Home   »   सरोजिनी नायडू की 145वीं जयंती, राष्ट्रीय...

सरोजिनी नायडू की 145वीं जयंती, राष्ट्रीय महिला दिवस

सरोजिनी नायडू की 145वीं जयंती, राष्ट्रीय महिला दिवस |_30.1

13 फरवरी, 2024 को सरोजिनी नायडू की 145वीं जयंती है, जो भारत के स्वतंत्रता संग्राम की एक प्रतिष्ठित शख्सियत और “भारत की कोकिला” के नाम से मशहूर कवयित्री थीं।

13 फरवरी, 2024 को सरोजिनी नायडू की 145वीं जयंती है, जो भारत के स्वतंत्रता संग्राम की एक प्रतिष्ठित शख्सियत और “भारत की कोकिला” के नाम से मशहूर कवयित्री थीं। इस दिन को राष्ट्रीय महिला दिवस के रूप में भी जाना जाता है क्योंकि उन्होंने महिलाओं के अधिकारों की वकालत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। 1879 में हैदराबाद के एक बंगाली परिवार में जन्मी सरोजिनी नायडू के भारतीय राजनीति, साहित्य और महिलाओं के अधिकारों में योगदान को पूरे देश में याद किया जाता है और मनाया जाता है। संयुक्त प्रांत के पहले राज्यपाल और एक प्रमुख कवि के रूप में, नायडू के योगदान ने भारत के इतिहास पर एक अमिट छाप छोड़ी है। आइए हम इस उल्लेखनीय महिला के जीवन और विरासत के बारे में जानें।

सरोजिनी नायडू के बारे में मुख्य विवरण

जन्मतिथि: 13 फरवरी 1879
जन्म स्थान: सरोजिनी चट्टोपाध्याय
पति: गोविंदराजुलु नायडू
बच्चे: 5
उपनाम: “नाइटिंगेल ऑफ इंडिया”, “भारत कोकिला” और “बुलबुल-ए-हिंद”
मृत्यु: 2 मार्च 1949
मृत्यु का स्थान: हैदराबाद, ब्रिटिश राज्य

सरोजिनी नायडू – प्रारंभिक जीवन

सरोजिनी नायडू का जन्म 13 फरवरी 1879 को हैदराबाद में एक बंगाली परिवार में हुआ था। उनके पिता, अघोरेनाथ चट्टोपाध्याय, एक प्रतिष्ठित विद्वान और निज़ाम कॉलेज के प्रिंसिपल थे। छोटी उम्र से ही, नायडू ने असाधारण शैक्षणिक कौशल का प्रदर्शन किया और बारह साल की उम्र में मैट्रिक की परीक्षा सर्वोच्च रैंक के साथ उत्तीर्ण की।

सरोजिनी नायडू – शैक्षिक जीवन

नायडू ने अपनी उच्च शिक्षा इंग्लैंड में हासिल की, किंग्स कॉलेज, लंदन और बाद में गिर्टन कॉलेज, कैम्ब्रिज में दाखिला लिया। ब्रिटेन के बौद्धिक परिवेश में डूबने के बाद, उन्हें मताधिकारवादी आंदोलन का सामना करना पड़ा और वे सौंदर्यवादी और पतनशील कलात्मक आंदोलनों से परिचित हो गईं।

सरोजिनी नायडू – वैवाहिक जीवन और परिवार

1898 में, नायडू ने गोविंदराजू नायडू से शादी की, जो एक चिकित्सक थे जिनसे उनकी मुलाकात इंग्लैंड में रहने के दौरान हुई थी। उनका विवाह, एक अंतर्जातीय मेल था, जो उस समय निंदनीय माना जाता था। सामाजिक चुनौतियों के बावजूद, उनका मिलन सौहार्दपूर्ण था और उनके पांच बच्चे हुए। उनकी बेटी पद्मजा, अपनी माँ की तरह, भारत के स्वतंत्रता संग्राम में सक्रिय रूप से शामिल हो गईं।

सरोजिनी नायडू का साहित्यिक एवं राजनीतिक कैरियर

नायडू की साहित्यिक प्रतिभा के कारण उन्हें “भारत की कोकिला” की उपाधि मिली। उनकी कविता, ज्वलंत कल्पना और गीतात्मक गुणवत्ता की विशेषता, भारतीय राष्ट्रवादी भावना के साथ गहराई से गूंजती थी। 1912 में प्रकाशित, “इन द बाज़ार्स ऑफ़ हैदराबाद” उनकी सबसे प्रसिद्ध कृतियों में से एक है।

इसके साथ ही, नायडू भारत की स्वतंत्रता और महिलाओं के अधिकारों की वकालत करने वाली एक प्रमुख राजनीतिक आवाज बनकर उभरीं। महात्मा गांधी के अहिंसक प्रतिरोध के दर्शन से प्रेरित होकर, वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की कट्टर समर्थक बन गईं। नायडू के वक्तृत्व कौशल और जोशीले भाषणों ने पूरे देश में राष्ट्रवादी मकसद के लिए समर्थन जुटाया।

महिला अधिकार अधिवक्ता

नायडू ने राष्ट्रवादी आंदोलन में महिलाओं के अधिकारों की वकालत करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने भारत के स्वतंत्रता संग्राम में महिलाओं की अभिन्न भूमिका पर जोर देते हुए इस बात पर जोर दिया कि सच्ची राष्ट्रीय प्रगति लैंगिक समानता पर निर्भर है। 1917 में, उन्होंने महिला भारतीय संघ की सह-स्थापना की, जिससे महिलाओं को अपनी चिंताओं को उठाने और अपने अधिकारों की मांग करने के लिए एक मंच प्रदान किया गया।

प्रतिरोध का सामना करने के बावजूद, नायडू ने भारत और विदेश दोनों जगह महिलाओं के मताधिकार के लिए लगातार अभियान चलाया। लैंगिक समानता के प्रति उनकी अटूट प्रतिबद्धता ने भारतीय महिलाओं की भावी पीढ़ियों के लिए मार्ग प्रशस्त किया।

सरोजिनी नायडू – अहिंसक प्रतिरोध और राजनीतिक सक्रियता

गांधी के अहिंसक प्रतिरोध के सिद्धांतों के अनुरूप, नायडू ने ब्रिटिश शासन के खिलाफ विभिन्न सविनय अवज्ञा आंदोलनों में सक्रिय रूप से भाग लिया। भारत के स्वतंत्रता संग्राम के प्रति अपनी अटूट प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करते हुए वह 1930 में गांधी के नमक सत्याग्रह में शामिल हुईं।

अपने पूरे जीवन में, नायडू को भारत छोड़ो आंदोलन और अन्य राष्ट्रवादी गतिविधियों में शामिल होने के लिए कई गिरफ्तारियों और कारावासों का सामना करना पड़ा। विपरीत परिस्थितियों में उनके साहस और लचीलेपन ने अनगिनत भारतीयों को स्वतंत्रता की लड़ाई में शामिल होने के लिए प्रेरित किया।

सरोजिनी नायडू – मृत्यु और विरासत

फरवरी में नई दिल्ली से लौटने पर बिगड़ते स्वास्थ्य का अनुभव करने के बाद, 2 मार्च, 1949 को कार्डियक अरेस्ट से सरोजिनी नायडू का निधन हो गया। उन्हें भारत की नारीवादी प्रतीकों में से एक के रूप में मनाया जाता है, उनके जन्मदिन, 13 फरवरी को महिला दिवस के रूप में मनाया जाता है। संगीतकार हेलेन सियरल्स वेस्टब्रुक ने “इनविंसिबल” गीत में अपनी कविता को अमर बना दिया। हैदराबाद विश्वविद्यालय में गोल्डन थ्रेशोल्ड और क्षुद्रग्रह 5647 सरोजिनीनायडू उनकी स्थायी विरासत को श्रद्धांजलि देते हैं। गूगल इंडिया ने 2014 में उनकी 135वीं जयंती पर डूडल बनाकर उनका सम्मान किया।

सरोजिनी नायडू के प्रेरक उद्धरण

यहां भारत की कोकिला सरोजिनी नायडू द्वारा दिए गए कुछ प्रसिद्ध उद्धरण दिए गए हैं:

  • The art of people reflects their creative energy and genius, their aesthetic tastes, their national character and mentality.
  • A little word of kindness, a little smile of sympathy, a little act of helpfulness, or a little thought of love – it is these little things that matter.
  • The true service of our country, like the service of our family, is the service of love.
  • Poetry comes from the highest happiness or the deepest sorrow.
  • Life is a pilgrimage of learning, a voyage of discovery.
  • We must not only be good but also be good for something.

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

Q1. सरोजिनी नायडू का जन्म कब हुआ था?
Q2. सरोजिनी नायडू का उपनाम क्या है?
Q3. सरोजिनी नायडू ने अपनी उच्च शिक्षा कहाँ प्राप्त की? सरोजिनी नायडू ने किस राजनीतिक दल का समर्थन किया?
Q4. 1917 में सरोजिनी नायडू ने किस संगठन की सह-स्थापना की थी?
Q5. 1930 में गांधीजी के नेतृत्व में सरोजिनी नायडू किस आंदोलन में शामिल हुईं?
Q6. सरोजिनी नायडू का निधन कब हुआ?

सरोजिनी नायडू की 145वीं जयंती, राष्ट्रीय महिला दिवस |_40.1

FAQs

हाल ही में किस महिला खिलाड़ी ने अंतर्राष्ट्रीय हॉकी से संन्यास लेने की घोषणा की है?

दीप ग्रेस एक्का।