Home   »   बेंगलुरू में बनेगी भारत की सबसे...

बेंगलुरू में बनेगी भारत की सबसे बड़ी सर्कुलर रेलवे

बेंगलुरू में बनेगी भारत की सबसे बड़ी सर्कुलर रेलवे |_30.1

बेंगलुरु ने 287 किलोमीटर लंबे सर्कुलर रेलवे की स्थापना की योजना बनाई है, जिसका लक्ष्य संभावित रूप से चेन्नई के 235.5 किलोमीटर लंबे सर्कुलर रेलवे को पछाड़कर देश का सबसे बड़ा उपनगरीय नेटवर्क बनना है।

बेंगलुरु, भारत का हलचल भरा आईटी केंद्र, 287 किलोमीटर लंबे सर्कुलर रेलवे की घोषणा के साथ अपने परिवहन बुनियादी ढांचे में एक अभूतपूर्व विकास का गवाह बनने के लिए तैयार है। रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने बेंगलुरु में रेलवे परियोजनाओं की व्यापक समीक्षा के बाद एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान इस महत्वाकांक्षी परियोजना का खुलासा किया।

भविष्य के लिए दृष्टिकोण: सात मार्गों पर पूर्ण कनेक्टिविटी

सर्कुलर रेलवे बेंगलुरु के आसपास के प्रमुख शहरों को जोड़ने का प्रयास करता है, जिससे भारत का सबसे व्यापक नेटवर्क बनता है। यह मौजूदा आवश्यकताओं से आगे बढ़कर अगले 40-50 वर्षों के लिए परिवहन समाधान की कल्पना करता है। बेंगलुरु उपनगरीय रेलवे परियोजना (बीएसआरपी) के साथ मिलकर, यह शहर की बढ़ती परिवहन मांगों के लिए अंतिम प्रतिक्रिया के रूप में उभरती है।

व्यवहार्यता और संरेखण अध्ययन के लिए अभूतपूर्व फंडिंग

बेंगलुरु के सर्कुलर रेलवे पर व्यापक विचार-विमर्श को स्वीकार करते हुए, मंत्री अश्विनी वैष्णव ने व्यवहार्यता और संरेखण अध्ययन के लिए 7 करोड़ रुपये की मंजूरी दी है। परियोजना की सफलता और शहर की बढ़ती जरूरतों को पूरा करने के लिए यह महत्वपूर्ण पहल आवश्यक है। यदि लागू किया जाता है, तो सर्कुलर रेलवे, चेन्नई के 235.5 किलोमीटर नेटवर्क को पार करते हुए, भारत की सबसे बड़ी उपनगरीय रेलवे के रूप में उभर सकती है।

संभावित समयरेखा: अगले पांच वर्षों में एक वास्तविकता

हालांकि मंत्री ने कोई समयसीमा निर्दिष्ट नहीं की, लेकिन दक्षिण पश्चिम रेलवे (एसडब्ल्यूआर) के विश्वसनीय सूत्रों का सुझाव है कि अगर सब कुछ सुचारू रूप से चलता रहा तो सर्कुलर रेलवे अगले पांच वर्षों के भीतर वास्तविकता बन सकता है। परिकल्पित सर्कुलर रेलवे को हब-एंड-स्पोक मॉडल का पालन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो लगभग 20-25 किमी दूर स्थित सात स्पोक के साथ शहर के मुख्य भाग को एकीकृत करता है।

अवधारणा की तुलना: पेरिफेरल रिंग रोड (पीआरआर) का रेलवे संस्करण

संक्षेप में, सर्कुलर रेलवे को पेरिफेरल रिंग रोड (पीआरआर) के रेलवे संस्करण के रूप में देखा जा सकता है। मंत्री वैष्णव ने प्रस्तावित मार्ग के बारे में जानकारी प्रदान की, जिसमें डोड्डाबल्लापुर, देवनहल्ली, मालूर, हीलालिगे, हेज्जला और सोलूर के माध्यम से निदावंदा-निदावंडा लाइन का उल्लेख किया गया। टोक्यो, लंदन, दिल्ली या बेंगलुरु जैसे अन्य वैश्विक शहरों में सफल मॉडल के समान, सार्वजनिक परिवहन को बढ़ाने के लिए रेल-आधारित प्रणाली की कल्पना की गई है।

व्यवहार्यता अध्ययन और भविष्य के कदम

एसडब्ल्यूआर के निर्माण संगठन द्वारा आयोजित किया जाने वाला व्यवहार्यता और संरेखण अध्ययन एक महत्वपूर्ण प्रारंभिक कदम है। अध्ययन के लिए निविदाएं जल्द ही बुलाए जाने की उम्मीद है, रिपोर्ट सितंबर 2024 तक आने की उम्मीद है। इसके बाद, एक विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) 2025 में शुरू होने की संभावना है, जिसे पूरा होने में संभावित रूप से एक वर्ष लगेगा। यदि सब कुछ योजना के अनुसार चला, तो सालाना 80-90 किमी सर्कुलर रेलवे का निर्माण हासिल किया जा सकता है। रेलवे नेटवर्क में कम से कम दो ट्रैक होंगे और यह पूरी तरह से विद्युतीकृत होगा।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. बेंगलुरु में सर्कुलर रेलवे की व्यवहार्यता और संरेखण अध्ययन के लिए कितनी धनराशि आवंटित की गई है?

उत्तर: बेंगलुरु के सर्कुलर रेलवे की व्यवहार्यता और संरेखण अध्ययन के लिए 7 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।

2. बेंगलुरु के सर्कुलर रेलवे की प्रस्तावित लंबाई क्या है?

उत्तर: बेंगलुरु के सर्कुलर रेलवे की प्रस्तावित लंबाई 287 किमी है, जो संभावित रूप से चेन्नई के 235.5 किमी सर्कुलर रेलवे को पार कर जाएगी, जो इसे भारत के सबसे बड़े उपनगरीय रेलवे नेटवर्क में से एक बनाती है।

3. बेंगलुरु के सर्कुलर रेलवे की प्राप्ति के लिए संभावित समयरेखा क्या है?

उत्तर: हालांकि मंत्री ने कोई समयसीमा निर्दिष्ट नहीं की, लेकिन विश्वसनीय सूत्रों का सुझाव है कि सर्कुलर रेलवे अगले पांच वर्षों के भीतर वास्तविकता बन सकता है।

Find More National News Here

बेंगलुरू में बनेगी भारत की सबसे बड़ी सर्कुलर रेलवे |_40.1

FAQs

भारत का सबसे छोटा जिला कौन सा है?

भारत का सबसे छोटा जिला केंद्र शासित प्रदेश पुडुचेरी का माहे जिला है। क्षेत्रफल के हिसाब से यह भारत का सबसे छोटा जिला है।

TOPICS: