Home   »   National Voters Day 2023 जानें क्यों...

National Voters Day 2023 जानें क्यों मनाते हैं राष्ट्रीय मतदाता दिवस?

National Voters Day 2023 जानें क्यों मनाते हैं राष्ट्रीय मतदाता दिवस? |_50.1

हर साल 25 जनवरी का दिन भारत में नेशनल वोटर्स डे यानी राष्ट्रीय मतदाता दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत निर्वाचन आयोग 25 जनवरी 2023 को 13वां राष्ट्रीय मतदाता दिवस मना रहा है। किसी भी लोकतांत्रिक देश में सरकार बनाने में मतदाताओं की सबसे बड़ी और अहम भूमिका होती है। मतदाता अपने कीमती वोट से किसी भी पार्टी को पांच साल के लिए सत्ता में ला सकते हैं।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

राष्ट्रीय मतदाता दिवस का उद्देश्य

इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य लोगों को अपने मतदान के प्रति जागरुक करना और निष्पक्ष होकर मतदान करने को लेकर प्रेरित करना है। सभी 18 साल के हो चुके वयस्क युवकों का Voter List में नाम जोड़ना और अपने वोट के प्रति उन्हें जागरुक करना वोटर डे मनाने का उद्देश्य होता है।

 

राष्ट्रीय मतदाता दिवस 2023 की थीम

हर साल राष्ट्रीय मतदाता दिवस एक थीम के साथ मनाया जाता है। इस साल 2023 के राष्ट्रीय मतदाता दिवस की थीम है ‘वोटिंग बेमिसाल है, मैं अवश्य वोट देता हूं।’ साल 2022 में राष्ट्रीय मतदाता दिवस “समावेशी, सुगम एवं सहभागी निर्वाचन की ओर अग्रसर” थीम के साथ मनाया गया था।

 

राष्ट्रीय मतदाता दिवस का इतिहास

भारतीय चुनाव आयोग (election Commission of India) की स्थापना 1950 में हुई, जिसके 61वें स्थापना वर्ष 25 जनवरी 2011 से राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाने का फैसला लिया गया और तत्कालीन राष्ट्रपति श्रीमति प्रतिभा देवी सिंह पाटिल ने इसकी शुरुआत की थी। भारत का लोकतंत्र विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र माना जाता है, इसी को देखते हुए राष्ट्रीय मतदान दिवस (National Voter Day) मनाने का निर्णय लिया गया था।

 

सभी प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए महत्वपूर्ण टेकअवे:

 

  • भारत के चुनाव आयोग का गठन: 25 जनवरी 1950;
  • भारत का चुनाव आयोग मुख्यालय: नई दिल्ली;
  • भारत का चुनाव आयोग पहले मुख्य चुनाव आयुक्त: सुकुमार सेन;
  • भारत का चुनाव आयोग वर्तमान मुख्य चुनाव आयुक्त: राजीव कुमार।

 

Find More Important Days Here

National Voters Day 2023 जानें क्यों मनाते हैं राष्ट्रीय मतदाता दिवस? |_60.1

FAQs

भारत के प्रथम मुख्य चुनाव आयुक्त कौन है?

सुकुमार सेन भारत के पहले मुख्य चुनाव आयुक्त थे जो 21 मार्च 1950 से लेकर 19 दिसम्बर 1958 तक इस पद पर रहे। इनकी सेवाओं के लिए सन् १९५४ में इन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया। ये पश्चिम बंगाल राज्य से हैं।

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *