Friday, 26 June 2020

BLR रनवे पर AWMS तकनीक स्थापित करने वाला बना भारत का पहला हवाई अड्डा

BLR रनवे पर AWMS तकनीक स्थापित करने वाला बना भारत का पहला हवाई अड्डा

बेंगलुरु इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (BIAL), जो केम्पेगौड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का संचालन भी करता है, अपने नए रनवे के दोनों छोरों पर स्वदेशी रूप से विकसित एविएशन वेदर मॉनिटरिंग सिस्टम स्थापित करने वाला भारत का पहला हवाई अड्डा बन गया है। यह नई AWMS तकनीक बेंगलुरु स्थित CSIR-National Aerospace Laboratories (NAL) द्वारा विकसित की गई है।

इसके अतिरिक्त BIAL ने चार Drishti ट्रांसमिसोमीटर को भी स्थापित किया है, जिन्हें NAL द्वारा लाइव रनवे विजिबिलिटी रेंज (RVR) के लिए भारतीय मौसम विभाग (India Metrological Department) के साथ मिलकर अलग से विकसित किया गया है। इसके साथ अब बीएलआर एयरपोर्ट पर दोनों रनवे पर कुल छह मेड इन इंडिया आरवीआर स्थापित किए जा चुके हैं।


Aviation Weather Monitoring System के बारे में:

AWMS सेंसर को दस मीटर के मास्ट पर स्थापित किया गया है जो कि NAL द्वारा डिजाइन किया गया अपनी तरह का पहला सेंसर है। इसमें इको-फ्रेंडली, लाइटवेट सहित कई अनूठी विशेषताएं हैं और जिनकी कार्यात्मक अवधि 60 वर्ष से अधिक है। स्लाइडिंग तंत्र इसे आसान रखरखाव में सक्षम बनाता है।


उपरोक्त समाचारों से आने-वाली परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण तथ्य-
  • राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशालाओं (एनएएल) मुख्यालय: बैंगलोर, भारत.
  • राष्ट्रीय एयरोस्पेस प्रयोगशालाओं (एनएएल) के निदेशक: जितेंद्र जे जाधव.

Post a comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search