Home   »   महिंद्रा एंड महिंद्रा का बड़ा दांव:...

महिंद्रा एंड महिंद्रा का बड़ा दांव: ऑटोमोबाइल क्षेत्र में ₹26,000 करोड़ का निवेश

महिंद्रा एंड महिंद्रा का बड़ा दांव: ऑटोमोबाइल क्षेत्र में ₹26,000 करोड़ का निवेश_3.1

मोटर वाहन क्षेत्र में बढ़ती मांग की प्रत्याशा में, महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड ने अगले तीन वर्षों में अपने मोटर वाहन कारोबार में ₹ 26,000 करोड़ का निवेश करने की योजना का अनावरण किया है। यह महत्वपूर्ण निवेश FY25 से FY27 तक होगा और इसका उद्देश्य नए वाहनों को विकसित करना और उत्पादन क्षमता बढ़ाना है.

इलेक्ट्रिक वाहनों में बड़ा निवेश

निवेश का एक बड़ा हिस्सा, 12,000 करोड़ रुपये, कंपनी की इलेक्ट्रिक वाहन इकाई महिंद्रा इलेक्ट्रिक ऑटोमोबाइल लिमिटेड (एमएएलई) को आवंटित किया गया है। फंड का उपयोग उन्नत तकनीकों से लैस विश्व स्तरीय इलेक्ट्रिक एसयूवी पोर्टफोलियो बनाने और विपणन के लिए किया जाएगा। महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड के प्रबंध निदेशक अनीश शाह ने कंपनी की विकास रणनीति के लिए आईसीई और इलेक्ट्रिक वाहनों दोनों के महत्व पर जोर दिया।

व्यापार क्षेत्रों में निवेश का वितरण

शेष निवेश निम्नानुसार वितरित किया जाएगा:

  • एसयूवी कारोबार: कंपनी की एसयूवी लाइनअप को मजबूत करने के लिए 8,500 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा।
  • वाणिज्यिक वाहन: वाणिज्यिक वाहन खंड को बढ़ाने के लिए 4,000 करोड़ रुपये आवंटित किए गए हैं।
  • कृषि उपकरण: ₹5,000 करोड़ कृषि उपकरण व्यवसाय की ओर निर्देशित किए जाएंगे।

क्षमता विस्तार योजनाएं

महिंद्रा एंड महिंद्रा अपनी उत्पादन क्षमताओं को काफी बढ़ाने की योजना बना रहा है। वित्त वर्ष 2025 तक कंपनी का लक्ष्य अपनी एसयूवी क्षमता को 5,000 इकाइयों और अपनी इलेक्ट्रिक वाहन क्षमता को 10,000 इकाइयों तक बढ़ाने का है। FY26 के अंत तक, अतिरिक्त 8,000 यूनिट इलेक्ट्रिक वाहन क्षमता की उम्मीद है, जिससे समग्र SUV क्षमता 72,000 यूनिट हो जाएगी.

नए वाहन का परिचय

कंपनी के पास एक आक्रामक उत्पाद लॉन्च शेड्यूल है, जिसमें शामिल हैं:

  • 9 नई आईसीई एसयूवी: इसमें तीन मिड-साइकिल एन्हांसमेंट और एक्सयूवी3एक्सओ का लॉन्च शामिल है।
  • 7 बोर्न इलेक्ट्रिक वाहन (बीईवी)
  • 7 हल्के वाणिज्यिक वाहन (एलसीवी)

विकास अनुमान

महिंद्रा एंड महिंद्रा चालू वित्त वर्ष के लिए मध्यम से उच्च स्तर की विकास दर का लक्ष्य रख रही है। कंपनी का लक्ष्य 2027 तक अपने एसयूवी पोर्टफोलियो का 30% तक इलेक्ट्रिक होना है, जो खुद को इलेक्ट्रिक वाहन बाजार में एक महत्वपूर्ण खिलाड़ी के रूप में स्थापित करता है।

रणनीतिक निवेश और सहयोग

ताजा निवेश ब्रिटिश इंटरनेशनल इन्वेस्टमेंट (BII) और Temasek से निरंतर समर्थन के साथ आता है। बीआईआई ने अब तक 1,200 करोड़ रुपये का निवेश किया है, जिसमें अतिरिक्त 725 करोड़ रुपये बाकी हैं। टेमासेक ने 300 करोड़ रुपये का निवेश किया है और पूर्व में सहमत समयसीमा के अनुसार 900 करोड़ रुपये का निवेश करेगी।

हाल का प्रदर्शन और बाजार की स्थिति

महिंद्रा एंड महिंद्रा ने पिछले एक साल में मजबूत प्रदर्शन का आनंद लिया है, जिसमें ऑटो बिक्री FY24 में पहली बार 100,000 यूनिट से अधिक हो गई है. एसयूवी सेगमेंट में कंपनी का रेवेन्यू मार्केट शेयर 130 बेसिस पॉइंट्स बढ़कर 20.4% हो गया, जो वॉल्यूम में 18% की ग्रोथ से प्रेरित है।

List of Cricket Stadiums in Andhra Pradesh_70.1

FAQs

आईआईटी मद्रास की स्थापना कब हुई थी?

संस्थान का उद्घाटन 1959 में तत्कालीन केंद्रीय वैज्ञानिक अनुसंधान और सांस्कृतिक मामलों के मंत्री द्वारा किया गया था। पहले बैच में पूरे भारत से 120 छात्रों की कुल संख्या थी। 1961 में, IIT को राष्ट्रीय महत्व के संस्थान घोषित किया गया था।

TOPICS: