Home   »   केंद्र सरकार ने बहुभाषी शिक्षा के...

केंद्र सरकार ने बहुभाषी शिक्षा के लिए ‘अनुवादिनी’ ऐप लॉन्च किया

केंद्र सरकार ने बहुभाषी शिक्षा के लिए 'अनुवादिनी' ऐप लॉन्च किया |_30.1

शिक्षा में बहुभाषावाद को बढ़ावा देने की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम में, केंद्र सरकार ने एक आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस-आधारित प्लेटफॉर्म ‘अनुवादिनी’ ऐप पेश किया है। इस पहल का उद्देश्य सभी स्कूल और उच्च शिक्षा पाठ्यक्रमों के लिए अध्ययन सामग्री को डिजिटल रूप में उपलब्ध कराना है, विशेष रूप से भारतीय संविधान की 8वीं अनुसूची में सूचीबद्ध भारतीय भाषाओं में। यह कदम राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) 2020 की सिफारिशों के अनुरूप है, जो अपनी मातृभाषा में अध्ययन के महत्व पर जोर देती है।

 

शिक्षा मंत्रालय के प्रमुख निर्देश

  • विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी), अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) और स्कूल शिक्षा विभाग को क्षेत्रीय भाषाओं में अध्ययन सामग्री की उपलब्धता सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है।
  • यूजीसी, एआईसीटीई, एनसीईआरटी, एनआईओएस, इग्नू और आईआईटी, सीयू और एनआईटी जैसे संस्थानों सहित शैक्षिक नियामकों को अगले तीन वर्षों के भीतर भारतीय भाषाओं में अध्ययन सामग्री को सुलभ बनाना अनिवार्य है।
  • एनईपी 2020 भारत की बहुभाषी प्रकृति के मूल्य को रेखांकित करता है, इसे देश के सामाजिक-सांस्कृतिक, आर्थिक और शैक्षिक विकास के लिए एक महत्वपूर्ण संपत्ति मानता है।

 

मंत्रिस्तरीय परिप्रेक्ष्य

  • स्कूल शिक्षा मंत्री, दीपक केसरकर, छात्रों को अपनी मातृभाषा में अकादमिक रूप से उत्कृष्टता प्राप्त करने का अवसर प्रदान करने के लिए बहुभाषावाद को बढ़ावा देने पर जोर देते हैं।
  • उच्च और तकनीकी शिक्षा मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने ‘अनुवादिनी’ ऐप का उपयोग करके इंजीनियरिंग, मेडिकल, कानून, स्नातक, स्नातकोत्तर और कौशल पाठ्यक्रम सामग्री का अनुवाद करने में दो साल के प्रयास पर प्रकाश डाला।

 

FAQs

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग क्या होता है?

विश्‍वविद्यालय शिक्षा में शिक्षण, परीक्षा और अनुसंधान के मानकों के समन्वय, निर्धारण और रख-रखाव के लिए 1956 में संसद के एक अधिनियम द्वारा विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) की स्थापना की गई थी। अब विश्‍वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) उच्चतर शिक्षा का एक महत्वपूर्ण स्तंभ बन गया है।