Home   »   श्रीलंका के सबरागमुवा विश्वविद्यालय में एक...

श्रीलंका के सबरागमुवा विश्वविद्यालय में एक हिंदी पीठ स्थापित करने पर समझौता

श्रीलंका के सबरागमुवा विश्वविद्यालय में एक हिंदी पीठ स्थापित करने पर समझौता |_50.1

विश्‍व हिंदी दिवस के अंर्तगत भारतीय उच्चायोग ने श्रीलंका के सबरागमुवा विश्वविद्यालय में एक हिंदी पीठ स्थापित करने के समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। भारतीय उच्‍चायुक्‍त गोपाल बागले और विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर उदय रत्‍नायके ने भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद् के माध्यम से दोनों देशों के बीच सांस्‍कृतिक जुड़ाव के उद्देश्‍य से ये समझौता किया है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

हिंदी पीठ के माध्‍यम से छात्र भारत और उसके इतिहास तथा संस्कृति से अवगत होंगे। इस अवसर पर बागले ने विश्वविद्यालय में आयोजित हिंदी कविता प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कार भी प्रदान किए। समझौता ज्ञापन का उद्देश्य भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद के माध्यम से भारत के सांस्कृतिक संबंध के एक भाग के रूप में हिंदी पीठ की स्थापना करना है। हिंदी चेयर सबरागमुवा विश्वविद्यालय के छात्रों को भारत, इसके इतिहास और इसकी संस्कृति से परिचित कराने में मदद करेगी। यह भारतीय संकायों को प्रतिनियुक्त करके हिंदी को लोकप्रिय बनाने का मार्ग भी प्रशस्त करेगा।

 

प्रमुख बिंदु

  • भारत के उच्चायोग और सबरागमुवा विश्वविद्यालय के कुलपति ने दोनों देशों के बीच सांस्कृतिक जुड़ाव के लिए हिंदी चेयर स्थापित करने के लिए एक समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए।
  • विश्व हिंदी दिवस के बाद भारत और श्रीलंका के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए।
  • उच्चायोग ने आयोजन के लिए नवीन रणनीतियों को अपनाकर संसाधनों के सतत उपयोग पर जोर दिया है।
  • भारतीय मिशन हिंदी चेयर के सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले छात्र को स्वर्ण पदक भी प्रदान करेगा।
  • सबरागामुवा विश्वविद्यालय बेलिहुलोया, बालंगोडा, श्रीलंका में स्थित एक सार्वजनिक विश्वविद्यालय है।

 

सबरागमुवा विश्वविद्यालय के बारे में

 

श्रीलंका का सबरागमुवा विश्वविद्यालय बेलिहुलोया, बालंगोडा, श्रीलंका में स्थित एक सार्वजनिक विश्वविद्यालय है। यह 20 नवंबर 1991 को स्थापित किया गया था। सबरागमुवा प्रांत में व्यवस्थित शिक्षा दंबदेनिया काल के राजा पराक्रमबाहु द्वितीय के समय से देखी जा सकती है। उनके संरक्षण के तहत रत्नापुरा जिले के पालबड्डाला क्षेत्र में 13 वीं शताब्दी के एक मठवासी विश्वविद्यालय देव पथिराज पिरीवेना का निर्माण किया गया था। सबरागमुवा विश्वविद्यालय समकालीन श्रीलंका का 12वां राष्ट्रीय विश्वविद्यालय है।

 

Find More International News Here

श्रीलंका के सबरागमुवा विश्वविद्यालय में एक हिंदी पीठ स्थापित करने पर समझौता |_60.1

 

FAQs

श्रीलंका का पुराना नाम क्या है?

1972 तक इसका नाम सीलोन (Ceylon) था, जिसे 1972 में बदलकर लंका तथा 1978 में इसके आगे सम्मानसूचक शब्द "श्री" जोड़कर श्रीलंका कर दिया गया।

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *