Home   »   एम. जे. अकबर द्वारा “गांधी ए...

एम. जे. अकबर द्वारा “गांधी ए लाइफ इन थ्री कैंपेन्स” नामक पुस्तक का अनावरण

एम. जे. अकबर द्वारा "गांधी ए लाइफ इन थ्री कैंपेन्स" नामक पुस्तक का अनावरण |_30.1

प्रसिद्ध लेखक एम.जे. अकबर ने सह-लेखक के. नटवर सिंह के साथ “गांधी: ए लाइफ इन थ्री कैंपेन्स” नामक एक नई पुस्तक का नावरण किया।

प्रसिद्ध लेखक एम.जे. अकबर ने सह-लेखक के. नटवर सिंह के साथ, “गांधी: ए लाइफ इन थ्री कैंपेन्स” नामक एक नई पुस्तक लॉन्च की। इस पुस्तक का अनावरण प्रधान मंत्री संग्रहालय और पुस्तकालय में प्रधान मंत्री संग्रहालय और पुस्तकालय में प्रधान मंत्री संग्रहालय और पुस्तकालय सोसायटी की कार्यकारी परिषद के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा द्वारा आयोजित एक महत्वपूर्ण कार्यक्रम में किया गया था।

सामग्री और थीम

यह पुस्तक महात्मा गांधी के जीवन और संघर्षों पर प्रकाश डालती है, विशेष रूप से उनके नेतृत्व वाले तीन महत्वपूर्ण जन अभियानों पर ध्यान केंद्रित करती है:

  • असहयोग आंदोलन (1920): ब्रिटिश शासन के खिलाफ जनता को संगठित करने की गांधी की क्षमता पर प्रकाश डाला गया।
  • नमक सत्याग्रह (1930): एक चुटकी नमक को औपनिवेशिक शोषण के खिलाफ प्रतिरोध के प्रतीक में बदलना।
  • भारत छोड़ो आंदोलन (1942): भारत में ब्रिटिश उपनिवेशवाद के अंत के लिए एक निर्णायक आह्वान।

इन अभियानों को उन महत्वपूर्ण क्षणों के रूप में चित्रित किया गया है जिन्होंने चुनौती दी और अंततः भारत में ब्रिटिश साम्राज्य को नष्ट कर दिया।

पुस्तक लॉन्च से अंतर्दृष्टि

पुस्तक विमोचन के अवसर पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने औपनिवेशिक शासन के खिलाफ एक रणनीतिक उपकरण के रूप में गांधी द्वारा ‘सॉफ्ट पावर’ के उपयोग की प्रशंसा की। उन्होंने गांधी के राजनीतिक दृष्टिकोण को नरम और कठोर शक्ति की पारंपरिक धारणाओं से परे समावेशी बताया और इसे “स्मार्ट पावर” के रूप में गढ़ा। डोभाल ने अधिक शक्तिशाली प्रतिद्वंद्वी को अपने घुटनों पर लाने के लिए नैतिक बल का उपयोग करने की गांधी की क्षमता पर जोर दिया, इसकी तुलना सैन्य जीत से की जहां कम शक्तियां बड़ी शक्तियों पर विजय प्राप्त करती हैं।

प्राक्कथन के. नटवर सिंह द्वारा

भारत के पूर्व राजनयिक और विदेश मंत्री, सह-लेखक के. नटवर सिंह द्वारा लिखित पुस्तक की प्रस्तावना, गांधी के जीवन और दर्शन की गहन खोज के लिए आधार तैयार करती है।

पुस्तक का महत्व

  • शैक्षिक संसाधन: इतिहास, राजनीति और गांधी दर्शन के छात्रों और विद्वानों के लिए एक अमूल्य संसाधन।
  • समसामयिक मुद्दों की प्रासंगिकता: राजनीतिक संघर्षों में अहिंसक प्रतिरोध की प्रभावशीलता में अंतर्दृष्टि प्रदान करता है।
  • वैश्विक परिप्रेक्ष्य: विश्व इतिहास और समकालीन राजनीतिक आंदोलनों पर गांधी की रणनीतियों के प्रभाव पर प्रकाश डालता है।

यह पुस्तक सिर्फ एक जीवनी नहीं है, बल्कि औपनिवेशिक सत्ता के सामने गांधी की रणनीतियों और उनकी प्रभावशीलता का एक विश्लेषणात्मक अन्वेषण है, जो इसे महात्मा गांधी और भारतीय इतिहास पर साहित्य में एक महत्वपूर्ण योगदान देता है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. “गांधी: ए लाइफ इन थ्री कैंपेन्स” पुस्तक के लेखक कौन हैं?
a) अरुंधति रॉय
b) रामचंद्र गुहा
c) एम.जे.अकबर
d) के.एन. पणिक्कर

Q2. “गांधी: ए लाइफ इन थ्री कैंपेन्स” का मुख्य फोकस क्या है?
a) दक्षिण अफ्रीका में गांधीजी का प्रारंभिक जीवन
b) भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में गांधी की भूमिका
c) महात्मा गांधी का निजी जीवन
d) गांधीजी का अहिंसा का दर्शन

Q3. “गांधी: ए लाइफ इन थ्री कैंपेन्स” मुख्य रूप से निम्नलिखित में से किसमें गांधी के नेतृत्व को दर्शाता है?
a) शिक्षा और स्वास्थ्य
b) आर्थिक विकास
c) राष्ट्रवादी आंदोलन
d) पर्यावरण संरक्षण

Q4. पुस्तक में गांधी की रणनीतियों के किस महत्वपूर्ण प्रभाव पर ध्यान केंद्रित किया गया है?
a) भारत में शैक्षिक सुधार
b) भारत में ब्रिटिश साम्राज्य का अंत
c) ग्रामीण भारत का विकास
d) विभिन्न समुदायों के बीच शांति की स्थापना

अपने ज्ञान की जाँच करें और टिप्पणी अनुभाग में प्रश्नों के उत्तर देने का प्रयास करें।

एम. जे. अकबर द्वारा "गांधी ए लाइफ इन थ्री कैंपेन्स" नामक पुस्तक का अनावरण |_40.1

FAQs

श्रीलंका के शिक्षा मंत्री कौन हैं?

श्रीलंका के शिक्षा मंत्री डॉ. सुशील प्रेमजयंता जी हैं।