Home   »   प्रधानमंत्री मोदी लोकमान्य तिलक पुरस्कार से...

प्रधानमंत्री मोदी लोकमान्य तिलक पुरस्कार से सम्मानित

प्रधानमंत्री मोदी लोकमान्य तिलक पुरस्कार से सम्मानित |_30.1

लोकमान्य तिलक की 103वीं पुण्य तिथि के उपलक्ष्य में आयोजित एक समारोह के दौरान भारत के प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी को पुणे, महाराष्ट्र में लोकमान्य तिलक राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किया गया। 1983 में तिलक स्मारक मंदिर ट्रस्ट द्वारा स्थापित इस प्रतिष्ठित पुरस्कार का उद्देश्य लोकमान्य तिलक की स्थायी विरासत का सम्मान करना है। नरेंद्र मोदी यह सम्मानित सम्मान पाने वाले 41वें प्रतिष्ठित व्यक्ति बन गए।

लोकमान्य तिलक राष्ट्रीय पुरस्कार के कुछ उल्लेखनीय प्राप्तकर्ताओं की सूची:

Name Position/Title Year of Award
इंदिरा गांधी पूर्व प्रधानमंत्री    _
अटल बिहारी वाजपेयी पूर्व प्रधानमंत्री 1994
डॉ.मनमोहन सिंह पूर्व प्रधानमंत्री 1997
राहुल बजाज बजाज समूह के अध्यक्ष 2000
प्रणब मुखर्जी पूर्व राष्ट्रपति 2009
शरद पवार राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के संस्थापक 2016
साइरस एस. पूनावाला साइरस पूनावाला समूह के अध्यक्ष 2021

 

क्या है लोकमान्य तिलक राष्ट्रीय पुरस्कार?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पुणे में लोकमान्य तिलक राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया। आयोजकों ने कहा कि यह पुरस्कार उनके सर्वोच्च नेतृत्व को मान्यता देता है, जिसके तहत भारत प्रगति की सीढ़ियां चढ़ गया है। लोकमान्य तिलक की पुण्य तिथि के अवसर पर हर साल ये पुरस्कार दिया जाता है। लोकमान्य तिलक भारत के स्वतंत्रता संग्राम में अहम भूमिका निभाने के लिए जाने जाते हैं। पीएम मोदी यह अवार्ड पाने वाले 41वें व्यक्ति हैं। इससे पहले ये अवार्ड इंदिरा गांधी, अटल बिहारी वाजपेयी, शरद पवार, राहुल बजाज, साइरस पूनावाला, मनमोहन सिंह मिल चुका है।

FAQs

तिलक को लोकमान्य की उपाधि किसने दी थी?

मराठी में 'लोकमान्य' शब्द का अर्थ 'लोगों द्वारा स्वीकृत' होता है। तिलक को यह उपाधि महाराष्ट्र के लोगों द्वारा दी गई थी जब वह भारत में ब्रिटिश शासन के खिलाफ लड़ रहे थे।