Wednesday, 4 August 2021

भारत सरकार ने FY22 में मुद्रा ऋण लक्ष्य को घटाकर किया 3 ट्रिलियन रुपये

भारत सरकार ने FY22 में मुद्रा ऋण लक्ष्य को घटाकर किया 3 ट्रिलियन रुपये

 


सरकार ने 2021-22 (FY22) के लिए पीएम मुद्रा योजना (PM Mudra Yojana - PMMY) के तहत ऋण वितरण लक्ष्य 3 ट्रिलियन रुपये निर्धारित किया है। यह लक्ष्य पिछले वर्ष की तुलना में कम है। FY21 के लिए, लक्ष्य 3.21 ट्रिलियन रुपये निर्धारित किया गया था। विशेषज्ञ छोटे व्यवसायों के लिए क्रेडिट गारंटी योजना के तहत बढ़े हुए आवंटन के लिए कम लक्ष्य का श्रेय देते हैं।

PMMY के तहत, बैंकों और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों द्वारा लघु व्यवसाय इकाइयों को उद्यमशीलता गतिविधियों के लिए 10 लाख रुपये तक का ऋण प्रदान किया जाता है, जिसमें विनिर्माण, व्यापार, सेवाओं और कृषि से संबंधित गतिविधियों जैसे क्षेत्रों में नए उद्यम शामिल हैं। केंद्र सरकार योजना के तहत ऋण स्वीकृत करने के लिए वार्षिक लक्ष्य आवंटित करती है। FY22 में, 13 सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों (PSB) द्वारा 25 जून तक 3,804 करोड़ रुपये के ऋण स्वीकृत किए गए हैं।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

PMMY के बारे में :

प्रधान मंत्री मुद्रा योजना (Pradhan Mantri Mudra Yojana - PMMY) बैंकों (Banks), गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (Non-Banking Financial Companies - NBFCs) और सूक्ष्म वित्त संस्थानों (Micro Finance Institutions - MFIs) द्वारा गैर-कृषि क्षेत्र में छोटे / सूक्ष्म व्यापार उद्यमों (Small/Micro business enterprises) और व्यक्तियों को संपार्श्विक-मुक्त ऋण (collateral-free loans) देने की एक योजना है उन्हें अपनी व्यावसायिक गतिविधियों को स्थापित करने या विस्तारित करने और स्वरोजगार उत्पन्न करना है। ऋण की अधिकतम सीमा 10 लाख रुपये है। MUDRA का मतलब माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट एंड रिफाइनेंस एजेंसी लिमिटेड (Micro Units Development & Refinance Agency Ltd) है।

Find More News on Economy Here

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search