Home   »   1947 की याद में कश्मीर में...

1947 की याद में कश्मीर में मनाया गया शौर्य दिवस

1947 की याद में कश्मीर में मनाया गया शौर्य दिवस |_30.1

सेना ने कश्मीर से पाकिस्तानी सैनिकों को खदेड़ने के लिए बलों के यहां पहुंचने की 76वीं सालगिरह के मौके पर 27 अक्टूबर को ‘शौर्य दिवस’ मनाया। इन बलों ने आजाद भारत में सेना की पहली विजय सुनिश्चित की थी। महाराजा हरि सिंह और भारत गणराज्य के बीच विलय पत्र पर हस्ताक्षर होने के एक दिन बाद सेना की टुकड़ियां जम्मू और कश्मीर से पाकिस्तानी सेना को बाहर निकालने के लिए बडगाम हवाई अड्डे पर उतरी थीं। शुक्रवार को आयोजित शौर्य दिवस के मौके पर ऐतिहासिक घटना की प्रतिकृति भी प्रस्तुत की गई।

सेना, वायु सेना के वरिष्ठ अधिकारियों और छात्रों सहित अन्य दर्शकों ने इतिहास के अधिनियमन को देखा। इसमें पाकिस्तान के स्टैंडस्टिल समझौते के उल्लंघन को दिखाया गया। इस कार्यक्रम में 27 अक्टूबर 1947 को पाकिस्तानी सेना को खदेड़ने के लिए भारतीय सेना के जवानों के आगमन को भी दर्शाया गया। इस अवसर पर सेना के श्रीनगर स्थित 15 कोर के जनरल ऑफिसर कमांडिंग (जीओसी), लेफ्टिनेंट जनरल राजीव घई ने कहा कि यह अवसर उस ऐतिहासिक दिन को याद करने के लिए मनाया जाता है जिसने यह सुनिश्चित किया कि जम्मू और कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है।

उन्होंने कहा कि सेना ने स्वतंत्र भारत में अपने पहले बड़े ऑपरेशन में साहस दिखाया और दुश्मन के नापाक मंसूबों को विफल कर दिया, जिससे कश्मीर को पाकिस्तान के कब्जे में जाने से बचा लिया गया। लेफ्टिनेंट जनरल घई ने पहले परमवीर चक्र प्राप्तकर्ता मेजर सोमनाथ शर्मा की वीरता को याद किया, जिन्होंने घायल होने के बावजूद एक कंपनी का नेतृत्व किया और इस प्रक्रिया में सर्वोच्च बलिदान देकर श्रीनगर हवाई क्षेत्र को पाकिस्तानी कबाइलियों के चंगुल से बचाया।

 

वीरों को श्रद्धांजलि अर्पित की

जनरल घई ने वीरता पुरस्कार विजेता ब्रिगेडियर राजिंदर सिंह और लेफ्टिनेंट कर्नल दीवान रणजीत राय सहित अन्य बहादुर आत्माओं को भी भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की। इन नायकों ने भारत के इतिहास के एक महत्वपूर्ण चरण के दौरान राष्ट्र की रक्षा के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया।

‘शौर्य दिवस’ का उत्सव इन बहादुर व्यक्तियों द्वारा किए गए बलिदानों और 27 अक्टूबर, 1947 की घटनाओं के महत्व की याद दिलाता है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि जम्मू और कश्मीर भारत का अभिन्न अंग बना रहे। यह वार्षिक आयोजन न केवल अतीत के नायकों का सम्मान करता है बल्कि भारत के लोगों में देशभक्ति और एकता की भावना को भी जागृत करता है।

 

Find More Important Days Here


1947 की याद में कश्मीर में मनाया गया शौर्य दिवस |_40.1

FAQs

विजय दिवस कब मनाया जाता है?

हर साल 16 दिसंबर को विजय दिवस (भारत) मनाया जाता है.