Home   »   ‘एआईएफएफ ग्रासरूट दिवस’ के रूप में...

‘एआईएफएफ ग्रासरूट दिवस’ के रूप में मनाया जाएगा पीके बनर्जी का जन्मदिन

'एआईएफएफ ग्रासरूट दिवस' के रूप में मनाया जाएगा पीके बनर्जी का जन्मदिन |_30.1

अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (एआईएफएफ) ने अपने जमाने के दिग्गज फुटबॉलर प्रदीप कुमार बनर्जी के जन्मदिन 23 जून को ‘एआईएफएफ ग्रासरूट दिवस’ के रूप में मनाने का फैसला किया है। पीके के नाम से मशहूर बनर्जी ने 1960 के रोम ओलंपिक में भारतीय टीम की अगुवाई की थी। एक खिलाड़ी के रूप में अपार सफलता हासिल करने के बाद वह कोच बने जिसमें उन्हें काफी सफलता मिली। यह निर्णय भारतीय फुटबॉल में पीके के उल्लेखनीय योगदान, विशेष रूप से 1962 के एशियाई खेलों में राष्ट्रीय टीम को एक ऐतिहासिक स्वर्ण पदक जीत दिलाने में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका को स्वीकार करने के लिए लिया गया था।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

एआईएफएफ के महासचिव शाजी प्रभाकरण ने कहा कि हम अक्सर यह भूल जाते हैं प्रदीप दा बहुत अच्छे कोच भी थे। खेल से संन्यास लेने के बाद उन्होंने कोचिंग देनी शुरू की और अगले 30 वर्षों में देश को कई नामी खिलाड़ी दिए जिन्होंने राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उत्कृष्ट प्रदर्शन किया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय और क्लब कोच की काफी चर्चा होती है लेकिन भारतीय फुटबॉल समुदाय पीके दा के जमीनी स्तर (ग्रासरूट) पर किए गए योगदान को नहीं भूल सकता।

 

बनर्जी ने 1962 के एशियाई खेलों में भारत को ऐतिहासिक स्वर्ण पदक दिलाने में अहम भूमिका निभाई थी। उनका मार्च 2020 में निधन हो गया था। एआईएफएफ के अध्यक्ष कल्याण चौबे ने कहा कि मैं जो भी शब्द कहूंगा वह भारतीय फुटबॉल में प्रदीप दा के योगदान का सम्मान करने के लिए पर्याप्त नहीं होंगे। वह हम सभी की प्रशंसा के पात्र हैं। वह हमेशा भारतीय फुटबॉल को आगे बढ़ते हुए देखना चाहते थे।

 

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

 

  • अध्यक्ष: कल्याण चौबे;
  • एआईएफएफ का मुख्यालय नई दिल्ली के द्वारका में फुटबॉल हाउस में है;
  • अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ (एआईएफएफ) का गठन 1937 में हुआ था।

Find More Sports News Here

'एआईएफएफ ग्रासरूट दिवस' के रूप में मनाया जाएगा पीके बनर्जी का जन्मदिन |_40.1

FAQs

किस देश को आधुनिक फुटबॉल का जनक कहा जाता है?

इंग्लैंड को आधुनिक फुटबॉल का जनक कहा जाता है।