Home   »   ग्लोबल फायर पावर इंडेक्स, शीर्ष 4...

ग्लोबल फायर पावर इंडेक्स, शीर्ष 4 सैन्य रैंकिंग में कोई बदलाव नहीं

ग्लोबल फायर पावर इंडेक्स, शीर्ष 4 सैन्य रैंकिंग में कोई बदलाव नहीं |_50.1

डिफेंस स्टेटिक्स वेबसाइट ग्लोबल फायर पावर (GFP) ने हाल ही में सबसे ताकतवर देशों की लिस्ट जारी की है। ग्लोबल फायर पावर मिलिट्री स्ट्रैंथ इंडेक्स 2023 के अनुसार, तुर्की एक बार फिर मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीकी क्षेत्र का सबसे ताकतवर देश बनकर उभरा है। इस इंडेक्स में दूसरे और तीसरे स्थान पर क्रमशः मिस्र और ईरान है. ताकतवर देशों की लिस्ट में गल्फ कंट्री सऊदी अरब पांचवें तो यूएई को आठवें स्थान पर रखा गया है। तुर्की वैश्विक रैंकिंग में भी दो पायदान की छलांग लगाते हुए 11वें स्थान पर पहुंच गया है। ग्लोबल फायर पावर ने इस सूचकांक में दुनिया भर के 145 देशों की सैन्य ताकत की समीक्षा आठ फैक्टर के आधार पर की है। इस फैक्टर में सेना की संख्या, राष्ट्रीय संसाधन, वित्तीय स्थिति, लॉजिस्टिक और भौगोलिक पैमाना शामिल है।

Buy Prime Test Series for all Banking, SSC, Insurance & other exams

दूसरे स्थान पर मौजूद मिस्र को अपनी सैन्य शक्ति के मामले में सबसे शक्तिशाली अरब देश के रूप में स्थान दिया गया है। वैश्विक रैंकिंग में मिस्र 14वें स्थान पर है। इस इंडेक्स के अनुसार, ईरान के पास मध्य पूर्व क्षेत्र में तीसरी सबसे शक्तिशाली सेना है। वैश्विक रैंकिंग में ईरान को 17वां स्थान दिया गया है। खाड़ी सहयोग परिषद (Gulf Cooperation Council) देशों में सऊदी अरब सबसे शक्तिशाली देश है। सऊदी अरब के पास अरब देशों में दूसरी सबसे शक्तिशाली सेना है और इसकी वैश्विक रैंकिंग 22वीं है।

 

उत्तरी अफ्रीकी देशों की बात करें तो सैन्य क्षमताओं के मामले में अल्जीरिया को सबसे शक्तिशाली देश बताया गया है। वैश्विक सूचकांक में यह 26वें स्थान पर है। मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका क्षेत्र में इराक के पास सातवीं और वैश्विक स्तर पर 45वीं सबसे शक्तिशाली सेना है। संयुक्त अरब अमीरात (UAE) खाड़ी क्षेत्र में दूसरी और वैश्विक स्तर पर 56वीं सबसे शक्तिशाली सेना है। इंडेक्स के अनुसार, मोरक्को नौवां सबसे शक्तिशाली देश है। इसकी ग्लोबल रैंकिंग 61वीं है। इस सूचकांक में लेबनान को मध्यपूर्व का सबसे कमजोर देश बताया गया है।

 

ग्लोबल फायर पावर इंडेक्स, शीर्ष 4 सैन्य रैंकिंग में कोई बदलाव नहीं |_60.1

 

FAQs

विश्व को ग्लोबल क्यों कहा जाता है?

मार्शल मैकलुहान ने सबसे पहले विश्व को ग्लोबल विलेज कहा था उनका कहना था कि इलेक्ट्रॉनिक तकनीके लोगो को आपस में इतनी आसानी से जोड़ रही है कि यह विश्व एक ग्लोबल विलेज की तरह हो गया है जहा हर तरह के लोगो के लिए रहने की व्यवस्था की गयी है।

Thank You, Your details have been submitted we will get back to you.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *