Home   »   शहरी स्वच्छता सर्वेक्षण 2023: स्वच्छता के...

शहरी स्वच्छता सर्वेक्षण 2023: स्वच्छता के लिए एक नया मील का पत्थर

शहरी स्वच्छता सर्वेक्षण 2023: स्वच्छता के लिए एक नया मील का पत्थर_3.1

आवास और शहरी मूल्यांकन मंत्रालय द्वारा 1 जुलाई 2023 से स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 का फील्ड मूल्यांकन शुरू किया जा रहा है। स्वच्छ भारत मिशन के एक भाग के रूप में, शहरी स्वच्छता सर्वेक्षण सार्वजनिक स्थानों और शौचालयों की स्वच्छता, निवासियों की प्रतिक्रिया और अपशिष्ट संग्रह, पृथक्करण और प्रसंस्करण में नगर पालिकाओं के प्रदर्शन पर आधारित है।स्वच्छ सर्वेक्षण 2023- मेरा शहर, मेरी पहचान आवास और शहरी मूल्यांकन मंत्रालय द्वारा शहरों की स्वच्छता के आधार पर जारी 8 वीं वार्षिक संस्करण रैंकिंग है।

आवास और शहरी मूल्यांकन मंत्रालय सार्वजनिक स्थानों और शौचालयों की स्वच्छता, निवासियों की प्रतिक्रिया और नगर पालिकाओं के प्रदर्शन के आधार पर वार्षिक रैंकिंग जारी करता है जिसे स्वच्छ सर्वेक्षण के नाम से जाना जाता है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 के बारे में अधिक:

  • स्वच्छता सर्वेक्षण 2016 में शुरू किए गए स्वच्छ भारत मिशन का एक हिस्सा है, जिसका उद्देश्य स्वच्छता के लक्ष्य को प्राप्त करने में शहरों की मदद करना है। स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 शहरी स्वच्छता सर्वेक्षण का 8वां संस्करण है, स्वच्छ सर्वेक्षण 2023 में लगभग 3000 मूल्यांकनकर्ता एक महीने के भीतर लगभग 4500+ शहरों का फील्ड आकलन करेंगे और उनकी रैंकिंग वर्ष के अंत में जारी की जाएगी।
  • जबकि स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 की बात करें तो शहरी स्वच्छता सर्वेक्षण में केवल 4,354 शहरों को शामिल किया गया था, जिसमें से इंदौर रैंकिंग में सबसे ऊपर रहा।

शहरी स्वच्छता सर्वेक्षण के लिए जारी रैंकिंग के मानदंड:

शहरों को 9,500 अंकों में से चिह्नित किया जाएगा और विभाजन निम्नानुसार है:

• 53% सेवा स्तर की प्रगति के लिए है, जिसमें से 40% अंक कचरे के प्रसंस्करण और निपटान के लिए, 33% अलग-अलग संग्रह के लिए और 27% उपयोग किए गए जल प्रबंधन और स्वच्छता कर्मचारियों के संरक्षण के लिए होंगे।
• प्रमाणन के लिए 23%।
• नागरिकों की प्रतिक्रिया के लिए 23%।

What is Uniform Civil Code in India? Know History, articles and more_110.1

FAQs

स्वच्छता सर्वेक्षण का उद्देश्य क्या है ?

स्वच्छता सर्वेक्षण 2016 में शुरू किए गए स्वच्छ भारत मिशन का एक हिस्सा है, जिसका उद्देश्य स्वच्छता के लक्ष्य को प्राप्त करने में शहरों की मदद करना है।