Home   »   अयोध्या के ‘महर्षि वाल्मिकी अंतर्राष्ट्रीय हवाई...

अयोध्या के ‘महर्षि वाल्मिकी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को मिला अंतर्राष्ट्रीय दर्जा

अयोध्या के 'महर्षि वाल्मिकी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को मिला अंतर्राष्ट्रीय दर्जा |_30.1

केंद्र ने क्षेत्र के समृद्ध ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व को रेखांकित करते हुए, अयोध्या हवाई अड्डे को एक अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप में मंजूरी दे दी, और इसे ‘महर्षि वाल्मिकी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, अयोध्याधाम’ नाम दिया।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने हाल ही में अयोध्या हवाई अड्डे को अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डा घोषित करने की मंजूरी दे दी है, जो शहर के लिए एक महत्वपूर्ण विकास है। क्षेत्र के ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्व को दर्शाते हुए हवाई अड्डे का नाम “महर्षि वाल्मिकी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, अयोध्याधाम” रखा जाएगा।

आर्थिक एवं तीर्थयात्रा संभावना

सरकार की प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार, शहर की आर्थिक क्षमता को साकार करने के लिए अयोध्या हवाई अड्डे को अंतरराष्ट्रीय दर्जा देना महत्वपूर्ण है। इसके अलावा, यह एक वैश्विक तीर्थ स्थल के रूप में अयोध्या के महत्व को स्वीकार करता है, अंतरराष्ट्रीय स्थिति के साथ विदेशी तीर्थयात्रियों और पर्यटकों को आकर्षित करने की उम्मीद है।

सरकारी प्रतिबद्धता

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा के बाद एक ट्वीट के जरिए अयोध्या को दुनिया से जोड़ने की सरकार की प्रतिबद्धता व्यक्त की। यह निर्णय अयोध्या को एक प्रमुख आर्थिक केंद्र और एक प्रमुख तीर्थ स्थल के रूप में स्थापित करने के सरकार के दृष्टिकोण के अनुरूप है।

उद्घाटन

30 दिसंबर, 2023 को प्रधान मंत्री मोदी ने नवनिर्मित अयोध्या हवाई अड्डे का उद्घाटन किया। एक सार्वजनिक कार्यक्रम के दौरान उन्होंने महर्षि वाल्मिकी की रामायण के महत्व पर जोर देते हुए कहा कि यह लोगों को श्री राम से जोड़ने वाला ज्ञान का मार्ग है। यह ऐतिहासिक और सांस्कृतिक संदर्भ हवाई अड्डे के नाम के महत्व को रेखांकित करता है।

चरणबद्ध विकास

हवाई अड्डे का विकास चरणों में होगा। अपने प्रारंभिक चरण में, हवाई अड्डे की क्षमता सालाना 10 लाख (1 मिलियन) यात्रियों को संभालने की होगी। विकास के दूसरे चरण के बाद, महर्षि वाल्मिकी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से सालाना 60 लाख (6 मिलियन) यात्रियों को सेवा प्रदान करने की उम्मीद है।

अत्याधुनिक बुनियादी ढाँचा

अयोध्या हवाई अड्डे का टर्मिनल भवन अत्याधुनिक बुनियादी ढांचे का दावा करता है, जो 6500 वर्ग मीटर के क्षेत्र को कवर करता है। आगामी श्री राम मंदिर की वास्तुकला को दर्शाते हुए, इमारत का अग्रभाग अयोध्या के आध्यात्मिक और सांस्कृतिक सार को उजागर करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। अंदरूनी हिस्सों में भगवान श्री राम के जीवन को दर्शाने वाली स्थानीय कला, पेंटिंग और भित्ति चित्र हैं।

स्थिरता सुविधाएँ

टर्मिनल भवन में विभिन्न स्थिरता सुविधाएँ शामिल हैं, जैसे एक इंसुलेटेड रूप सिस्टम, एलईडी प्रकाश व्यवस्था, वर्षा जल संचयन, फव्वारे के साथ भूनिर्माण, एक जल उपचार संयंत्र, एक सीवेज उपचार संयंत्र और एक सौर ऊर्जा संयंत्र। पर्यावरणीय जिम्मेदारी के प्रति सरकार की प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करते हुए, GRIHA 5-स्टार रेटिंग प्राप्त करने के लिए इन सुविधाओं को लागू किया गया है।

आगामी अभिषेक समारोह

प्रधानमंत्री मोदी के 22 जनवरी को अयोध्या राम मंदिर के अभिषेक समारोह में शामिल होने की उम्मीद है। इस कार्यक्रम में देश और विदेश से मेहमानों के आने की उम्मीद है, जो एक तीर्थ और सांस्कृतिक गंतव्य के रूप में अयोध्या के अंतर्राष्ट्रीय महत्व को उजागर करेगा। नव घोषित अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा इस शुभ अवसर पर आगंतुकों की आमद को सुविधाजनक बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

1. अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के रूप में अयोध्या हवाई अड्डे का हाल ही में स्वीकृत नाम क्या है?
A) महर्षि वाल्मिकी घरेलू हवाई अड्डा
B)अयोध्या अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा
C) महर्षि वाल्मिकी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा, अयोध्याधाम

2. अयोध्या हवाई अड्डे की शुरुआती चरण में सालाना यात्री क्षमता क्या है?
A) 5 लाख
B) 10 लाख
C) 15 लाख

3. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के किस तारीख को अयोध्या राम मंदिर के प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने की उम्मीद है?
A) 15 जनवरी
B) 22 जनवरी
C) 5 फरवरी

कृपया अपनी प्रतिक्रियाएँ टिप्पणी अनुभाग में साझा करें।

अयोध्या के 'महर्षि वाल्मिकी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे को मिला अंतर्राष्ट्रीय दर्जा |_40.1

 

FAQs

छात्र प्रेरणा कार्यक्रम के लिए किस माध्यम से पंजीकरण कर सकते हैं?

छात्र प्रेरणा के लिए आधिकारिक पोर्टल (prerana.education.gov.in) के माध्यम से पंजीकरण कर सकते हैं।

TOPICS: