Home   »   बहुआयामी गरीबी सूचकांक 2023 जारी किया...

बहुआयामी गरीबी सूचकांक 2023 जारी किया गया

बहुआयामी गरीबी सूचकांक 2023 जारी किया गया_3.1

हाल ही में संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) और ऑक्सफोर्ड गरीबी और मानव विकास पहल (OPHI) द्वारा वैश्विक बहुआयामी गरीबी सूचकांक (MPI) 2023 जारी किया गया है। यह “प्रत्यक्ष रूप से किसी व्यक्ति के जीवन और कल्याण को प्रभावित करने वाले स्वास्थ्य, शिक्षा एवं जीवन स्तर के परस्पर संबंधित अभावों को मापता है”। भारत ने गरीबी उन्मूलन में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है, केवल 15 वर्षों के भीतर उल्लेखनीय संख्या में लोग गरीबी से बाहर आ गए हैं।

15 सालों की अवधि में, भारत में आश्चर्यजनक रूप से 415 मिलियन लोग गरीबी के चंगुल से बाहर आ गए हैं। यह उपलब्धि इस बात को उजागर करती है कि देश ने अपने नागरिकों की जीवन स्थितियों में सुधार लाने में शानदार प्रगति की है। संयुक्त राष्ट्र ने हाल ही में कहा कि भारत में 2005-2006 से 2019-2021 के दौरान महज 15 साल के भीतर कुल 41.5 करोड़ लोग गरीबी से बाहर निकले। यह बात वैश्विक बहुआयामी गरीबी सूचकांक (एमपीआई) के नवीनतम अपडेट में कही गई है।

 

25 देशों ने अपने MPI मूल्यों को आधा कर दिया

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (यूएनडीपी) और ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के ऑक्सफोर्ड गरीबी और मानव विकास पहल (ओपीएचआई) की ओर से जारी किया गया है। रिपोर्ट के अनुसार भारत सहित 25 देशों ने 15 वर्षों में अपने वैश्विक एमपीआई मूल्यों (गरीबी) को सफलतापूर्वक आधा कर दिया, यह आंकड़ा इन देशों में तेजी से प्रगति को दर्शाता है। इन देशों में कंबोडिया, चीन, कांगो, होंडुरास, भारत, इंडोनेशिया, मोरक्को, सर्बिया और वियतनाम शामिल हैं।

 

दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश

संयुक्त राष्ट्र के आंकड़ों के अनुसार अप्रैल 2023 में भारत 142.86 करोड़ लोगों की आबादी के साथ चीन को पीछे छोड़ते हुए दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला देश बन गया। रिपोर्ट में कहा गया कि भारत में विशेष रूप से गरीबी में उल्लेखनीय कमी दिखी। यहां 15 वर्षों (2005-06 से 2019-21) की अवधि के भीतर 41.5 करोड़ लोग गरीबी से बाहर निकले।

 

जीवन स्थितियों में पर्याप्त सुधार

2005/2006 में, भारत को 55.1% गरीबी का सामना करना पड़ा। इस दौरान लगभग 645 मिलियन लोग गरीबी में जी रहे थे। हालाँकि, ठोस प्रयासों और प्रभावी नीतियों के माध्यम से, भारत में गरीबी दर में उल्लेखनीय गिरावट देखी गई है। नवीनतम आंकड़े बताते हैं कि 2019/2021 में गरीबी गिरकर 16.4% हो गई है। यह लाखों व्यक्तियों और परिवारों की जीवन स्थितियों में पर्याप्त सुधार दर्शाता है। रिपोर्ट के अनुसार भारत उन 19 देशों की लिस्ट में शामिल है जिसके जिन्होंने 2005-2006 से 2015-2016 की अवधि के दौरान अपने वैश्विक बहुआयामी गरीबी सूचकांक (एमपीआई) मूल्य को आधा करने में सफलता हासिल की।

 

विभिन्न पहलुओं में गरीबी का आकलन

MPI गरीबी के मौद्रिक उपायों से आगे बढ़कर दैनिक जीवन के विभिन्न पहलुओं में गरीबी का आकलन करता है। यह शिक्षा, स्वास्थ्य, जीवन स्तर और बुनियादी आवश्यकताओं तक पहुंच को फोकस में रखता है। यह व्यापक दृष्टिकोण गरीबी की अधिक सूक्ष्म समझ प्रदान करता है और नीति निर्माताओं को लक्षित रणनीतियाँ बनाने में सक्षम बनाता है। यह सूचकांक एक प्रमुख अंतर्राष्ट्रीय संसाधन है जो 100 से अधिक विकासशील देशों में तीव्र बहुआयामी गरीबी को मापता है।

 

Find More Ranks and Reports Here

 

Ministry of Education Releases Report on Performance Grading Index 2.0 for States/UTs for the Year 2021-22_130.1

 

FAQs

गरीबी सूचकांक कौन जारी करता है?

MPI बहुआयामी अभाव की व्यापकता और इसकी तीव्रता दोनों को दर्शाता है। MPI व्यक्तिगत, समूह और राष्ट्रीय स्तर पर गरीबी का आकलन करता है। सूचकांक विश्व बैंक द्वारा जारी किया जाता है।