Monday, 22 August 2022

"मत्स्य सेतु" ऐप में ऑनलाइन मार्केटप्लेस फीचर "एक्वा बाजार"का शुभारंभ

"मत्स्य सेतु" ऐप में ऑनलाइन मार्केटप्लेस फीचर "एक्वा बाजार"का शुभारंभ



केंद्रीय मत्स्यपालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री, श्री पुरुषोत्तम रूपाला ने राष्ट्रीय मत्स्यिकी विकास बोर्ड की 9वीं जनरल बॉडी की बैठक के दौरान "मत्स्यसेतु" मोबाइल ऐप में ऑनलाइन मार्केट प्लेस फीचर "एक्वा बाजार" का शुभारंभ किया। इस ऐप को आईसीएआर औरसेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ फ्रेशवाटर एक्वाकल्चर (आईसीएआर-सीआईएफए), भुवनेश्वर द्वारा विकसित किया गया है, जिसे प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना (पीएमएमएसवाई) के माध्यम से राष्ट्रीय मत्स्यिकी विकास बोर्ड (एनएफडीबी), हैदराबाद द्वारा वित्तीयसहायता प्रदान किया गया है।


Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams


ऑनलाइन मार्केटप्लेस मत्स्य किसानों और हितधारकों को मत्स्य संस्कृति के लिए आवश्यक सेवाएं और मछली के बीज, चारा, दवाओं जैसे इनपुटों की प्राप्ति में मदद करेगा, साथ ही साथ इसमें किसानों द्वारा बिक्री के लिए टेबल आकार की मछली को सूचीबद्ध भी किया जा सकता है। मार्केटप्लेस का उद्देश्य जलीय कृषि क्षेत्र में शामिल विभिन्न हितधारकों को आपस में जोड़ना है।


मुख्य बिंदु


  • देश में मीठे पानी की जलीय कृषि की सफलता और विकास के लिए सही जगह और सही समय पर गुणवत्ताइनपुट की उपलब्धता के संदर्भ में विश्वसनीय जानकारी बहुत ही महत्वपूर्ण है।
  • कभी-कभी, मत्स्य किसानों को मत्स्यपालन वाले मौसम में महत्वपूर्ण औरगुणवत्तापूर्ण इनपुट जैसे मछली के बीज, चारा, चारा सामग्री, उर्वरक, पौष्टिक-औषधीय पदार्थ, एडिटिव्स, दवाएं आदि प्राप्त करने में कठिनाईयां होती है। इन इनपुटों की प्राप्ति मेंहुई किसी प्रकार की देरी से उनके मत्स्यपालन की उत्पादकता बुरी तरह प्रभावित होती है। 
  • कभी-कभी, किसानों को सेवाओं की भी आवश्यकता होती है जैसे कि खेत निर्माण, किराये की सेवाएं, मछली पकड़ने के लिए जनशक्ति आदि। इसी प्राकार, कभी-कभी, मत्स्य पालकों को बाजार में अपना उत्पाद बेचने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है या फिर वे अपने द्वारा उत्पादन की गई मछली को बेचने के लिए केवल कुछ खरीदारों/ एजेंटों पर ही भरोसा करते हैं।
  • इन समस्याओं का समाधान करने के लिए आईसीएआर-सीआईएफए और एनएफडीबी ने सभी हितधारकों को एक मंच पर लाने के लिए इस डिजिटल प्लेटफॉर्म को विकसित किया है। इस प्लेटफॉर्म के माध्यम से, कोई भी पंजीकृत विक्रेता अपनी इनपुट सामग्री को सूचीबद्ध कर सकता है। 
  • यह फीचर मत्स्य पालकों को मछली की कीमतों के साथ उपलब्धता की तारीख इंगित करने का विकल्प देती है, साथ ही बिक्री के लिए टेबल-आकार की मछली/ मछली के बीज को सूचीबद्ध करने की अनुमति भी प्रदान करती है। 


महत्वपूर्ण तथ्य


  • केंद्रीय मत्स्य पालन, पशुपालन और डेयरी मंत्री: श्री पुरुषोत्तम रूपला
  • मत्स्य पालन, पशुपालन राज्य मंत्री: श्री एल मुरुगनी
  • मत्स्य पालन पशुपालन राज्य मंत्री: श्री संजीव बाल्यान

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search