Home   »   ₹2000 के 97.26% नोट बैंकों में...

₹2000 के 97.26% नोट बैंकों में वापस, RBI ने किया खुलासा

₹2000 के 97.26% नोट बैंकों में वापस, RBI ने किया खुलासा |_30.1

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने अपनी मौद्रिक नीति में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है क्योंकि उसने 19 मई, 2023 तक ₹2,000 के 97.26 प्रतिशत बैंक नोटों को प्रचलन से सफलतापूर्वक वापस ले लिया है।

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने अपनी मौद्रिक नीति में एक महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है क्योंकि उसने 19 मई, 2023 तक ₹2,000 के 97.26 प्रतिशत बैंक नोटों को प्रचलन से सफलतापूर्वक वापस ले लिया है। यह कदम अपने उद्देश्य की पूर्ति के कारण शुरू किया गया था। ये नोट, नवंबर-दिसंबर 2016 के विमुद्रीकरण के दौरान प्रचलन में सभी ₹500 और ₹1,000 बैंक नोटों की कानूनी निविदा स्थिति को वापस लेने के बाद अर्थव्यवस्था की मुद्रा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए थे।

पृष्ठभूमि

नवंबर और दिसंबर 2016 में, भारत में एक ऐतिहासिक विमुद्रीकरण प्रक्रिया देखी गई जब सरकार ने प्रचलन में सभी ₹500 और ₹1,000 के बैंक नोटों को अमान्य करने का निर्णय लिया। इस साहसिक कदम का उद्देश्य काले धन, नकली मुद्रा पर अंकुश लगाना और डिजिटल लेनदेन को बढ़ावा देना था। विमुद्रीकरण द्वारा उत्पन्न शून्य को बदलने के लिए, RBI ने उनकी प्रामाणिकता सुनिश्चित करने के लिए उन्नत सुरक्षा सुविधाओं के साथ ₹2,000 के बैंक नोट पेश किए।

वापसी प्रक्रिया

19 मई, 2023 तक तेजी से आगे बढ़ते हुए, जब आरबीआई ने ₹2,000 के बैंक नोटों को वापस लेने की घोषणा की। उस समय प्रचलन में इन नोटों की कुल कीमत 3.56 लाख करोड़ रुपये थी। इन नोटों को शुरू करने का उद्देश्य अनिवार्य रूप से पूरा हो गया क्योंकि अन्य मूल्यवर्ग के बैंक नोट पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध हो गए। इसने वापसी प्रक्रिया की शुरुआत को चिह्नित किया।

उल्लेखनीय सफलता

कई महीनों तक चली वापसी प्रक्रिया किसी उल्लेखनीय सफलता से कम नहीं है। 30 नवंबर, 2023 तक, प्रचलन में ₹2,000 बैंक नोटों का कुल मूल्य घटकर ₹9,760 करोड़ हो गया है, जो शुरुआती ₹3.56 लाख करोड़ से महत्वपूर्ण कमी दर्शाता है।

सफलता के कारण

₹2,000 के बैंक नोटों की सफल निकासी के लिए कई कारकों को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है:

  • अन्य मूल्यवर्ग की उपलब्धता: आरबीआई ने सुनिश्चित किया कि कम मूल्यवर्ग की मुद्रा पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध कराई जाए, जिससे ₹2,000 के नोटों पर निर्भरता कम हो गई।
  • सार्वजनिक जागरूकता: केंद्रीय बैंक ने वैकल्पिक मूल्यवर्ग की निकासी और स्वीकृति के बारे में जनता को शिक्षित करने के लिए व्यापक जागरूकता अभियान चलाया।
  • डिजिटल लेनदेन: डिजिटल भुगतान पर जोर और डिजिटल वॉलेट के प्रसार ने भौतिक नकदी के विकल्प प्रदान किए, जिससे उच्च मूल्यवर्ग के नोटों की मांग कम हो गई।

निष्कर्ष

भारतीय रिज़र्व बैंक का ₹2,000 के नोट वापस लेने का निर्णय एक सुनियोजित और क्रियान्वित रणनीति साबित हुई है। यह भारतीय अर्थव्यवस्था की अनुकूलनशीलता और डिजिटल लेनदेन की ओर उसके परिवर्तन को दर्शाता है। इन नोटों की सफल वापसी के साथ, आरबीआई देश के मौद्रिक परिदृश्य को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है।

परीक्षा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न

प्रश्न 1: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने मई 2023 में ₹2,000 के बैंक नोटों को वापस लेने की पहल क्यों की?

उत्तर: यह पहल 2016 में ₹500 और ₹1,000 के नोटों के विमुद्रीकरण के बाद मुद्रा आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए की गई। आरबीआई ने 2016 में ₹500 और ₹1,000 के नोटों के विमुद्रीकरण के बाद उन्हें शुरू करने के उद्देश्य को पूरा करने के लिए ₹2,000 के बैंक नोटों को वापस लेने की पहल की।

प्रश्न 2: 19 मई, 2023 को प्रचलन में ₹2,000 बैंक नोटों का कुल मूल्य क्या था?

उत्तर: 19 मई, 2023 को प्रचलन में ₹2,000 बैंक नोटों का कुल मूल्य ₹3.56 लाख करोड़ था।

प्रश्न 3: 30 नवंबर, 2023 तक प्रचलन में ₹2,000 बैंक नोटों का कुल मूल्य क्या है?

उत्तर: 30 नवंबर, 2023 तक, प्रचलन में ₹2,000 बैंक नोटों का कुल मूल्य घटकर ₹9,760 करोड़ हो गया है।

Find More News Related to Banking

₹2000 के 97.26% नोट बैंकों में वापस, RBI ने किया खुलासा |_40.1

FAQs

12 माह की अवधि के दौरान अभ्युदय सहकारी बैंक के मामलों के प्रबंधन के लिए प्रशासक के रूप में किसे नियुक्त किया गया है?

भारतीय स्टेट बैंक के पूर्व मुख्य महाप्रबंधक सत्य प्रकाश पाठक को नियामक हस्तक्षेप के दौरान अभ्युदय सहकारी बैंक के मामलों की देखरेख और प्रबंधन के लिए प्रशासक के रूप में नियुक्त किया गया है।

TOPICS: