Thursday, 5 April 2018

भारतीय रिजर्व बैंक ने जारी किया पहला द्वि-मासिक मौद्रिक नीति वक्तव्य

भारतीय रिजर्व बैंक ने जारी किया पहला द्वि-मासिक मौद्रिक नीति वक्तव्य


बैठक में वर्तमान और विकसित व्यापक आर्थिक स्थिति के आकलन के आधार पर, मौद्रिक नीति समिति (MPC) ने पॉलिसी रेपो दर को तरलता समायोजन सुविधा (LAF) के तहत 6.0% पर अपरिवर्तित रखने का फैसला किया है.
नतीजतन, एलएएफ के तहत रिवर्स रिपो रेट (RRR) 5.75% बना हुआ है और सीमांत स्थायी सुविधा (MSF) की दर और बैंक दर 6.25% है. भारत के वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद (GDP) की वृद्धि दर  पहले के अनुमान के मुकाबले 6.5% से ऊपर 6.6% तक बढ़ी है. 2016-17 में जीडीपी विकास दर 6.6% जो 7.1% से कम थी. 

सीपीआई में वर्ष-दर-वर्ष में होने वाले बदलावों से मापा गया खुदरा मुद्रास्फीति जनवरी में 5.1% की उच्चतम स्तर से गिरकर फरवरी में 4.4% हो गया था, क्योंकि खाद्य और ईंधन में मुद्रास्फीति में गिरावट आई थी. जून 2017 में अपनी गर्त से बढ़ने के बाद, फरवरी में लगातार तीसरे महीने के दौरान खाद्य और ईंधन को छोड़कर सीपीआई मुद्रास्फीति 5.2% पर अपरिवर्तित रही. 

                                                                                                                                  स्रोत- दि आरबीआई 


सिंडिकेट बैंक पीओ 2018 के लिए मुख्य तथ्य-
  • डॉ. उरजीत पटेल भारतीय रिज़र्व बैंक के 24 वें गवर्नर हैं. 
  • आरबीआई का मुख्यालय मुंबई में है. 

Post a Comment

Whatsapp Button works on Mobile Device only

Start typing and press Enter to search