Home   »   चीन ने तिब्बत में भारत की...

चीन ने तिब्बत में भारत की सीमा के पास गंगा की सहायक नदी पर नया बांध बनाया

चीन ने तिब्बत में भारत की सीमा के पास गंगा की सहायक नदी पर नया बांध बनाया |_30.1

चीन ने भारत के साथ भविष्‍य में जलयुद्ध की तैयारी को तेज कर दिया है। अरुणाचल प्रदेश की सीमा के बाद अब ड्रैगन ने नेपाल-भारत और चीन के ट्राइजंक्‍शन पर एक विशाल बांध के काम को तेज कर दिया है। ताजा सैटलाइट तस्‍वीरों से खुलासा हुआ है कि चीन ने साल 2021 में माब्जा जांगबो नदी पर एक विशाल बांध बना रहा है जो ट्राइजंक्‍शन से मात्र कुछ ही किमी की दूरी पर है। विश्‍लेषकों का कहना है कि उत्‍तराखंड के पास बन रहे चीन के इस बांध से भविष्‍य में ड्रैगन इस इलाके में पानी पर पूरा नियंत्रण स्‍थापित कर सकता है।

 

कितना लंबा है डैम?

 

शोधकर्ता डेमियन साइमन ने कहा कि बांध भारत और नेपाल के साथ चीन की सीमा के तिराहे के उत्तर में कुछ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। साइमन ने ये भी बताया कि नई सैटेलाइट तस्वीरों के अनुसार, बांध 350 मीटर से 400 मीटर लंबा प्रतीत होता है। उन्होंने कहा कि चूंकि अभी कंस्ट्रक्शन जारी है तो ऐसे में इसके उद्देश्य पर कुछ कहा नहीं जा सकता। हालांकि, साइमन ने कहा कि पास में एक हवाई अड्डा भी बनाया जा रहा है।

 

माब्जा जांगबो नदी के बारे में

 

माब्जा जांगबो नदी अंततः भारत में गंगा में शामिल होने से पहले नेपाल में घाघरा या करनाली नदी के रूप में बहती है। साइमन ने इमेजरी की व्याख्या कर बताया कि यह बांध भारत और नेपाल के साथ चीन की सीमा के तिराहे के उत्तर कुछ किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। भारत में गंगा से मिलने से पहले माब्जा जांगबो नदी नीचे की ओर घाघरा या करनाली नदी में बहती है। माब्जा जांगबो कैलाश पर्वत से निकलती है, लेकिन यह करनाली के गंभीर रूप से महत्वपूर्ण जल की एक प्रमुख सहायक नदी नहीं है। करनाली नदी यमुना नदी के बाद गंगा की लंबाई के हिसाब से दूसरी सबसे बड़ी सहायक नदी है, और आयतन के हिसाब से गंगा की सबसे बड़ी सहायक नदी है।

 

चीन ने तिब्बत में भारत की सीमा के पास गंगा की सहायक नदी पर नया बांध बनाया |_40.1

FAQs

चीन की राजधानी क्या है?

चीन की राजधानी का नाम बीजिंग है।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *