Home   »   एबेल पुरस्कार 2022: अमेरिकी गणितज्ञ डेनिस...

एबेल पुरस्कार 2022: अमेरिकी गणितज्ञ डेनिस पार्नेल सुलिवन हुए सम्मानित

 

एबेल पुरस्कार 2022: अमेरिकी गणितज्ञ डेनिस पार्नेल सुलिवन हुए सम्मानित -_50.1

नॉर्वेजियन एकेडमी ऑफ साइंस एंड लेटर्स ने अमेरिकी गणितज्ञ डेनिस पार्नेल सुलिवन को वर्ष 2022 के लिए एबेल पुरस्कार से सम्मानित किया है। प्रशस्ति पत्र में उल्लेख किया गया है – यह पुरस्कार “टोपोलॉजी में उनके व्यापक योगदान, और विशेष रूप से इसके बीजगणितीय, ज्यामितीय और गतिशील पहलुओं में’ के लिए दिया गया है।”

हिन्दू रिव्यू फरवरी 2022, Download Monthly Hindu Review PDF in Hindi


RBI Assistant Prelims Capsule 2022 in Hindi, Download PDF


टोपोलॉजी क्या है?

टोपोलॉजी गणित का एक क्षेत्र है, जो उन्नीसवीं शताब्दी में अस्तित्व में आया था और इसका संबंध सतहों के गुणों से है जो विकृत होने पर नहीं बदलते हैं। संस्थितिविज्ञान या टोपोलॉजी गणित का बड़ा क्षेत्र है। इसे ज्यामिति के विस्तार के रूप में देखा जाता है। इसमें उन गुणों का अध्ययन किया जाता है जो वस्तुओं को सतत रूप से विकृत करने पर उनमें बने रहे हैं। उदाहरण के लिये किसी चीज को बिना फाड़े या साटे हुए तानने पर आने वाली विकृतियाँ। संस्थिति का विकास ज्यामिति तथा समुच्चय सिद्धान्त से हुआ है।

टोपोलॉजिकल रूप से, एक वृत्त और एक वर्ग समान होते हैं; इसी तरह, एक डोनट और एक हैंडल के साथ एक कॉफी मग की सतहें टोपोलॉजिकल रूप से समकक्ष होती हैं, हालांकि, एक गोले की सतह और एक कॉफी मग समान नहीं होते हैं।  


डेनिस पी. सुलिवन द्वारा जीते गए कई पुरस्कार:

डेनिस पी. सुलिवन ने कई पुरस्कार जीते हैं, उनमें से स्टील पुरस्कार, गणित में 2010 का वुल्फ पुरस्कार और गणित के लिए 2014 का बलजान पुरस्कार शामिल हैं। वह अमेरिकन मैथमैटिकल सोसाइटी के फेलो भी हैं।

एबेल पुरस्कार क्या है?

पुरस्कार गणित के क्षेत्र में असाधारण योगदान को मान्यता देता है और नॉर्वेजियन सरकार द्वारा वित्त पोषित है और एबेल समिति की सिफारिशों का समर्थन करता है, जिसमें 5 अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त गणितज्ञ शामिल हैं, एबेल पुरस्कार विजेताओं को चुना जाता है।

Find More Awards News Here

एबेल पुरस्कार 2022: अमेरिकी गणितज्ञ डेनिस पार्नेल सुलिवन हुए सम्मानित -_60.1

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

TOPICS:

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *