Home   »   अग्निकुल कॉसमॉस ‘अग्निबाण – दुनिया का...

अग्निकुल कॉसमॉस ‘अग्निबाण – दुनिया का पहला 3 डी प्रिंटेड स्पेस रॉकेट इंजन

अग्निकुल कॉसमॉस ‘अग्निबाण – दुनिया का पहला 3 डी प्रिंटेड स्पेस रॉकेट इंजन_3.1

चेन्नई स्थित स्टार्टअप अग्निकुल कॉसमॉस ने एक अद्वितीय उपलब्धि हासिल की है, जिसमें उन्होंने दुनिया का पहला अंतरिक्ष रॉकेट सफलतापूर्वक लॉन्च किया है, जिसमें सिंगल-पीस थ्री-डायमेंशनल (3D) प्रिंटेड इंजन है। चार असफल प्रयासों के बाद, अग्निकुल ने पांचवें प्रयास में सफलता प्राप्त की और अपने स्वयं के रॉकेट, जिसका नाम अग्निबाण है, को अंतरिक्ष में लॉन्च किया। यह लॉन्च भारत के पहले सेमी-क्रायोजेनिक इंजन-संचालित रॉकेट को चिह्नित करता है, जिसे पूरी तरह से स्वदेशी रूप से डिज़ाइन किया गया है।

अग्निकुल ने 3डी प्रिंटेड रॉकेट बनाने के लिए इंकोनेल सामग्री का उपयोग किया। इंकोनेल एक ऐसा धातु मिश्रण है जिसे ऑक्सीकरण-कोरोज़न प्रतिरोध और अंतरिक्ष यात्रा के लिए उपयुक्तता के लिए जाना जाता है, जिससे यह अनोखे परियोजना के लिए एक आदर्श विकल्प बनता है।

अंतरिक्ष में रॉकेट लॉन्च करने वाली दूसरी निजी कंपनी

इस उपलब्धि के साथ, अग्निकुल कॉसमॉस अंतरिक्ष में अपना रॉकेट लॉन्च करने वाली दूसरी भारतीय निजी कंपनी बन गई। यह उपलब्धि हासिल करने वाली पहली निजी कंपनी हैदराबाद स्थित स्टार्टअप स्काईरूट एयरोस्पेस थी, जिसने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के श्रीहरिकोटा लॉन्चपैड से अपने स्वदेशी रूप से विकसित विक्रम-एस रॉकेट को लॉन्च किया था।

अग्निबाण रॉकेट और अग्निलेट इंजन

अग्निबाण रॉकेट एक अनुकूलन योग्य दो-चरण रॉकेट है जिसकी ऊंचाई लगभग 20 मीटर है। इसमें पृथ्वी से लगभग 700 किमी ऊपर लो अर्थ ऑर्बिट (एलईओ) में 300 किलोग्राम तक का पेलोड ले जाने की क्षमता है। अग्निबाण एक प्लग-एंड-प्ले कॉन्फ़िगरेशन के साथ एक SOrTeD (सबऑर्बिटल टेक्नोलॉजिकल डिमॉन्स्ट्रेटर) है, जो यह अनुमति देता है कि इसे उपग्रह की अंतरिक्ष यात्रा की आवश्यकताओं के अनुसार बढ़ाया या कम किया जा सके।

रॉकेट तरल उत्सर्जक-तरल ऑक्सीजन या केरोसीन के रूप में ईंधन का उपयोग करता है।

अग्निकुल का पेटेंट अग्निलेट इंजन, दुनिया का पहला सिंगल-पीस 3डी-प्रिंटेड इंजन, अग्निबाण रॉकेट के पीछे का पावरहाउस है। अग्निलेट इंजन को पूरी तरह से भारत में डिजाइन, परीक्षण और निर्मित किया गया था और 2021 में इसका सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया था।

अग्निकुल की यात्रा और उपलब्धियां

अग्निकुल कॉसमॉस की स्थापना 2017 में मोइन एसपीएम और श्रीनाथ रविचंद्रन ने की थी और आईआईटी मद्रास में इनक्यूबेट किया गया था। कंपनी वाणिज्यिक अंतरिक्ष मिशनों और डिजाइनों के लिए छोटे लॉन्च वाहनों के निर्माण में माहिर है, सूक्ष्म और नैनोसैटेलाइट्स के लिए कक्षीय श्रेणी के रॉकेट बनाती है, परीक्षण करती है और लॉन्च करती है।

अग्निकुल 3 डी-मुद्रित रॉकेट बनाने में सक्षम कारखाना बनाने वाली भारत की पहली कंपनी बन गई।

इसके अतिरिक्त, अग्निकुल ने आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में इसरो के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र-शार (एसडीएससी-शार) में स्थित भारत के पहले निजी रूप से निर्मित रॉकेट लॉन्चपैड, ‘धनुष’ को डिजाइन और विकसित किया। इस लॉन्चपैड का निर्माण इसरो और भारतीय राष्ट्रीय अंतरिक्ष संवर्धन और प्राधिकरण केंद्र (IN-SPACe) की सहायता से किया गया था, जिससे अग्निकुल को इसरो के समान स्पेसपोर्ट से अपने रॉकेट लॉन्च करने में सक्षम बनाया गया था।

दुनिया के पहले 3 डी-प्रिंटेड स्पेस रॉकेट इंजन को लॉन्च करने में अग्निकुल कॉसमॉस की उपलब्धि रॉकेट प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है और वैश्विक अंतरिक्ष उद्योग में एक अग्रणी खिलाड़ी के रूप में भारत की स्थिति को मजबूत करती है।

अग्निकुल कॉसमॉस ‘अग्निबाण – दुनिया का पहला 3 डी प्रिंटेड स्पेस रॉकेट इंजन_4.1

FAQs

अग्निकुल कॉसमॉस की स्थापना कब और किस ने की थी?

अग्निकुल कॉसमॉस की स्थापना 2017 में मोइन एसपीएम और श्रीनाथ रविचंद्रन ने की थी।

TOPICS: