gdfgerwgt34t24tfdv
Home   »   अरुणाचल कैबिनेट ने 3 टाइगर रिजर्वों...

अरुणाचल कैबिनेट ने 3 टाइगर रिजर्वों के लिए विशेष बाघ सुरक्षा बल के गठन को मंजूरी दी

अरुणाचल कैबिनेट ने 3 टाइगर रिजर्वों के लिए विशेष बाघ सुरक्षा बल के गठन को मंजूरी दी |_3.1

अरुणाचल प्रदेश कैबिनेट ने अन्य फैसलों के अलावा एक विशेष बाघ संरक्षण बल के गठन, तीसरी भाषा के शिक्षकों को मानदेय का आवंटन, 2023 के लिए होम गार्ड नियम तैयार करने को मंजूरी दी।

अरुणाचल प्रदेश राज्य मंत्रिमंडल ने राज्य की जैव विविधता की सुरक्षा और स्वदेशी भाषाओं के संरक्षण को बढ़ावा देने के उद्देश्य से कई परिवर्तनकारी उपायों को हरी झंडी दी।
उल्लेखनीय निर्णयों में तीन बाघ अभयारण्यों के लिए एक विशेष बाघ संरक्षण बल (एसटीपीएफ) की स्थापना, तृतीय भाषा शिक्षकों को मानदेय का आवंटन, राज्य की औद्योगिक और निवेश नीति में संशोधन और 2023 के लिए अरुणाचल प्रदेश होम गार्ड नियमों का गठन सम्मिलित है।

 

Arunachal Cabinet approves formation of Special Tiger Protection Force For 3 Tiger Reserves_100.1

अरुणाचल प्रदेश के लिए विशेष बाघ सुरक्षा बल (एसटीपीएफ)

राज्य कैबिनेट ने स्पेशल टाइगर प्रोटेक्शन फोर्स (एसटीपीएफ) के गठन को मंजूरी दे दी है। यह विशेष बल राज्य में तीन बाघ अभ्यारण्यों नामदाफा, पक्के और कमलांग की सुरक्षा के लिए जिम्मेदार होगा। यह निर्णय क्षेत्र में बाघों और उनके आवासों के संरक्षण की दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है।

बाघों और उनके आवासों की सुरक्षा के लिए एसटीपीएफ में 336 समर्पित पदों का सृजन

एसटीपीएफ की स्थापना में 336 नियमित पदों का सृजन शामिल है, जो इन प्राणियों और उनके पर्यावरण की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए समर्पित होंगे। इस पहल का उद्देश्य बाघ अभयारण्यों में अवैध शिकार और अवैध गतिविधियों को कम करना है, अंततः इन गंभीर रूप से लुप्तप्राय बड़ी बिल्लियों के भविष्य को सुरक्षित करना है।

तृतीय भाषा शिक्षकों के लिए मान्यता और समर्थन

अरुणाचल प्रदेश अपनी भाषाई विविधता के लिए जाना जाता है, राज्य भर में कई जनजातियाँ अपनी अलग भाषाएँ बोलती हैं। इन स्वदेशी भाषाओं को संरक्षित और बढ़ावा देने के लिए, राज्य कैबिनेट ने एक महत्वपूर्ण उपाय को मंजूरी दी। सरकार अब उन सभी तृतीय भाषा शिक्षकों को एकमुश्त मासिक मानदेय प्रदान करेगी, जिन्होंने अपनी संबंधित जनजातियों के लिए लिपि विकसित की है।

स्वदेशी भाषाओं का संरक्षण

वर्तमान में, राज्य में 1,043 भाषा शिक्षक कार्यरत हैं, जो विभिन्न प्रकार की स्वदेशी भाषाओं का प्रतिनिधित्व करते हैं। यह निर्णय न केवल उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए एक संकेत है, बल्कि प्रारंभिक स्तर से शुरू होने वाले तीसरी भाषा विषयों के निरंतर विकास और शिक्षण के लिए एक प्रोत्साहन भी है। यह अरुणाचल प्रदेश की समृद्ध भाषाई विरासत के संरक्षण की दिशा में एक सकारात्मक कदम है।

अरुणाचल प्रदेश राज्य औद्योगिक एवं निवेश नीति 2020 में संशोधन

आर्थिक वृद्धि और विकास को बढ़ावा देने के महत्व को पहचानते हुए, अरुणाचल प्रदेश राज्य मंत्रिमंडल ने 2020 के लिए अरुणाचल प्रदेश राज्य औद्योगिक और निवेश नीति में संशोधन को मंजूरी दे दी। यह नीति राज्य में निवेश आकर्षित करने, नौकरियां पैदा करने और औद्योगीकरण को बढ़ावा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह संशोधन क्षेत्र की बदलती जरूरतों को पूरा करने के लिए अपनी आर्थिक रणनीतियों को अनुकूलित करने और विकसित करने की सरकार की प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

अरुणाचल प्रदेश होम गार्ड नियम 2023 का निर्धारण

2023 के लिए अरुणाचल प्रदेश होम गार्ड नियमों का गठन राज्य कैबिनेट का एक और महत्वपूर्ण निर्णय था। होम गार्ड कानून-व्यवस्था बनाए रखने और आपात स्थिति के दौरान सहायता प्रदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ये नए नियम राज्य में होम गार्ड के कामकाज को सुव्यवस्थित करने और अरुणाचल प्रदेश के नागरिकों की भलाई की सुरक्षा में इसकी प्रभावशीलता को बढ़ाने में मदद करेंगे।

FAQs

अरुणाचल प्रदेश की सीमाएं कहाँ से मिलती हैं?

अरुणाचल प्रदेश की सीमायें दक्षिण में असम, दक्षिण पूर्व में नागालैंड, पूर्व में म्यांमार, पश्चिम में भूटान और उत्तर में तिब्बत से मिलती हैं।

TOPICS: