Thursday, 31 March 2022

यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल सूची में मेघालय का ‘लिविंग रूट ब्रिज’ शामिल

यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल सूची में मेघालय का ‘लिविंग रूट ब्रिज’ शामिल

 


मेघालय के 70 से अधिक गांवों में लोगों और प्रकृति के बीच सामाजिक-सांस्कृतिक, सामाजिक और वानस्पतिक संबंधों को उजागर करने वाले 'जिंगकींग जेरी या लिविंग रूट ब्रिज (Jingkieng Jri or Living Root Bridge)' को संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन (यूनेस्को) विश्व विरासत स्थलों की अस्थायी सूची में शामिल किया गया है।


आरबीआई असिस्टेंट प्रीलिम्स कैप्सूल 2022, Download Hindi Free PDF 



ग्रामीणों ने लगभग 10 से 15 वर्षों की अवधि में जल निकायों के दोनों किनारों पर 'फिकस इलास्टिका' पेड़ को प्रशिक्षित करके जीवित जड़ पुलों को विकसित किया जहां जड़ें पुल का निर्माण करती हैं। वर्तमान में, राज्य के 72 गांवों में फैले लगभग 100 ज्ञात जीवित रूट ब्रिज हैं। ग्रामीण, (विशेषकर खासी और जयंतिया आदिवासी समुदाय) 600 से अधिक वर्षों से इन पुलों का निर्माण और रखरखाव करते हैं।


सूची में शामिल अन्य साइटें:


महाराष्ट्र के कोंकण क्षेत्र के जियोग्लिफ्स, आंध्र प्रदेश के लेपाक्षी में श्री वीरभद्र मंदिर और मोनोलिथिक बुल (नंदी) ने 2022 में यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों की अस्थायी सूची में जगह बनाई है।


सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:


  • यूनेस्को की स्थापना: 16 नवंबर 1945
  • यूनेस्को मुख्यालय: पेरिस, फ्रांस
  • यूनेस्को सदस्य: 193 देश
  • यूनेस्को प्रमुख: ऑड्रे अज़ोले


Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams


Find More Miscellaneous News Here

Yamuna Ghat: Yamunotsav held at ITO Yamuna Ghat, organised by NMCG_80.1

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search