के सुदूर भाग

CNSA ने अपने बयान में कहा है, कि “इस मिशन ने तकनीकी सफलताएं हासिल की हैं, जिसमें लुनार रेट्रोग्रेड ऑर्बिट डिजाइन और कंट्रोल टेक्नोलॉजी शामिल है। क्यूकियाओ-2 के समर्थन से, यह चंद्रमा के सुदूर भाग से इंटेलिजेंट, रेपिड सैंपलिंग और चंद्र सतह से उड़ान भरने जैसे महत्वपूर्ण कार्यों को पूरा करेगा।”

चांग’ई-6 लैंडर पर मौजूद पेलोड

बयान में आगे कहा गया है, कि “चांग’ई-6 लैंडर पर मौजूद पेलोड योजना के मुताबिक काम करेंगे और वैज्ञानिक अन्वेषण करेंगे। यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी द्वारा विकसित चंद्र सतह पर निगेटिव आयन और फ्रांस से आउटगैसिंग राडोएन का पता लगाने सहित अंतर्राष्ट्रीय उपकरण बहुत जल्द चालू हो जाएंगे। इतालवी निष्क्रिय लेजर रेट्रो-रिफ्लेक्टर को भी तैनात किया गया है।”

लैंडर जल्द ही प्रारंभिक जांच से गुजरेगा

रिपोर्ट के मुताबिक, लैंडर जल्द ही प्रारंभिक जांच से गुजरेगा और अपने रोबोटिक हाथ का उपयोग करके चंद्रमा की सतह से नमूनों को ड्रिल करके निकालना शुरू कर देगा, जिसका वजन 2 किलोग्राम (4.4 पाउंड) तक होने की उम्मीद है।

साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की एक रिपोर्ट में, बीजिंग के भूविज्ञान और भूभौतिकी संस्थान के भू-रसायनज्ञ यांग वेई, जिन्होंने चांग’ई-5 चंद्रमा के नमूनों का अध्ययन किया है, उन्होंने कहा, कि “मेरे सहकर्मी और मैं बहुत उत्साहित हैं। मुझे उम्मीद है कि यह मिशन पूरी तरह सफल होगा और इतिहास रचेगा।”

एक लाख से ज्यादा लोग एकत्र

चांग’ई-6, जिसका नाम चीनी चंद्रमा देवी के नाम पर रखा गया है, उसे 3 मई को दक्षिणी द्वीप प्रांत हैनान के वेनचांग अंतरिक्ष यान से प्रक्षेपित किया गया था। चीन के सरकारी प्रसारक सीसीटीवी ने बताया है, कि बारिश की स्थिति के बावजूद, प्रक्षेपण को देखने के लिए आस-पास के समुद्र तटों पर एक लाख से ज्यादा लोग एकत्र हुए थे।

चंद्रमा की ऑर्बिट में प्रवेश

लॉंच होने के चार दिनों के बाद ये अंतरिक्ष यान चंद्रमा की ऑर्बिट में प्रवेश कर गया था। इस अंतरिक्ष यान का वजन 8.35 टन है, जिसमें एक लैंडर, आरोही, ऑर्बिटर और वापसी कैप्सूल शामिल हैं।

 

FAQs

चीन की राजधानी क्या है?

बीजिंग (Beijing) चीन की राजधानी है.