Home   »   राजस्थान में नए संरक्षण अभ्यारण्य: वन्यजीव...

राजस्थान में नए संरक्षण अभ्यारण्य: वन्यजीव संरक्षण और पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

राजस्थान में नए संरक्षण अभ्यारण्य: वन्यजीव संरक्षण और पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा_3.1

राजस्थान सरकार द्वारा हाल ही में तीन क्षेत्रों को संरक्षण भंडार के रूप में घोषित करने से राज्य में वन्यजीव संरक्षण के प्रयासों और इकोटूरिज्म के लिए आशा की किरण जगी है। राज्य सरकार ने तीन क्षेत्रों बारां के सोरसन, जोधपुर के खिचन और भीलवाड़ा के हमीरगढ़ को संरक्षण भंडार घोषित किया है। नए भंडार से दुर्लभ और लुप्तप्राय प्रजातियों की रक्षा करने और प्रवासी पक्षियों के लिए एक सुरक्षित आश्रय प्रदान करने की उम्मीद है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

राजस्थान में 3 नए वन्यजीव संरक्षण रिजर्व: संरक्षण प्रयासों और इकोटूरिज्म को बढ़ावा देना:

लुप्तप्राय प्रजातियों की रक्षा: सोरसन संरक्षण रिजर्व:

बारां में स्थित सोरसन को दुर्लभ और लुप्तप्राय प्रजातियों, मुख्य रूप से ग्रेट इंडियन बस्टर्ड (जीआईबी) और काले हिरणों की रक्षा के लिए संरक्षण रिजर्व घोषित किया गया है। दुनिया में केवल 200 जीआईबी बचे हैं, संरक्षण रिजर्व का उद्देश्य इन गंभीर रूप से लुप्तप्राय पक्षियों के लिए एक सुरक्षित घर प्रदान करना है।

प्रवासी पक्षियों के लिए शीतकालीन घर: खिचन संरक्षण रिजर्व:

जोधपुर में स्थित खिचन को डेमोइसेल क्रेन जैसे प्रवासी पक्षियों के लिए शीतकालीन घर प्रदान करने के लिए संरक्षण रिजर्व टैग दिया गया है। इन पक्षियों को सर्दियों के दौरान राज्य में देखा जा सकता है और संरक्षण रिजर्व का उद्देश्य उनके लिए एक सुरक्षित निवास प्रदान करना है। इस कदम से राज्य में वन्यजीव पर्यटन को भी बढ़ावा मिलने की उम्मीद है।

राजस्थान में मौजूदा वन्यजीव संरक्षण रिजर्व:

राजस्थान पहले से ही 26 वन्यजीव संरक्षण भंडारों का घर है, और हाल ही में तीन नए रिजर्व जोड़ने से वन्यजीव संरक्षण प्रयासों के लिए राज्य की प्रतिबद्धता और मजबूत हुई है। राज्य में कुछ प्रसिद्ध मौजूदा संरक्षण रिजर्व टोंक में बीसलपुर संरक्षण रिजर्व, बीकानेर में जोड़बीड गढ़वाला बीकानेर संरक्षण रिजर्व, झुंझुनू में खेतड़ी बंस्याल संरक्षण रिजर्व और पाली में जवाई बांध तेंदुआ संरक्षण रिजर्व हैं।

इन भंडारों को जोड़ने के साथ, राजस्थान में अब 29 संरक्षण भंडार हैं, जो वनस्पतियों और जीवों की विभिन्न प्रजातियों के लिए एक सुरक्षित आश्रय प्रदान करते हैं।

संरक्षण भंडार का उद्देश्य:

संरक्षण भंडार लुप्तप्राय प्रजातियों की रक्षा और उनके प्राकृतिक आवासों को संरक्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। 1990 के वन संरक्षण अधिनियम में यह अनिवार्य है कि संरक्षण क्षेत्रों में सभी विकास परियोजनाओं को राष्ट्रीय वन्यजीव बोर्ड और राज्य वन्यजीव बोर्ड से अनुमोदन प्राप्त करना होगा। यह विकास और संरक्षण प्रयासों के बीच संतुलन बनाए रखने में मदद करता है।

Indian batter Ishan Kishan hits fastest ODI double hundred off 126 balls_80.1

FAQs

बारां में स्थित सोरसन को किसकी रक्षा के लिए संरक्षण रिजर्व घोषित किया गया है?

बारां में स्थित सोरसन को दुर्लभ और लुप्तप्राय प्रजातियों, मुख्य रूप से ग्रेट इंडियन बस्टर्ड (जीआईबी) और काले हिरणों की रक्षा के लिए संरक्षण रिजर्व घोषित किया गया है।