Home   »   बेंगलुरू: कम्बाला दौड़ का मेजबान

बेंगलुरू: कम्बाला दौड़ का मेजबान

बेंगलुरू: कम्बाला दौड़ का मेजबान |_30.1

बेंगलुरु ने अपने पहले कंबाला कार्यक्रम की मेजबानी की, जिसने न केवल 11 लाख से अधिक आगंतुकों को पारंपरिक भैंस रेसिंग का रोमांच प्रदान किया, बल्कि तुलुनाडु की समृद्ध संस्कृति का भी प्रदर्शन किया।

बेंगलुरु शहर में पहली बार कंबाला कार्यक्रम की मेजबानी के नजारे ने 11 लाख से अधिक आगंतुकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। इस कार्यक्रम में न केवल भैंसों की दौड़ का रोमांच दिखाया गया, बल्कि बेंगलुरुवासियों को तटीय व्यंजनों और जीवंत सांस्कृतिक प्रदर्शन का आनंददायक अनुभव भी दिया गया।

लोक चरित्र का जीवंत होना

पैलेस ग्राउंड में बेंगलुरु कम्बाला ट्रैक एक विजुअल फीस्ट में बदल गया, जिसके एक तरफ तुलुनाडु के लोक पात्रों के रूप में सजे हुए लोग थे। इन जीवंत आकृतियों ने न केवल कार्यक्रम की सांस्कृतिक समृद्धि को बढ़ाया, बल्कि पूरे उत्सव के दौरान भीड़ को सेल्फी खिंचवाने और उनका मनोरंजन करने में भी व्यस्त रखा।

एड्रेनालाईन-पैक्ड रेस

भैंसें अपनी कुशलता के साथ ट्रैक पर दौड़ने लगीं, भीड़ अपनी सीटों के किनारे पर थी। इस कार्यक्रम में ग्लैमर का तड़का लगाते हुए, पूजा हेगड़े, संजना गलरानी, सोनल मोंटेइरो, रक्षित शेट्टी और उपेंद्र सहित तुलुनाडु के लोकप्रिय अभिनेताओं ने इस अवसर की शोभा बढ़ाई।

योग्यताएं, सेमी-फ़ाइनल और एलईडी स्क्रीन रिप्ले

शनिवार से शुरू हुई दौड़ के साथ, कई टीमें क्वार्टर और सेमीफाइनल के लिए क्वालीफाई कर चुकी थीं। दौड़ के बाद, एक एलईडी स्क्रीन पर रोमांचक मैच दोबारा दिखाए गए, जिससे दर्शकों को पुनः रोमांच का एहसास हुआ और प्रतिभागियों की जीत में हिस्सा लिया गया।

चैंपियन भैंस का सम्मान

एक विशेष क्षण में, एक भैंस जिसने 200 से अधिक पदक अर्जित किए थे और कई चैंपियनशिप में लगातार विजेता बनकर उभरी थी, उसे बेंगलुरु कंबाला में सम्मानित किया गया। इस भाव-भंगिमा ने रेसिंग भैंसों और उनकी उपलब्धियों के बीच के बंधन के महत्व पर प्रकाश डाला, जिससे कार्यक्रम में एक भावुक स्पर्श जुड़ गया।

ग्रैंड फिनाले

जैसा कि आयोजन समिति के सदस्य जीएस पुस्पा लैथम ने बताया, दौड़ सोमवार तड़के तक जारी रही, जिससे इस ऐतिहासिक कंबाला कार्यक्रम के भव्य समापन का वादा किया गया। विजेताओं, जिन्होंने असाधारण कौशल और दृढ़ संकल्प का प्रदर्शन किया था, की घोषणा की जानी थी, जो बेंगलुरु और उसके निवासियों के लिए एक यादगार सप्ताहांत के समापन का प्रतीक था।

सांस्कृतिक और खेल विजय

शहर के पहले कंबाला कार्यक्रम ने न केवल बेंगलुरु में पारंपरिक भैंस दौड़ का रोमांच लाया, बल्कि तुलुनाडु की समृद्ध संस्कृति को भी प्रदर्शित किया, जिसने 11 लाख से अधिक दर्शकों के दिलों पर एक अमिट छाप छोड़ी, जिन्होंने इस सांस्कृतिक और खेल की जीत देखी।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

प्रश्न: हाल ही में किस शहर ने अपना पहला कंबाला कार्यक्रम आयोजित किया, जिसमें 11 लाख से अधिक पर्यटक आए?

उत्तर: बेंगलुरु।

प्रश्न: बेंगलुरु की स्थापना किसके द्वारा की गई थी?

उत्तर: केम्पे गौड़ा।

प्रश्न: “कम्बाला” शब्द का क्या अर्थ है?

उत्तर: “कम्बाला” शब्द की जड़ें ‘कम्पा-कला’ में पाई जाती हैं, जिसका ‘कम्पा’ एक गंदे मैदान से जुड़ा हुआ है।

Find More Miscellaneous News Here

बेंगलुरू: कम्बाला दौड़ का मेजबान |_40.1

FAQs

केंद्रीय मत्स्य पालन मंत्री कौन हैं?

केंद्रीय मत्स्य पालन मंत्री परषोत्तम रूपाला जी हैं।