Friday, 6 November 2020

पेरिस जलवायु समझौते से अधिकारिक रूप से बाहर हुआ अमेरिका

पेरिस जलवायु समझौते से अधिकारिक रूप से बाहर हुआ अमेरिका

 


संयुक्त राज्य अमेरिका 04 नवंबर 2020 को आधिकारिक रूप से पेरिस जलवायु समझौते से बाहर हो गया है। इसके साथ ही अमेरिका 2015 में इसमें शामिल होने के बाद औपचारिक रूप से इस समझौते से बाहर निकलने वाला एकमात्र देश बन गया है।


पृथ्वी को जलवायु संकट के बिगड़ते प्रभावों से बचाने के लिए 2015 में ऐतेहासिक पेरिस जलवायु समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। समझौते के नियमों के अनुसार, कोई भी देश संयुक्त राष्ट्र को अपने हटने के फैसले के बारे अधिसूचित करने के एक पूरे वर्ष से पहले आधिकारिक तौर पर इससे बाहर नहीं निकल सकता है। संयुक्त राज्य अमेरिका ने 4 नवंबर, 2019 को अपने हटने की सूचना संयुक्त राष्ट्र को दी थी।


Boost your Banking Awareness Knowledge with Adda247 Live Batch: TARGET GA BATCH | Banking Awareness Batch for SBI, RRB, RBI and IBPS Exams

वापसी के कारण:

  • पेरिस समझौते के तहत, विकासशील देशों को वित्त वर्ष 2020 से हर साल कम से कम 100 बिलियन डॉलर की राशि जुटाना अनिवार्य है। इस राशि को पांच साल बाद संशोधित किया जाना था।
  • अमेरिकी राष्ट्रपति, डोनाल्ड ट्रम्प इस कदम का विरोध किया और इसे "अनुचित" ठहराया, जो इसके हटने का मुख्य कारण बना।

पेरिस जलवायु समझौता:
  • दिसंबर 2015 में, 195 देशों ने पेरिस, फ्रांस में UNFCCC के दलों के 21 वें सम्मेलन में कार्बन उत्सर्जन को कम करने के लिए कार्रवाई को तेज करने के लिए ग्लोबल वार्मिंग और कार्रवाई से निपटने के लिए पेरिस जलवायु समझौते को अपनाया गया था।
  • यह जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र फ्रेमवर्क कन्वेंशन (UNFCCC) के तहत एक समझौता है, जो नवंबर 2016 से प्रभावी हुआ था।

उपरोक्त समाचारों से आने-वाली परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण तथ्य-
  • UNFCCC के कार्यकारी सचिव: पेट्रीसिया एस्पिनोसा.
  • UNFCCC मुख्यालय: बॉन, जर्मनी.

Find More International News

Post a comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search