Home   »   अमरेंदु प्रकाश ने SAIL के अध्यक्ष...

अमरेंदु प्रकाश ने SAIL के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला

अमरेंदु प्रकाश ने SAIL के अध्यक्ष के रूप में कार्यभार संभाला |_30.1

अमरेंदु प्रकाश ने 31 मई से स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (SAIL) के नए अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक के रूप में कार्यभार संभाला है। वह पहले सेल की बोकारो इस्पात योजना के निदेशक (प्रभारी) थे। प्रकाश इससे पहले सेल के कारोबार में बदलाव और वित्तीय बदलाव लाने में शामिल थे, जिसके परिणामस्वरूप कंपनी को वित्त वर्ष 2016 से वित्त वर्ष 2018 तक घाटे के तीन साल के सिलसिले से वापस लाया गया।

वह सितंबर 2020 से प्रभारी निदेशक के रूप में बोकारो इस्पात संयंत्र का नेतृत्व कर रहे हैं और राउरकेला स्टील प्लांट, आईआईएससीओ और दुर्गापुर स्टील प्लांट के प्रभारी निदेशक के रूप में अतिरिक्त प्रभार संभाला है। उनके सक्षम नेतृत्व में, बोकारो स्टील प्लांट ने उल्लेखनीय परिणाम देखे हैं, संयंत्र ने वित्त वर्ष 2022 और वित्त वर्ष 2023 में साल-दर-साल उत्पादन रिकॉर्ड तोड़ना जारी रखा है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

SAIL का इतिहास

स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (SAIL) भारत की सबसे बड़ी स्टील बनाने वाली कंपनियों में से एक है। इसकी स्थापना 19 जनवरी, 1954 को नई दिल्ली में इसके मुख्यालय के साथ हुई थी। सेल को देश में इस्पात के विकास और उत्पादन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से इस्पात मंत्रालय, भारत सरकार के तहत एक सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम (पीएसयू) के रूप में बनाया गया था।

सेल के इतिहास को भारत की पहली पंचवर्षीय योजना (1951-1956) में देखा जा सकता है, जहां सरकार ने औद्योगिकीकरण और बुनियादी ढांचे के विकास का समर्थन करने के लिए एक मजबूत इस्पात उद्योग विकसित करने के महत्व को मान्यता दी। परिणामस्वरूप, हिंदुस्तान स्टील लिमिटेड (एचएसएल) की स्थापना 1954 में हुई थी, जो बाद में सेल की प्रमुख कंपनी बन गई।

इन वर्षों में, सेल ने भारतीय इस्पात उद्योग की वृद्धि और विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। इसने देश के विभिन्न हिस्सों में एकीकृत इस्पात संयंत्रों की स्थापना करके अपने परिचालन का विस्तार किया। कंपनी ने शुरुआत में भिलाई, राउरकेला और दुर्गापुर में अपने संयंत्रों में लोहे और इस्पात के उत्पादन पर ध्यान केंद्रित किया। ये संयंत्र भारतीय इस्पात उद्योग की रीढ़ बन गए और देश में इस्पात की बढ़ती मांग को पूरा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

1970 और 1980 के दशक में सेल ने अपनी इस्पात उत्पादन क्षमता बढ़ाने के लिए एक बड़ी विस्तार योजना शुरू की। इसने झारखंड में बोकारो स्टील प्लांट, कर्नाटक में विश्वेश्वरैया आयरन एंड स्टील प्लांट, तमिलनाडु में सलेम स्टील प्लांट और पश्चिम बंगाल में मिश्र धातु इस्पात संयंत्र सहित नए इस्पात संयंत्रों की स्थापना की।

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

  • SAIL की स्थापना: 24 जनवरी 1973;
  • SAIL  मुख्यालय: नई दिल्ली;
  • SAIL सीईओ: सोमा मंडल (1 जनवरी 2021-)।

FAQs

सेल की स्थापना कब की गयी थी ?

सेल की स्थापना 24 जनवरी 1973 में हुई थी।