Home   »   बाबा आमटे की पुण्यतिथि 2024: बाबा...

बाबा आमटे की पुण्यतिथि 2024: बाबा आमटे के बारे में सम्पूर्ण जानकारी

बाबा आमटे की पुण्यतिथि 2024: बाबा आमटे के बारे में सम्पूर्ण जानकारी |_30.1

9 फरवरी को मनाई जाने वाली बाबा आमटे की पुण्य तिथि मानवता के प्रति उनके असाधारण योगदान की मार्मिक याद दिलाती है।

9 फरवरी को मनाई जाने वाली बाबा आमटे की पुण्य तिथि मानवता के प्रति उनके असाधारण योगदान की मार्मिक याद दिलाती है। उनकी जीवन कहानी पीढ़ियों को प्रेरित करती रहती है, हमें करुणा और सामाजिक सक्रियता की परिवर्तनकारी शक्ति की याद दिलाती है। 9 फरवरी, 2024 को बाबा आमटे की 16वीं पुण्य तिथि है, जो भारत के सामाजिक सुधार और करुणा के इतिहास में एक महान व्यक्तित्व थे। जैसे ही हम उनके जीवन और विरासत को याद करते हैं, हमें हाशिये पर पड़े और उत्पीड़ित लोगों के जीवन पर उनके गहरे प्रभाव की याद आती है।

बाबा आमटे कौन थे?

मुरलीधर देवीदास आमटे, जिन्हें प्यार से बाबा आमटे के नाम से जाना जाता है, एक प्रमुख भारतीय सामाजिक कार्यकर्ता और कार्यकर्ता थे जिनकी मानवता के कल्याण के प्रति गहरी प्रतिबद्धता ने समाज पर एक अमिट छाप छोड़ी। 26 दिसंबर, 1914 को महाराष्ट्र के हिंगनघाट में जन्मे बाबा आमटे ने अपना जीवन हाशिये पर मौजूद और शोषितों, विशेषकर कुष्ठ रोग से पीड़ित लोगों की सेवा के लिए समर्पित कर दिया।

बाबा आमटे – मुख्य विवरण

जन्मतिथि: 26 दिसंबर 1914
जन्म स्थान: हिंगनघाट, वर्धा, महाराष्ट्र
माता-पिता: देवीदास आमटे (पिता) और लक्ष्मीबाई (माता)
पत्नी: साधना गुलेशास्त्री
बच्चे: डॉ. प्रकाश आमटे और डॉ. विकास आमटे
शिक्षा: वर्धा लॉ कॉलेज से बी.ए.एल.एल.बी.
धार्मिक विचार: हिंदू धर्म
निधन: 9 फ़रवरी 2008
मृत्यु स्थान: आनंदवन, महाराष्ट्र

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में बाबा आमटे की भूमिका

बाबा आमटे को गांधी दर्शन के सबसे कट्टर अनुयायियों में से एक माना जाता है, जिन्हें अक्सर गांधी के आदर्शों का अंतिम पथप्रदर्शक माना जाता है। महात्मा गांधी से प्रेरित होकर, वह सक्रिय रूप से भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में शामिल हुए और स्वतंत्रता के लिए अपनी आवाज और कार्य किये। गांधीजी के सिद्धांतों के प्रति बाबा आमटे की प्रतिबद्धता ने उन्हें महात्मा द्वारा संचालित विभिन्न आंदोलनों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए प्रेरित किया।

1942 में, भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान, बाबा आमटे ने बचाव पक्ष के वकील के रूप में अपनी कानूनी विशेषज्ञता की पेशकश करके स्वतंत्रता के संघर्ष में सबसे आगे कदम रखा। उन्होंने उन नेताओं का प्रतिनिधित्व किया जिन्हें ब्रिटिश अधिकारियों ने आंदोलन में शामिल होने के कारण कैद कर लिया था, जिससे औपनिवेशिक शासन के खिलाफ लड़ाई में महत्वपूर्ण योगदान मिला।

सामाजिक सक्रियता के रूप में बाबा आमटे का योगदान

बाबा आमटे को अक्सर महात्मा गांधी के दृष्टिकोण के अंतिम मशाल वाहक के रूप में प्रतिष्ठित किया जाता है, जो गांधी के एकीकृत और दयालु भारत के सपने को साकार करने के लिए समर्पित हैं। उन्होंने अपने कार्यों में गांधीवादी सिद्धांतों की भावना को शामिल करते हुए हजारों लोगों की पीड़ा को कम करने की दिशा में अथक प्रयास किया।

1948 में, बाबा आमटे ने आनंदवन आश्रम की स्थापना की, इसे कुष्ठ रोगियों के लिए एक स्थान और पुनर्वास केंद्र के रूप में देखा। आनंदवन में, मरीजों ने मेहनती श्रम के माध्यम से आत्मनिर्भरता का मूल्य सीखा और सम्मानजनक जीवन जीने के लिए सशक्त हुए। अपनी गांधीवादी मान्यताओं के अनुरूप, बाबा आमटे विशेष रूप से आनंदवन में बुने हुए खादी के कपड़े पहनते थे और आश्रम के खेतों में उगाए गए उत्पादों का सेवन करते थे।

राष्ट्रीय एकता के प्रति अपनी अटूट प्रतिबद्धता से प्रेरित होकर, बाबा आमटे ने भारत जोड़ो अभियान की शुरुआत की, जिसे निट इंडिया मार्च के रूप में भी जाना जाता है। इस पहल का उद्देश्य बढ़ते विभाजन और सांप्रदायिक तनाव के बीच राष्ट्रीय एकता की भावना को फिर से जगाना है।

1990 में, बाबा आमटे मेधा पाटकर के नेतृत्व वाले नर्मदा बचाओ आंदोलन में शामिल होने के लिए अस्थायी रूप से आनंदवन से चले गए। इस आंदोलन ने स्थानीय समुदायों के अन्यायपूर्ण विस्थापन और नर्मदा नदी पर सरदार सरोवर बांध के निर्माण के कारण होने वाले पर्यावरणीय क्षरण का मुकाबला करने की मांग की। अपनी भागीदारी के माध्यम से, बाबा आमटे ने सामाजिक न्याय और पर्यावरण संरक्षण के प्रति अपने दृढ़ समर्पण का प्रदर्शन किया।

बाबा आमटे – गांधीवादी आदर्श और विरासत

बाबा आमटे का जीवन सादगी, अहिंसा और आत्मनिर्भरता के गांधीवादी सिद्धांतों का उदाहरण है। वह सामाजिक परिवर्तन की खोज में सामूहिक कार्रवाई और अहिंसक प्रतिरोध की शक्ति में विश्वास करते थे। उनकी विरासत दुनिया भर में व्यक्तियों और आंदोलनों को प्रेरित करती रहती है, जिससे उन्हें “भारत के आधुनिक गांधी” की उपाधि मिलती है।

बाबा आमटे – मृत्यु और विरासत

9 फरवरी, 2008 को, बाबा आमटे करुणा, साहस और सामाजिक परिवर्तन की विरासत छोड़कर इस दुनिया से चले गए। हाशिये पर मौजूद और उत्पीड़ितों के कल्याण के प्रति उनका अटूट समर्पण आने वाली पीढ़ियों के लिए मार्गदर्शक के रूप में कार्य करता है। जैसा कि हम बाबा आमटे के जीवन और योगदान को याद करते हैं, आइए हम सहानुभूति, न्याय और एकजुटता के उनके मूल्यों को अपनाकर उनकी स्मृति का सम्मान करें। ऐसा करते हुए, हम यह सुनिश्चित करते हैं कि उनकी करुणा की विरासत एक अधिक न्यायसंगत और दयालु समाज की दिशा में मार्ग प्रशस्त करती रहे।

बाबा आमटे – उपाधियों का सम्मान

  • Litt., Tata Institute of Social Sciences, Mumbai, India
  • Litt., 1980: Nagpur University, Nagpur, India
  • Krishi Ratna, 1981: Hon. Doctorate, PKV Agricultural University, Akola, Maharashtra, India
  • Litt., 1985–86: Pune University, Pune, India
  • Desikottama, 1988: Hon. Doctorate, Visva-Bharati University, Santiniketan, West Bengal, India
  • Mahatma Gandhi had conferred on Amte the title Abhayasadhak (“A Fearless Aspirant”) for his involvement in the Indian independence movement.

बाबा आमटे को प्राप्त पुरस्कार

बाबा आमटे को प्राप्त पुरस्कारों के कुछ नाम इस प्रकार हैं:

  • पद्म श्री (1971)
  • रेमन मैग्सेसे पुरस्कार (1985)
  • पद्म विभूषण (1986)
  • मानवाधिकार के क्षेत्र में संयुक्त राष्ट्र पुरस्कार (1988)
  • डॉ अम्बेडकर अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कार (1999)
  • गांधी शांति पुरस्कार (1999)
  • टेम्पलटन पुरस्कार (1990)
  • राइट लाइवलीहुड अवार्ड (1991)
  • महाराष्ट्र भूषण (2004)

बाबा आमटे द्वारा दिए गए उद्धरण

  • “I don’t want to be a great leader; I want to be a man who goes around with a little oil can and when he sees a breakdown, offers his help. To me, the man who does that is greater than any holy man in saffron-coloured robes. The mechanic with the oilcan: that is my ideal in life.”
  • “I took up leprosy work not to help anyone, but to overcome that fear in my life. That it worked out good for others was a by-product. But the fact is I did it to overcome fear.”
  • “The condition of the tribals is worse than those inflicted with leprosy. Purna swaraj can only be possible when the poorest of the poor is uplifted.”
  • “Joy is more infectious than leprosy.”

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. बाबा आमटे की पुण्य तिथि कब मनाई गई?
Q2. बाबा आमटे का जन्म कहाँ हुआ था?
Q3. भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में बाबा आमटे की क्या भूमिका थी?
Q4. 1948 में बाबा आमटे ने कौन-सी महत्वपूर्ण पहल की?
Q5. 1990 में मेधा पाटकर के नेतृत्व में बाबा आमटे किस आंदोलन में शामिल हुए?

अपने ज्ञान की जाँच करें और टिप्पणी अनुभाग में प्रश्नों के उत्तर देने का प्रयास करें।

बाबा आमटे की पुण्यतिथि 2024: बाबा आमटे के बारे में सम्पूर्ण जानकारी |_40.1

FAQs

अंतर्राष्ट्रीय ऊँट महोत्सव का आयोजन किस राज्य में हो रहा है?

राजस्थान के बीकानेर में अंतर्राष्ट्रीय ऊँट महोत्सव का आयोजन हो रहा है।

TOPICS: