Home   »   ब्रिटेन में कुत्तों से इंसान में...

ब्रिटेन में कुत्तों से इंसान में फैल रही रहस्यमयी दुर्लभ बीमारी

ब्रिटेन में कुत्तों से इंसान में फैल रही रहस्यमयी दुर्लभ बीमारी_3.1

ब्रिटेन में इन दिनों एक ऐसा वायरस धीरे-धीरे सक्रिय होता जा रहा है, जो अबतक केवल कुत्‍तों तक ही सीमित था. लोगों में कुत्‍तें से जुड़े ब्रुसेला कैनिस नामक जीवाणु संक्रमण के तीन मामले यूके में सामने आने से हड़कंप मच गया है. इंसानों में जीवाणु संक्रमण के मामले आने से ब्रिटेन का स्‍वास्‍थ्‍य विभाग भी सकते में है. 2020 की गर्मियों के बाद से, यूनाइटेड किंगडम में कुत्तों के बीच ब्रुसेला कैनिस संक्रमण के मामलों में चिंताजनक वृद्धि देखी गई है, जो मुख्य रूप से पूर्वी यूरोप से उत्पन्न हुए हैं। कुत्तों में फैल रही इस लाइलाज बीमारी ने अब इंसानों को संक्रमित करने की खतरनाक छलांग लगा दी है।

 

ब्रुसेला कैनिस: रोग को समझना

ब्रुसेला कैनिस, एक जीवाणु जो कैनाइन ब्रुसेलोसिस का कारण बनता है, इस बढ़ती स्वास्थ्य चिंता के पीछे दोषी है। यह अत्यधिक संक्रामक रोगज़नक़ मुख्य रूप से कुत्तों को लक्षित करता है लेकिन संक्रमित कुत्तों के सीधे संपर्क के माध्यम से मनुष्यों में संचारित हो सकता है।

 

यह बीमारी लाइलाज

यह रोग आमतौर पर कुत्तों में दर्द, लंगड़ापन और बांझपन का कारण बनता है. द इंडिपेंडेंट की रिपोर्ट में बताया गया कि आमतौर पर देखा गया है कि कुत्तों में यह बीमारी लाइलाज होती है और इससे उनकी जान का खतरा भी पैदा हो जाता है. वहीं, इंसानों में इस बीमारी का प्रसार होने बावजूद इसका असर काफी हल्‍का देखा गया है. बताया गया कि इसके परिणामस्वरूप लोगों को मेनिनजाइटिस और सेप्टीसीमिया हो सकता है.

 

मनुष्यों में लक्षण

मनुष्यों में ब्रुसेला कैनिस संक्रमण के लक्षणों का निदान करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, क्योंकि वे अक्सर हल्के और गैर-विशिष्ट होते हैं। इन लक्षणों में शामिल हो सकते हैं:

  1. फ्लू जैसे लक्षण: बुखार, भूख न लगना, रात को पसीना, सिरदर्द, थकान और जोड़ों या पीठ में दर्द सामान्य प्रारंभिक संकेतक हैं।
  2. लंबे समय तक रहने वाले प्रभाव: कुछ व्यक्तियों को बार-बार बुखार और थकान जैसे लगातार लक्षणों का अनुभव हो सकता है।
  3. दुर्लभ जटिलताएँ: दुर्लभ मामलों में, ब्रुसेला कैनिस संक्रमण तंत्रिका तंत्र, आँखों या हृदय को प्रभावित कर सकता है, जिससे अधिक गंभीर स्वास्थ्य समस्याएं हो सकती हैं।

 

मनुष्यों में हस्तांतरण

मनुष्यों में ब्रुसेला कैनिस का संचरण विभिन्न मार्गों से होता है:

  1. सीधा संपर्क: संक्रमण तब हो सकता है जब व्यक्ति संक्रमित कुत्तों के शारीरिक तरल पदार्थ (जैसे, मूत्र, मल, उल्टी, लार, रक्त और प्रजनन तरल पदार्थ) के सीधे संपर्क में आते हैं।
  2. एरोसोल एक्सपोज़र: जीवाणु युक्त वायुजनित कणों के साँस लेने से भी संक्रमण हो सकता है।
  3. अंतर्ग्रहण: दूषित सामग्री या भोजन का सेवन बैक्टीरिया को मानव शरीर में प्रवेश करा सकता है।
  4. श्लेष्मा झिल्ली और त्वचा संपर्क: श्लेष्मा झिल्ली के संदूषण या खुली त्वचा के घावों से संक्रमण का खतरा होता है।

 

रोकथाम एवं सुरक्षा उपाय

ब्रुसेला कैनिस संक्रमण की रोकथाम में सावधानीपूर्वक प्रबंधन और सुरक्षात्मक उपाय शामिल हैं:

  1. कोई उपलब्ध टीका नहीं: दुर्भाग्य से, रोकथाम के महत्व पर जोर देते हुए इस संक्रमण के खिलाफ कोई टीका नहीं है।
  2. सीधे संपर्क से बचें: व्यक्तियों को संक्रमित कुत्तों के शारीरिक तरल पदार्थों के सीधे संपर्क से बचना चाहिए, खासकर कुत्ते के आंतरिक अंगों को संभालते समय।
  3. सुरक्षात्मक गियर: संभावित रूप से संक्रमित कुत्तों से निपटने के दौरान, संचरण के जोखिम को कम करने के लिए रबर के दस्ताने और अन्य सुरक्षात्मक गियर पहनना आवश्यक है।

 

सरकारी प्रतिक्रिया और कुत्ता प्रबंधन

कुत्तों के मामले में, ब्रुसेला कैनिस इलाज योग्य नहीं है, और सरकारी दिशानिर्देश आवश्यक कार्रवाई के रूप में इच्छामृत्यु की सलाह देते हैं। रोगाणुरोधी उपचार के बाद भी संक्रमित कुत्तों को जीवन भर का वाहक माना जाता है, जो अन्य कुत्तों और मनुष्यों के लिए खतरा पैदा करते हैं।

 

Find More International News Here

India Emerges as Bangladesh's Leading Export Partner_100.1

FAQs

ब्रुसेला की पहचान कैसे की जाती है?

रक्त, अस्थि मज्जा या अन्य शारीरिक तरल पदार्थों के नमूनों में बैक्टीरिया का पता लगाकर ब्रुसेलोसिस का प्रयोगशाला में निदान किया जा सकता है। बैक्टीरिया के खिलाफ एंटीबॉडी का पता लगाने के लिए सीरोलॉजिकल परीक्षण भी किए जा सकते हैं।