Home   »   19वां NAM शिखर सम्मेलन युगांडा के...

19वां NAM शिखर सम्मेलन युगांडा के कंपाला में शुरू हुआ

19वां NAM शिखर सम्मेलन युगांडा के कंपाला में शुरू हुआ |_30.1

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने हाल ही में युगांडा में शुरू हुए 19वें गुटनिरपेक्ष आंदोलन (एनएएम) शिखर सम्मेलन की एक झलक प्रदान की। ‘साझा वैश्विक समृद्धि के लिए सहयोग को गहरा करना’ विषय के तहत दो दिवसीय शिखर सम्मेलन, 120 से अधिक विकासशील देशों को एक साथ लाता है, जो इतिहास में एक महत्वपूर्ण क्षण का प्रतीक है। भारत, NAM के एक अग्रणी और संस्थापक सदस्य के रूप में, आंदोलन के सिद्धांतों और मूल्यों के प्रति अपनी प्रतिबद्धता की पुष्टि करते हुए, पूरे दिल से युगांडा के विषय का समर्थन करता है।

 

NAM शिखर सम्मेलन में भारत का रुख

NAM शिखर सम्मेलन में भारत की सक्रिय भागीदारी प्रमुख शक्ति समूहों से स्वतंत्र राष्ट्रों के बीच सहयोग को बढ़ावा देने की उसकी प्रतिबद्धता को रेखांकित करती है। जैसे ही शिखर सम्मेलन शुरू होगा, भारत साझा वैश्विक समृद्धि को बढ़ावा देने के लिए अपने समर्पण को प्रदर्शित करते हुए, NAM देशों के साथ जुड़ने के लिए उत्सुक है।

द्विपक्षीय बैठकें

बेलारूस के साथ बैठक

NAM शिखर सम्मेलन के मौके पर, विदेश मंत्री जयशंकर ने मिस्र और बेलारूस के समकक्षों के साथ बैठकें कीं। बेलारूस के विदेश मंत्री सर्गेई एलेनिक के साथ उनकी चर्चा भारत और बेलारूस के बीच विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग के इर्द-गिर्द घूमती रही। नेताओं ने बातचीत और समझ के महत्व पर जोर देते हुए रूस और यूक्रेन के बीच चल रहे संघर्ष पर भी विचारों का आदान-प्रदान किया।

मिस्र से मुलाकात

मिस्र के विदेश मंत्री समेह शौकरी के साथ एक अलग बैठक में, जयशंकर ने गाजा में चल रहे संघर्ष पर शौकरी की अंतर्दृष्टि की सराहना की। दोनों नेताओं ने 2023 में अपने नेताओं की यात्राओं के आदान-प्रदान के बाद, भारत और मिस्र के बीच द्विपक्षीय सहयोग की निरंतर प्रगति को स्वीकार किया।

क्षेत्रीय संलग्नताएँ

मालदीव के साथ चर्चा

कंपाला में अपने प्रवास के दौरान जयशंकर ने मालदीव के विदेश मंत्री मूसा ज़मीर से मुलाकात की। दोनों मंत्रियों ने भारतीय सैन्यकर्मियों की वापसी और मालदीव में चल रही विकास परियोजनाओं में तेजी लाने पर चर्चा की। उन्होंने दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) और एनएएम के भीतर सहयोग के अवसर भी तलाशे।

अंगोला के साथ जुड़ाव

जयशंकर ने भारत और अंगोला के बीच सहयोग बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित करते हुए अंगोलन के विदेश मंत्री टेटे एंटोनियो के साथ भी चर्चा की। बातचीत व्यापक भारत-अफ्रीका सहयोग तक फैली, जिसमें आपसी विकास और साझा हितों के महत्व पर जोर दिया गया।

बहुपक्षीय सहयोग

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एक्स पर एक पोस्ट में, जयशंकर ने भारतीय नागरिकों के लिए वीज़ा-मुक्त व्यवस्था का विस्तार करने के लिए अंगोला का आभार व्यक्त किया। यह भाव बहुपक्षीय मंचों पर भारत की सक्रिय भागीदारी के सकारात्मक परिणामों को उजागर करता है।

गुटनिरपेक्ष आंदोलन (NAM): एक ऐतिहासिक अवलोकन

पंचशील सिद्धांत पर आधारित शीत युद्ध के दौरान 1961 में स्थापित गुटनिरपेक्ष आंदोलन (NAM) की जड़ें उस अवधारणा से जुड़ी हैं जो 1955 में इंडोनेशिया में एशिया-अफ्रीका बांडुंग सम्मेलन में उभरी थी। सितंबर 1961 में यूगोस्लाविया के जोसिप ब्रोज़ टीटो, भारत के जवाहरलाल नेहरू, घाना के क्वामे नक्रूमा, मिस्र के गमाल अब्देल नासिर और इंडोनेशिया के सुकर्णो जैसे नेताओं के मार्गदर्शन में, उद्घाटन एनएएम शिखर सम्मेलन बेलग्रेड, यूगोस्लाविया में आयोजित किया गया था।

शीतयुद्ध काल में विकासशील देशों को सशक्त बनाना

इस आंदोलन का उद्देश्य संयुक्त राज्य अमेरिका और यूएसएसआर के बीच शीत युद्ध की प्रतिद्वंद्विता के संदर्भ में विकासशील देशों के हितों को आगे बढ़ाना था। अपने प्रारंभिक चरण में, NAM ने मुख्य रूप से भारत, इंडोनेशिया, मिस्र जैसे नए उभरे देशों के विकास पर ध्यान केंद्रित किया। इसने उपनिवेशवाद को ख़त्म करने, नए स्वतंत्र राज्यों की स्थापना और अंतर्राष्ट्रीय संबंधों के लोकतंत्रीकरण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

NAM की वैश्विक उपस्थिति

वर्तमान में, NAM में 120 सदस्य देश शामिल हैं, जो संयुक्त राष्ट्र की कुल सदस्यता का लगभग 60% प्रतिनिधित्व करते हैं। विशेष रूप से, यह आंदोलन औपचारिक प्रशासनिक ढांचे या बजट के बिना संचालित होता है। 18वां NAM शिखर सम्मेलन 2019 में अज़रबैजान के बाकू में 2019 से 2023 तक अज़रबैजान की अध्यक्षता के दौरान हुआ।

 

 

FAQs

शीतयुद्ध का मतलब क्या होता है?

इस युद्ध में दोनों महाशक्तियों ने अपने वैचारिक मतभेद ही प्रमुख रखे। यह एक प्रकार का कूटनीतिक युद्ध था जो महाशक्तियों के संकीर्ण स्वार्थ सिद्धियों के प्रयासों पर ही आधारित रहा। शीत युद्ध एक प्रकार का वाक युद्ध / जो कागज के गोलों, पत्र-पत्रिकाओं, रेडियो तथा प्रचार साधनों तक ही लड़ा गया।